न्यू ब्लॉग की बेसिक सेटिंग कैसे करें 2021

हेलो दोस्तों अब हम आपको हमारी इस पोस्ट में न्यू ब्लॉग की बेसिक सेटिंग कैसे करें 2021 यह बताएंगे दोस्तों अब blogger अपडेट हो चुका है और इसमें और कई नए नए फीचर आ गए हैं नए ब्लॉग बनाने वाले लोगों को ब्लॉगर की settings मे काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है इसलिए हमने आपके लिए ब्लॉगर basic सेटिंग से संबंधित पोस्ट लिखने का सोचा।

Blogger
दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको blogger ki basic settings के हर ऑप्शन के बारे में पूरी जानकारी और यह ऑप्शन क्या होते हैं इन को कैसे बदल सकते हैं और अपने ब्लॉग के लिए आपको इस बेसिक सेटिंग्स में क्या भरना है सब कुछ हमारी इस पोस्ट के जरिए आप जानेंगे।

दोस्तों हमारी इस पोस्ट से पहले हमने मोबाइल पर फ्री में ब्लॉग कैसे बनाएं इस पर पोस्ट लिखी है इसमें आपको ब्लॉग की सेटिंग के ऊपर के जो ऑप्शन होते हैं उनकी पूरी जानकारी दी है आप इस पोस्ट को भी अवश्य पढ़ें ।
तो चलिए दोस्तों अब इस पोस्ट की शुरुआत करते हैं ध्यान से और पूरा पोस्ट पढ़िए यह सेटिंग्स आपके ब्लॉग को google search सर्च में rank करवाने के लिए जरूरी होती है ध्यानपूर्वक पढ़ें-

न्यू ब्लॉगर ब्लॉग की बेसिक सेटिंग कैसे करें 2021 

Blog blogger settings


Step.1 – सबसे पहले आप अपने ब्लॉगर के अकाउंट को ओपन करेंगे और आपके ब्लॉगर के sidebar menu सेटिंग्स का ऑप्शन होगा उस पर क्लिक करें और सेटिंग्स ओपन हो जाएगी।

Blogger blog settings


Step.2 – “Title“- अब आपके सामने सबसे पहले आपके ब्लॉग का नाम होता है जिसे हम टाइटल में देखते हैं आप अपने ब्लॉग का नाम जो उसे बनाते वक्त रखा था वही रहने दे अगर आप अपना “Title name” को बदलना चाहते हैं तो आप टाइटल नेम के नीचे जो आपके ब्लॉग का नाम आ रहा है उस पर क्लिक करके नाम को बदले और “save” पर क्लिक कर दें।


Description – डिस्क्रिप्शन में आपको अपने ब्लॉग के बारे में बताना होता है कि आप अपने ब्लॉग में लोगों को किस प्रकार की जानकारी देते हैं आपको description section मे वह सब जानकारी भरनी होगी। जैसे उदाहरण के तौर पर – मेरा नाम अभिषेक है हमारे इस ब्लॉग में हम टेक्नोलॉजी,ब्लॉगिंग,टिप्स एंड ट्रिक्स से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराते हैं।

Description kaisy bhry

इस तरह का description आपको बनाना है और दोस्तों ध्यान रहे किसी का भी डिस्क्रिप्शन कॉपी ना करें इससे आपका blog rank नहीं होगा इसलिए अपना खुद का डिस्क्रिप्शन बनाए यह 10 से 20 शब्दों का होना चाहिए।

Blog Language–  दोस्तों यह आपके ब्लॉग की लैंग्वेज का ऑप्शन है आप जिस भाषा में अपने ब्लॉग पर आर्टिकल लिखना चाहते हैं उस भाषा को यहां सिलेक्ट करें अगर आप hindi mein लिखना चाहते हैं तो हिंदी चुने अगर इंग्लिश में तो इंग्लिश चुने ब्लॉगर 61 भाषाओं को सपोर्ट करता है आपके देश की जो भी भाषा है आप उसे चुने।

