Metaverse क्या है? इस वर्चुअल दुनिया में हम सभी काम कर सकेगें?

नमस्कार दोस्तों, आज का हमारा विषय Metaverse से संबंधित है। जिसे ‘वर्चुअल दुनिया‘ कहा गया है। इस आर्टिकल में हम Metaverse क्या है? और यह कैसे काम करता है? आखिर कैसे यह आगे चलकर इंटरनेट की दुनिया में अपनी अहम भूमिका निभाएगा। इससे जुड़ी हर छोटी-बडी जानकारी आपको देंगे।

क्या आपको पता है? विश्व की मशहूर सिंगर Ariana Grande ने अपने घर में रहते हुए Fornite game के लिए एक कॉन्सर्ट किया। जहां लोगों ने भी अपने घर में बैठ कंप्यूटर स्क्रीन के आगे VR Headset से उस मेटावर्स कॉन्सर्ट को जॉइन किया। एक ही समय पर 12.3 मिलियन live users उस कॉन्सर्ट को अपने Avtar से जॉइन किए हुए थे।

Metaverse कंप्यूटर की ऐसी दुनिया है। जिसमें हम असली दुनिया के जैसे सभी काम अपने घर में बैठे कर सकते हैं। अलग-अलग कंपनियों के द्वारा मेटावर्स प्लेटफार्म बनाए जाते हैं। जो होंगे तो Virtual Plateform यानी ‘आभासी’ पर एक दम असली अनुभव हमें प्राप्त होता है।

उदाहरण: कई ऐसी गेम्स है। जिसमें हम VR Headset लगाकर उस गेम्स के ग्राफिक्स उस गेम की दुनिया को बिल्कुल अपनी आंखों के सामने अनुभव करते हैं।

ठीक इसी प्रकार Metaverse का ‘Digital World’ होगा। जिसमें हर क्षेत्र की सभी बड़ी कंपनियां चाहे वह शॉपिंग, गेमिंग, टूरिज़म, सोशल मीडिया कंपनीयां शामिल होंगी।

यह सभी बड़ी कंपनियां अपने वर्चुअल प्लेटफार्म Metaverse में बनवाएगी। जिसे आप अपने घर पर बैठकर VR/AR Headset लगाकर उन सभी चीजों को अपने सामने देखकर सभी काम कर सकोगे।

हर गतिविधि यूज़र Metaverse में कर सकता है। चाहे वह शॉपिंग, वर्क, लोगों से बातचीत, एंजॉय करना, प्रॉपर्टी और चीजें ख़रीदना, games खेलना हो।

मेटावर्स हर प्रकार की टेक्नोलॉजी को Next-Level तक ले जाएगा। इसमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), मशीन लर्निंग (ML), 5G/6G नेटवर्क और यूज़र डेटा की सुरक्षा और सुरक्षित लेन-देन के लिए ब्लॉकचेन टेक्नॉलजी का उपयोग होगा।

तो चलिए दोस्तों Metaverse क्या है? और Metaverse कैसे काम करता है? इसमें हम क्या-क्या कर सकते हैं? आप मेटावर्स कि डिजिटल दुनिया में कैसे प्रवेश कर सकते हैं? जैसी तमाम चीजों को इस आर्टिकल में जानेंगे।

आप से विनम्र प्रार्थना है कि Metaverse यानी वर्चुअल दुनिया से सम्ब्न्धित इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। आधा-अधूरा ज्ञान हमेशा खतरनाक होता है। इसलिए पूरी जानकारी होना आवश्यक है। क्योंकि टेक्नोलॉजी ही फ्यूचर है। यह एक आर्टिकल मेटावर्स से जुड़ी सभी चीजों को कवर करता है।

विषय सूची :-

फेसबुक का नाम बदलकर ‘Meta’ किया?

28 अक्टूबर 2021 में फेसबुक का नाम बदलकर ‘Meta’ कर दिया गया। अब फेसबुक को Meta Platforms मैनेज करेगी। फेसबुक और Meta दोनों के मालिक ‘मार्क जुकरबर्ग’ है। मार्क ज़ुकेरबर्ग की Metaverse में खास रुचि है। वह ऐसी दुनिया बनाना चाहते हैं। जो VR (Virtual Reality) पर आधारित हो। जिसमें सभी कार्य कर सकें।

Meta ने $50 मिलियन डॉलर निवेश किए हैं और यह निवेश उन समूहों में किया गया है। जहां से मेटा कम्पनी कोई कमाई नहीं करेगी। बल्कि उन कंपनीज,समूहों को यह निवेश दिया गया है। जो Metaverse को बनाने में कार्यशील हैं। जिससे सिर्फ Metaverse (वर्चुअल रीएलिटी) को आगे बढ़ाया जा सके।

ऐसे बहुत से लोगों को लगता है कि Metaverse का मतलब यानी Facebook है। तो बता दें कि मेटावर्स में फेसबुक ही नहीं बल्कि सभी बड़ी टेक कंपनियां शामिल है। जैसे NVIDIA, Epic Games, Microsoft, Apple आदि।

