Solar Panel क्या है | Solar Panel को कैसे बनाया जाता है- हिंदी में

हेलो दोस्तों आज हम आपको सोलर पैनल क्या है सोलर पैनल को कैसे बनाया जाता है से जुड़ी पूरी जानकारी अपनी इस आर्टिकल में देंगे सोलर पैनल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘One Sun One World One Grid की बात कही जो कि सौर ऊर्जा को भारत में बढ़ावा देने की एक नई पहल है और इसके अलावा प्रधानमंत्री ने World Solar Bank बनाने की बात भी कह दी है।

इसलिए आपका Solar Panel के बारे में जानना बहुत जरूरी है यह Electricity का सबसे अच्छा साधन है जो कि काफी समय तक चलता है आने वाले कुछ समय में इसकी मांग और इसका उपयोग काफी ज्यादा होगा अधिकतर लोग सोलर पैनल का उपयोग अब घरों में भी करने लग गये हैं सोलर पैनलस लगाने पर आम बिजली की तुलना में कम बिजली खर्च होती है 

Solar Panel क्या है ?

Solar Panel

सोलर पैनल यानी कि सौर ऊर्जा सूर्य से प्राप्त प्रकाश के द्वारा सोलर पैनल से बिजली उत्पन्न की जाती है सोलर पैनल में बहुत ही छोटे छोटे Solar Cell होते हैं जो कि सूर्य के प्रकाश पड़ने पर बिजली उत्पन्न करते हैं सूर्य की ऊष्मा को सोलर पैनल विद्युत ऊर्जा में बदल देता है जिससे बिजली उत्पन्न होती है और हम उस विद्युत को अपने घर,खेतों,कार्यालयों में उपयोग कर सकते हैं।

दोस्तों आपने ISS(International Space Station) के बारे में तो सुना ही होगा जो अंतरिक्ष की एक Satellite है यह कई देशों को अंतरिक्ष से संबंधित जरूरी सूचनाओं को प्रदान करता है दोस्तों इसमें लगे सोलर पैनल ही International Space Station को बिजली प्रदान करते हैं अंतरिक्ष में सूर्य कभी भी नहीं छिपता इसलिए Solar Panel पर हमेशा सूर्य की रोशनी पढ़ती रहती है जिससे Space Station की बिजली की जरूरत पूरी होती है और यह सोलर पैनल इतने बड़े हैं कि वह पूरे इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की बिजली प्रदान करते हैं ।

Solar Panel को कैसे बनाया जाता है ?

सोलर सेल बनाने के लिए सिलिकॉन की जरूरत पड़ती है सिलिकॉन हमें आसानी से रेत(सिलिकॉन ऑक्साइड) को कार्बन के साथ 2000° सेल्सियस तापमान पर गर्म करने पर मिल जाता है जिससे हम आसानी से रेत में से सिलिकॉन को निकाल लेते हैं-

अब हम आपको Solar Panel Manufacturing Process बताएंगे कि सोलर पैनल को कैसे बनाया जाता है-

▪︎Cell Cutting By Laser Machine-

सोलर पैनल बनाने की प्रक्रिया सबसे पहले सेल की कटिंग के साथ शुरू होती है जिसे लेजर से काटा जाता है छोटे मॉडल मे लेज़र के साथ Cell Cutting की जाती है।

▪︎Cell Welding In Stringer Machine-

सेल की कटिंग करने के बाद अब हमारी अगली प्रक्रिया stringe बनाने की होती है Automatic Stringer Machine के साथ 30mm के ऊपर का कट सेल और फूल सेल तैयार कर सकते हैं cut cell तैयार होने के बाद +,- सीरीज में जुड़ेगा दोस्तों जो सोलर पैनल का नीले रंग का भाग होता है वह (-)नेगेटिव भाग होता है और Bottom का सफेद भाग (+)पॉजिटिव भाग होता है।

▪︎visual Inspection-

Stringe पूरा होने के बाद सेल को आगे की प्रक्रिया के लिए भेज दिया जाता है जहां सेल का विजुअल इंस्पेक्शन होता है जिस भी स्ट्रिंग में कोई खराबी आती है तो उसे अलग कर दिया जाता है इसके बाद connection की Soldering की जाती है उसके बाद जो अतिरिक्त Material होता है उसे काटकर अलग कर दिया जाता है।

▪︎Insulate Module Connections-

कनेक्शन की सोल्डरिंग होने के बाद अगली प्रक्रिया के लिए क्रीम को भेजा जाता है आप सोलर पैनल के कनेक्शन को Insulate किया जाता है इसमें बेडशीट और E.V का प्रयोग किया जाता है जिससे सोलर पैनल धूल और नमी से बचा रहे।

▪︎Mirror Observation- 

इस प्रक्रिया में अब बने हुए मॉड्यूल को चेक किया जाता है कि कहीं मॉड्यूल में कोई विजुअल इफेक्ट तो नहीं इसमें धूल के कण तो नहीं यह सब चेक करने के बाद अगली प्रक्रिया शुरू होती है।

▪︎ EL Testing –

इसमें मॉड्यूल का EL Test टेस्ट करते हैं इसमें जो मॉड्यूल होता है उसकी EL Testing इमेज मिलती है जिसमें माइक्रो क्रैक,डेड सेल,Low Power Cell को डिटेक्ट किया जाता है अगर इनमें से कुछ समस्या मॉड्यूल में आती है तो इसे सबसे पहले रिपेयर किया जाता है।

