TRP क्या है | टीवी चैनल TRP से कैसे कमाते हैं – हिंदी में

हेलो दोस्तों आज मैं आपको TRP जिसकी फुल फॉर्म Television Rating Point के बारे में पूरी जानकारी इस पोस्ट के जरिए दूंगा। आप भी जानना चाहते होंगे। कि आखिर जो हम अपने टीवी पर चैनल देखते हैं। वह भी किस तरह से कमाते होंगे। आपने अवश्य TRP का नाम तो सुना ही होगा। जो कि पिछले काफी महीनों से चर्चा में है। हर हफ्ते के बाद Tv Channels की टीआरपी को Record किया जाता है। TRP क्या है और टीवी चैनल TRP से कैसे कमाते हैं आप इस पोस्ट को पूरा और ध्यानपूर्वक पढ़ें समझें।

TRP क्या है- What is TRP in Hindi

TRP क्या है | टीवी चैनल TRP से कैसे कमाते हैं
TRP क्या है|टीवी चैनल TRP से कैसे कमाते हैं?

TRP की फुल फॉर्म टेलीविजन रेटिंग पॉइंट होती है। टीआरपी के द्वारा ही देखा जाता है कि दर्शकों ने किस टीवी चैनल को सबसे ज्यादा बार देखा है। इंडिया के टीवी चैनल्स की टीआरपी हर हफ्ते नई रिकॉर्ड की जाती है। हर हफ्ते टीवी चैनल टीआरपी को Analyze किया जाता है। जिसके बाद सभी Tv Channels को उनके टेलीविजन रेटिंग पॉइंट भेज दिए जाते हैं। जिससे चैनलस को पता लग जाता है कि उनके चैनल पर दर्शकों ने कितनी प्रतिक्रिया दी है। जिस चैनल की Trp ज्यादा होती है। उस चैनल को उसी हिसाब से मुनाफा होता है। जिसकी हम आगे चर्चा करेंगे।

टीवी चैनल TRP कैसे पता लगाते हैं?

TRP (Television Rating Point) का पता लगाने के लिए ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) इंडिया के शहरी और ग्रामीण इलाकों में TRP Meter को लगाती है। जिसे “People Meter” भी कहा जाता है। BARC ने यह टीआरपी मीटर सिर्फ 44 हजार की संख्या में लगाए हैं। इन्हीं 44 हजार टीआरपी मीटर के आधार पर दर्शकों के द्वारा देखे गए सबसे ज्यादा चैनल का पता BARC लगाती है। टीआरपी मीटर से यह भी पता लगता है कि किस शहर या गांव,किस उम्र के लोगों ने टीवी चैनल सबसे ज्यादा बार देखा है। टीआरपी मीटर को Set Top box में फिक्स कर दिया जाता है।

टीवी चैनल की टीआरपी प्रायः दो प्रकार से पता की जाती है

टीवी चैनल TRP से कैसे कमाते हैं
TRP क्या है|टीवी चैनल TRP से कैसे कमाते हैं?
  1. कितने लोगों ने टीवी चैनल को देखा
  2.  कितनी देर तक टीवी चैनल को देखा

आपने कई बार देखा होगा कि ज्यादातर न्यूज़ चैनल पर एक लेने से पहले कहकर चाहते हैं। कि हमारे साथ बने रहे बस अभी लौटते हैं इन उस चैनल का यह मकसद होता है कि आप ज्यादा देर तक चैनल पर रुके रहे। ताकि इनके चैनल की TRP बढे और इन्हें ज्यादा मुनाफा हो।

यह भी पढे

Podcast क्या हैं | Podcast किस टॉपिक पर शुरू करेहिंदी में

Radar क्या हैपूरी जानकारी हिंदी में

TRP से टीवी चैनल कैसे कमाते हैं ?

अगर किसी चैनल की TRP ज्यादा हुई तो उसी हिसाब से वह Advertisers जो कि चैनल्स पर अपने विज्ञापन दिखाते हैं। चैनल वाले उनसे एक विज्ञापन को अपने चैनल पर दिखाने के लिए ज्यादा पैसे चार्ज करते हैं। अब किसी चैनल की टीआरपी ज्यादा है तो उस पर अपना विज्ञापन दिखाने पर कंपनी के प्रोडक्ट को फायदा होगा। इसीलिए वह अपने विज्ञापन High TRP वाले चैनल पर लगाते हैं।

आपको बता दें कि विज्ञापन कितने सेकंड का है। इस आधार पर भी चैनल विज्ञापनदाताओं से ज्यादा पैसे चार्ज करते हैं। टीवी चैनल्स को टीआरपी से इसी प्रकार ज्यादा कमाई होती है। क्योंकि टीआरपी ही एडवरटाइजर्स को High TRP Channels की तरफ आकर्षित करती है।

TRP कम होने पर चैनल पर प्रभाव ?