Adult Content– दोस्तों इस ऑप्शन को हमेशा ‘off’ ही रखें यह ऑप्शन अगर आप अपने ब्लॉग पर गलत सामग्री डालते हैं इसके लिए यह ऑप्शन होता है इसे आप हमेशा ‘ऑफ’ ही रहने दे इसको ‘ऑन’ करने की कोई जरूरत नहीं।

Google Analytics Property Id– इस ऑप्शन में आपके द्वारा डाले गए आर्टिकल जो पढ़ने यूजर आते हैं तो उनकी संख्या कितनी है कितने users ने आपके ब्लॉग को पड़ा है इस पर क्लिक करने के बाद आपको इसमें गूगल एनालिटिक्स की property को ऐड करना होगा इसके लिए google analytics property ID कैसे बनाते हैं इस पर क्लिक करें आपको हम गूगल एनालिटिक्स का अकाउंट बनाना सिखाएंगे।

Favicon – 
Favicon  kaisa dikhta hai


Favicon हमारे ब्लॉग साइट का एक icon होता है जो कि एक 16×16 की छोटी सी इमेज होती है जैसे कि ऊपर पिक्चर में दिखाया गया है अपनी वेबसाइट के लिए favicon कैसे बनाते हैं।

सीखिऐ-
सबसे पहले अपने इंटरनेट ब्राउज़र में www.favicon-generator.org टाइप करके सर्च करें साइट ओपन हो जाएगी
Favicon


अब ऊपर जैसा की पिक्चर में दिखाया गया है सबसे पहले आपको जिस भी नेम से आपका ब्लॉग है उसका पहला कैपिटल लेटर की एक पिक्चर बना लेनी है और उसे ‘choose file’ पर ‘ok’ करके choose कर लेना है नीचे के जो ऑप्शन दिख रहे हैं आपको उनमें से कुछ नहीं छेड़ना है जैसा है वैसे ही रहने दें


 और ‘create favicon ‘पर क्लिक कर दें आपका फेविकोन बनकर gallery में सेव हो जाएगा फिर दोबारा blogger के favicon वाले ऑप्शन में जाकर क्लिक करना है और उस favicon को चूज़ करके सेव कर लेना है आपकी साइट का फेविकोन सेट हो जाएगा।

Step. 3- Privacy-
इस ऑप्शन में आप अपने ब्लॉग को सर्च इंजन में ‘Show’ करवाते हैं इसको हमेशा ‘on’ ही रहने दें जिससे search engine आपकी वेबसाइट को ‘crawl’ करते आते रहे।

Step. 4- Publishing-

Blog adress
यह आपके ब्लॉग का address होता है जब आप इस address को इंटरनेट ब्राउज़र में भरते हैं तो आपकी पूरी ब्लॉग साइट खुल जाती है जहां से यूजर्स आपके आर्टिकल को पढ़ सकते हैं इसी address को अपने दोस्तों सोशल मीडिया पर शेयर किया जाता है।
 
Custom domain– 
यह आपके द्वारा खरीदे गए डोमेन को आपके blogspot.com से जोड़ता है न्या कस्टम डोमेन जोड़ने पर आपके ब्लॉग ऐड्रेस से blogspot.com हट जाता है जैसे कि अगर आप .in इन या .com का डोमेन खरीदते हैं और जोड़ते हैं आपका ब्लॉग एड्रेस इस प्रकार होगा yourblogname.com या .in 
कस्टम डोमेन ऑप्शन में किसी नए डोमेन को अपनी ब्लाग साइट से जोड़ते हैं यह एक लंबी प्रक्रिया है अगर आप फ्री में ब्लॉग चलाना चाहते हैं तो अपने ब्लॉग का एड्रेस yourblogname.blogspot.com रहने दे अगर आप एक custom domain जोड़ना चाहते हैं तो ब्लॉग में Custom Domain कैसे जोड़े इस पर क्लिक करें हम आपको कस्टम डोमेन जोड़ना सिखाएंगे।

Step. 5- HTTPS

Https का मतलब hyper text transfer protocol secure 
इस ऑप्शन में आपकी ब्लॉग साइट के http://youblogname.com को https://YourBlogName.com  पर ‘redirect’ किया जाता हैं https का मतलब आपके visitors के लिए एक सुरक्षित कनेक्शन उपलब्ध कराना होता है इस ऑप्शन को हमेशा ऑन रखें गूगल https कनेक्शन को ज्यादा महत्व प्रदान करता है।