▪︎Lamination Process –

अब मॉड्यूल को लेमिनेशन प्रक्रिया के द्वारा 140 डिग्री पर लैमिनेट किया जाता है लैमिनेट के बाद मॉड्यूल वाटरप्रूफ धूल कणों से मुक्त होता है और अत्यधिक गर्म होने पर इसे 5 से 10 मिनट के लिए ठंडा होने के लिए रख दिया जाता है।

▪︎Trimming Process-

इस प्रक्रिया में मॉड्यूल के अतिरिक्त मेटेरियल को अलग कर दिया जाता है।

▪︎Frame Cutting-

इसके बाद मॉड्यूल को छोटे-बड़े फ्रेम में काटा जाता है frame Cutting machine के द्वारा यह काम किया जाता है।

▪︎Framing,Glue,Junction Box –

ग्लू लगाकर सीलेन को मॉड्यूल से अटैच किया जाता है अटैच होने के बाद मॉड्यूल को फ्रेमिंग मशीन में रखकर दबाया जाता है जिससे Solar Panel से अच्छी तरह से जुड़ जाता है इसके बाद सोलर पैनल में Junction Box को लगाया जाता है तथा उसके बाद कनेक्शन की Soldering की जाती है इसके बाद सोलर पैनल को 10 से 12 घंटे तक सूखने के लिए रख दिया जाता है।

▪︎Module Cleaning –

इसके बाद तैयार सोलर पैनल को अच्छे से साफ किया जाता है ताकि इस पर से धूल कण को अच्छे से साफ किया जा सके।

तो दोस्तों इस तरह से सोलर पैनल को बनाया जाता है।

Solar Panel कितने प्रकार के होते हैं ?

दोस्तों वैसे तो सोलर पैनल 3 तरह के होते हैं
पहला – Monocrystalline
दूसरा – Polycrystalline
तीसरा- Thinfilm

इसमे Monocrystalline और Polycrystalline का ही सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता है Thinfilm अत्यधिक पतला होता है इसी कारण इसका उपयोग लगभग ना के बराबर ही होता है ।

तो चलिए अब Monocrystalline और Polycrystalline के बारे में थोड़ा जान लेते हैं-

Monocrystalline –

यह काले रंग का होता है।
यह ज्यादा बढ़िया होता है।
यह कम रोशनी में भी काम करता है।
अगर आपके प्रदेश में बादल भी कम है तो भी यह काम करता है।
अगर आप ठंडे प्रदेशों जहां धूप बहुत कम आती है तो आपको Monocrystalline solar panels लगवानी चाहिए।
यह वोल्टेज ज्यादा देता है ।
इसकी लाइफ भी ज्यादा होती है ।
इसकी कीमत भी ज्यादा होती है।
गवर्नमेंट मोनोकरीसटलाईन सोलर पैनल को लगवाती है ताकि बार-बार होने वाले खर्चों से बचा जा सके।

Polycrystalline –

यह नीले रंग का होता है।
यह कम बढ़िया होता है।
इसको ज्यादा रोशनी की जरूरत होती है।
कड़ी धूप वाले इलाकों में काम करता है।
अगर आप राजस्थान,जयपुर जैसे इलाकों में है तो आपको यह सोलर पैनल लगवानी चाहिए ।
यह वोल्टेज कम देता है ।
इसकी लाइफ भी कम होती है ।
इसकी कीमत भी कम होती है ।
खेतों घरों कार्यालयों में लोग इसे लगवाते हैं।

Solar Panel के क्या फायदे हैं ?

सोलर पैनल से उत्पन्न बिजली को आप बेच भी सकते हो इससे आपकी कमाई भी हो जाएगी ।

सोलर पैनल लगवाने पर आप अपने हजारों रुपए के आने वाले बिजली बिल से छुटकारा पा सकते हो।

सोलर पैनल से पर्यावरण को कोई नुकसान नहीं है क्योंकि इसमें से 0% कार्बन निकलता है इसलिए इसे ग्रीन एनर्जी भी कहते हैं ।

एक बार इन्वेस्ट करने पर यह आपका मुफ्त बिजली का स्त्रोत बनेगा 
इसकी उम्र भी ज्यादा होती है एक बार इन्वेस्ट करने पर यह 20 से 25 साल तक चलता है ।

अपने शहर गांव में बिजली न होने पर भी आप सोलर ऊर्जा का उपयोग कर सकोगे सोलर पैनल का उपयोग हम हिल स्टेशन में भी कर सकते हैं ।

सोलर सिस्टम पर गवर्नमेंट सब्सिडी भी देती है ।

सोलर पैनल का उपयोग कर हम लिमिटेड प्राकृतिक चीजों जैसे कि कोयला,विधुत,जल पेट्रोल आदि को बचा सकते हैं ।

सौर ऊर्जा अर्थात सोलर पैनल दूसरी विद्युत ऊर्जा उत्पन्न करने वाले उपकरणों की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है।

निष्कर्ष- 

तो दोस्तों आज आपने Solar Panel क्या है सोलर पैनल को कैसे बनाया जाता है सोलर पैनल कितने तरह के होते हैं सोलर पैनल के क्या फायदे हैं के बारे में जाना हमें आशा है कि आपको पूरी जानकारी समझ में आ चुकी होगी अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई तो आप हमें अपने सुझाव कमेंट करके जरूर बताएं आपके दिए गए सुझाव हमें भविष्य में आपके लिए ओर बेहतर पोस्ट लिखने के लिए प्रेरित करेंगे।

यह भी पढे-

Leave a Comment