एक न्यूज़ को कवर करने के लिए हजारों रुपए लग जाते हैं। अगर किसी अंतर्राष्ट्रीय खबर को कवर करना हो तो फ्लाइट के खर्चे से लेकर वीडियो एडिटिंग,रिपोर्टर्स पर खर्च,एंकर पर खर्च,कैमरा रिपोर्टर का रहना,खाना सब काम लाखों रुपए में होता है। और यह सिर्फ एक ही न्यूज़ को कवर करने के लिए करते हैं। ऐसा ही हर दिन हजारों खबरें न्यूज़ चैनल पर आती रहती हैं। जिसे ज्यादा पैसा खर्च होते हैं। इन सभी चीजों के खर्चे को अपने चैनल पर दिखाए गए। विज्ञापनों के पैसे से मैनेज किया जाता है और विज्ञापन आए हैं।

TRP की वजह से अगर दर्शक Channel को उतना नहीं देखते। जितनी एक चैनल को चलाने के लिए Advertisers अपने विज्ञापन चैनल पर शो करवाएंगे। तो चैनल घाटे में जा सकता है। अगर इस हफ्ते चैनल की कम TRP आई। इसे अगले हफ्ते उससे भी कम ऐसे ही चलता रहता है। तो चैनल महंगे खर्चों को मैनेज नहीं कर पाएगा। जिसे चैनल बंद भी हो सकता है। क्योंकि कोई एडवरटाइजर क्यों चाहेगा कि मेरा Advertisement ऐसे चैनल पर दिखाई दे। जिसको दर्शक बिल्कुल पसंद नहीं करते। विज्ञापन होने पर चैनल घाटे का सामना करेगा और एक दिन कर्जे में डूब जाएगा।

ठीक है ऐसा ही प्रभाव Entertainment Channel,Sports Channel,Movies Channel पर भी पड़ता है। अपनी टीम के खर्चों को निकालने के लिए सभी चैनल पर विज्ञापन पर ही निर्भर है।

इंडिया का सबसे Highest TRP सीरियल ?

दोस्तों साल 2020 में रामायण जिसको कि हर कोई पसंद करता है। Lockdown के दौरान रामायण को दोबारा से दूरदर्शन चैनल पर दिखाया गया। सुबह-शाम रामायण सीरियल को टीवी पर दिखाया जाता था। हर वर्ग के लोगों ने उस समय में रामायण सीरियल को देखा। जिससे BARC TRP ने रामायण सीरियल की अब तक की सबसे ज्यादा Highest TRP को रिकॉर्ड किया। IMDB पर रामायण सीरियल की 9.1/10 की रेटिंग है। जिसने कि विश्व के प्रसिद्ध टीवी सीरियल शो “Game Of Thrones” के रिकॉर्ड को तोड़ा है।

Conclusion ( निष्कर्ष )

दोस्तों आपने TRP के बारे में तो जान लिया। परंतु मेरी इस पर एक अलग राय है जो कि मैं आपसे साझा जरूर करना चाहूंगा। मेरी यह राय है कि टीवी चैनल चाहे वह किसी भी कैटेगरी में क्यों ना हो। हर चैनल को अपनी TRP बढ़ाने की तरफ ध्यान कम करके कर दर्शकों को ऐसे कंटेंट दिखाना चाहिए। जिससे कुछ सीख मिले जिससे आज के जो युवा पीढ़ी है वह कुछ सीख सकें। इंडिया के ज्यादातर टीवी चैनल्स पर सिर्फ प्यारमोहब्बत के बारे में सीरियल चलते हैं। जो कि सही बात नहीं है। न्यूज़ चैनल पर धर्म ,राजनीति के अलावा कुछ नहीं दिखाया जाता।

हमें जापान जैसे देशों से सीख लेनी चाहिए। जहां की खबरों और टीवी चैनल्स में सिर्फ Technology और दुनिया में क्या कुछ नई चीजें Invent हो रही है। की तरफ ज्यादा ध्यान दिया जाता है। वहां की खबरों में कहीं पर भी धर्म,राजनीति ऐसी चीजों को नहीं दिखाया जाता। वहां के युवाओं में टेक्नोलॉजी में कुछ अलग करने की जिज्ञासा है। तभी आज जापान टेक्नोलॉजी में बहुत आगे है। खैर यह मेरी निजी राय थी। आपको हमारी पोस्ट TRP क्या है और टीवी चैनल TRP से कैसे कमाते हैं कैसी लगी। मुझे नीचे कमेंट के जरिए अवश्य बताएं।

Leave a Comment