Step. 6Permissions 
Blog admin and authors
इसमें ब्लॉग के एडमिन का नाम होता है जो कि इस पूरे ब्लॉग को मैनेज करता है

Pending authors invites
इसमें अगर आप किसी दूसरे authors से अपने ब्लॉग के आर्टिकल दिखाना चाहते हैं उनकी प्रोफाइल और नाम इसमें दिखाई देता है।

Invite more authors
आप इसमें किसी दूसरे लेखकों को अपने ब्लॉग के लिए आर्टिकल लिखने के लिए Invite कर सकते हैं आपको इसमें authors के ईमेल को ऐड करना होगा जिससे दूसरे authors के पास invitation चला जाएगा और फिर आप उनसे आर्टिकल लिखवा सकते हैं।

Reader access
इसमें आप अपने ब्लॉग को ‘public’ करते हैं जिससे सभी लोग आपके ब्लॉग के आर्टिकल को पढ़ सकते हैं या इसमें आप अपने ब्लॉग को authors से भी प्राइवेट कर सकते हैं या आप अपने चुने हुए readers को ही अपना ब्लॉग पढ़ने की परमिशन देते हैं यह custom readers ऑप्शन में सेट किया जाता है।

Step. 7- Post 

Max post shows on main page
इसमें आपके ब्लॉग के सबसे पहले पेज पर आप कितनी पोस्ट को ‘show’ कराना चाहते हैं उनकी संख्या को यहां चुन सकते हैं।

बाकी के जो ऑप्शन है उन्हें ऐसे ही ‘default’ रहने दे इन्हें बदलने की कोई जरूरत नहीं।

Step. 8- Comments 

 कमेंट सेक्शन में सबसे पहले Comment location मे embedded ही रहने दे।

Who can comment
इसमें आप जो भी व्यक्ति आपके ब्लॉग की पोस्ट पर कमेंट करता है इसमें आपकी पोस्ट पढ़ने वाले यूजर को आप यह इजाजत देते हो कि (user with google account) आप तभी हमारी पोस्ट पर कमेंट कर सकते हो जब आपके पास google account हो या आप यह भी चुन सकते हो कि कोई भी ब्लॉग पर बिना (Anyone)  जीमेल अकाउंट से कमेंट कर सकता है या सिर्फ इस ब्लॉग के चुने हुए सदस्य ही इस ब्लॉग पर कमेंट(only members of this blog) कर सकते हैं।

शेष बचे सभी ऑप्शन डिफॉल्ट ही रहने दें यानि जैसे हैं वैसे ही उन्हें छोड़ दे।

Step. 9- Formatting 

Time and zone
यह बहुत जरूरी सेक्शन है इसमें आप गूगल Crawlers को यह निर्देश देते हैं कि उन्हें हमारी country के समय के हिसाब से कब हमारी ब्लॉग साइट को crawl करने आना है आप जिस देश में रह रहे हैं वहां का टाइम जोन सिलेक्ट करें यह बहुत जरूरी है ।

बाकी के जो option है वह ऐसे ही रहने दें।

Step. 10- Meta tags

दोस्तों meta tags में हम अपने ब्लॉग के टारगेट keyword को डालते हैं जिससे गूगल के Crawlers जब हमारी साइट पर विजिट करते हैं तो वह सबसे पहले meta tags को Crawl करते हैं यानी आपके द्वारा डाले गए डिस्क्रिप्शन में कीवर्ड को पढ़ते हैं इसके बाद ही Crawlers आपकी ब्लॉग पोस्ट को देखते हैं. 

 दोस्तों जिस टॉपिक पर आप अपने ब्लॉग आर्टिकल को लिखते हैं उसी से संबंधित कीवर्ड अपनी meta tag search description में डालें जिससे गूगल के क्रॉलर आपकी पोस्ट को रैंक करवाने में मदद करेंगे और आपकी पोस्ट उन्हीं लोगों को show होगी जो लोग आपके द्वारा दिए गए keyword से संबंधित प्रश्न पूछते हैं

Step. 11- Errors and redirects 

यह ऑप्शन जब आप अपनी लिखी पोस्ट को अपने ब्लॉग से सीधा डिलीट कर देते हैं तो आपने तो उस पोस्ट को डिलीट कर दिया परंतु गूगल पर उस पोस्ट का Url Index होता है और जब कोई यूजर उस Url पर क्लिक करके पोस्ट को पढ़ने की कोशिश करता है तब उसके सामने गूगल 404 का error दिखा देता है ।

क्योंकि आपने उस पोस्ट को तो डिलीट कर दिया है परंतु गूगल के पास उस पोस्ट का Url है और उसमे कुछ भी सामग्री न होने के कारण गूगल 404 error शो कर आता है इसलिए Errors and redirects को बनाया गया है ताकि आपने जिस पोस्ट को डिलीट किया है उसके यूआरएल को custom redirect की सहायता से आपके ब्लॉग के होम पेज पर redirect कर दिया जाए जिससे 404 का Error न आये।

हम आपको सुझाव देंगे कि आप अपने blog से किसी भी पोस्ट को ना डिलीट करें बल्कि अगर आपको उस पोस्ट को अपनी site पर नहीं दिखाना है तो उसे ड्राफ्ट में सेव कर दें

Step. 12- crawlers and indexing 
दोस्तों यह स्टेक्शन ब्लॉग की रीड की हड्डी की तरह है इस सेक्शन को अच्छी तरह से एक अलग पोस्ट में समझना होगा यह सबसे जरूरी है इसकी सेटिंग्स के बिना आपका ब्लॉग internet पर लोगों के सामने नहीं आएगा इसलिए हमने आपके लिए अलग से इस सेक्शन के लिए पोस्ट लिखी ताकि आप एक एक चीज को आसानी से समझ सके ।

इसके लिए हमारी यह पोस्ट पढ़े-

Step. 13- Monetization 
दोस्तों यह ऑप्शन जब आपको ऐडसेंस अप्रूवल मिल जाता है तो इसमें आप अपने ब्लॉग के Ads code को खुद तैयार कर सकते हैं और उस विज्ञापन को अपने ब्लॉग पर लगा सकते हैं।

Step. 14- Manage Blog

Import Content
दोस्तों इसमें आपने अपने ब्लॉग में जितने भी पोस्ट डाली हैं और आपने अपने ब्लॉगर को वर्डप्रेस जैसे ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर move करना है तो आप अपनी सभी पोस्ट का backup content वाले ऑप्शन से बैकअप लेंगे और अगर यदि किसी कारणवश आप वर्डप्रेस पर move नहीं कर पाते तो आप अपनी सभी पोस्ट Import करके दोबारा अपलोड कर सकते हैं।

Backup content-
आप यहां से अपनी post,pages का बैकअप ले सकते हैं।

Remove your blog-
अगर आप अपने ब्लॉग को डिलीट करना चाहते हैं तो इस ऑप्शन से कर सकते हैं.

Step. 15- site feed
दोस्तों यह ऑप्शन जैसा है वैसा ही रहने दें इसमें खास settings नहीं होती इसमें कुछ भी ना बदले.

Step. 16- General 

User Profile-
 दोस्तों इसमें आपको अपनी पूरी सही जानकारी को भरना है यूजर प्रोफाइल पर क्लिक करने के बाद आपके सामने पूरा फॉर्म show हो जाएगा जिसमें आप अपनी information भरेंगे। दोस्तों इस फॉर्म में आपको जो भी भरने के लिए दिया है वह सब भरे इससे google आप के बारे में जान पाएगा।

निष्कर्ष- 

तो दोस्तों हमने आपको New Blog Ki Basic Settings Kaisy Kare और इसमें उपस्थित सभी ऑप्शन कि हमने आपको जानकारी दी। 
दोस्तों अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई तो हमें कमेंट करके अवश्य बताएं आपके दिए गए सुझाव हमें भविष्य में आपके लिए और बेहतर पोस्ट लाने के लिए प्रेरित करेंगे।

यह भी पढे-

Leave a Comment