जो मेटावर्स यानी ‘डिजिटल वर्ल्ड’ बनाने में सक्षम है। फेसबुक के द्वारा सिर्फ नाम बदलकर Meta रखा गया है। परंतु Metaverse सभी बड़ी कंपनियों का कांसेप्ट है। Meta एक कम्पनी है।

Metaverse क्या है? (What is Metaverse in Hindi)

Metaverse kya hai

Metaverse कंप्यूटर के जरिए बनाई ‘डिजिटल दुनिया’ है। जो पूर्ण रूप से 3D Virtual World होती है। ऐसी डिजिटल दुनिया में हम हमारी असल दुनिया से जुड़े कई कार्य कर सकते हैं। जैसे प्रॉपर्टी खरीदना, शॉपिंग, वर्क, गेम्स और बातचीत करना। यह पूरी तरह से AR/VR टेक्नोलॉजी पर आधारित है।

मेटावर्स को बनाने वाली कंपनियां इसे ऐसा बना रही है। जो 3D होने के साथ-साथ असल दुनिया से बिल्कुल असली अनुभव लोगों को दें। metavese plateform के जरिए यूजर इसमें प्रवेश कर सकेगा। हर यूजर का अपना 3D Avtar होगा। जो उसकी पहचान को Metaverse में प्रदर्शित करेगा।

Metaverse को बनाने में हर प्रकार की Future technologies का उपयोग किया गया है। जैसे: ब्लॉकचेन, एनएफटी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), मशीन लर्निंग (ML), वर्चुअल रियलिटी (VR), ऑगमेंटेड रियलिटी (AR), मिक्सड रियलिटी (MR), 5G/6G इंटरनेट।

हालांकि Metaverse अभी पूर्ण रूप से विकसित नहीं है। परंतु कई कंपनियों के द्वारा मेटावर्स प्लेटफार्म तैयार कर लिए गए हैं। जहां इस Digital world का आप VR headset लगाकर इसका अनुभव ले सकते है।

Metaverse का इतिहास (History of Metaverse)

Metaverse दो शब्दों से मिलकर बना है। meta+Verse जहां Meta एक ग्रीक भाषा का शब्द है। जिसका मतलब After/Beyond यानी किसी चीज से परें और Verse का मतलब ‘यूनिवर्स’ यानि आज की दुनिया से अलग होना।

Metaverse शब्द का सबसे पहला उपयोग ‘नील स्टीवेंसन‘ व्यक्ति के द्वारा किया गया था। वह एक मशहूर अमेरिकन लेखक हैं। उनके द्वारा वर्ष 1992 में लिखे गए उपन्यास Snow crash में मेटावर्स की दुनिया के बारे में बताया गया।

उपन्यास में Metaverse को ऐसी आभासी दुनिया बताया है। जिसमें लोग एक व्यक्ति के अधिकार वाली भयानक दुनिया से बचने के लिए वर्चुअल दुनिया यानि मेटावर्स में चले जाते थे।

Snow crash novel में Metaverse को Virtual Place बताना ही। आज की बड़ी टेक कंपनियों को Metaverse जैसी आभासी दुनिया बनाने के लिए प्रेरित किया। जो होगी तो Virtual यानी ‘नकली’ परंतु हमें आभास ऐसा होगा मानो। हम उसी दुनिया में रह रहे हैं। असल दुनिया के सामान्य 3D World हमें प्रतीत होगा।

Metaverse में AVTAR क्या होता है?

Metaverse avtar

जब भी आप कोई गेम खेलते हो। उसमें आपका एक Player होता है। वह प्लेअर उस गेम में दर्शाता है की आप उस गेम को खेल रहे हो। इसी तरह बाक़ी यूज़र्स के भी अपने प्लेयर्स होते है। जो गेम में उनकी पहचान दर्शाते है।

Metaverse में Avtar आपकी पहचान को प्रदर्शित करता है। जब यूज़र मेटावर्स में प्रवेश करेगा। वह अपने जैसा 3D Avtar बनाएगा। उसमें अपने हिसाब से बदलाव कर सकेगा। जैसे: कैसा चेहरा, बाल, आँखे, कपड़े आपको चाहिए। ठीक इसी प्रकार बाक़ी यूज़र के भी अपने 3D Avtar होंगे। जिससे सभी की अलग-अलग पहचान metaverse में दिखेगी।

मेटावर्स में यह Avtar चेहरे की सभी प्रतिक्रिया कर सकते है। metaverse में घूमना और लोगों से बातचीत करना सभी कार्य आप अपने ‘अवतार’ के ज़रिए करोगे।

Metaverse कैसे काम करता हैं?

अगर हम metaverse के काम करने के तरीके को जाने। तो विश्व की कई बड़ी कंपनियों के द्वारा अपने अलग-अलग मेटावर्स प्लेटफार्म बनाए गए हैं। जो (VR) वर्चुअल रियलिटी पर आधारित हैं। उदाहरण: Meta, NVIDIA, Epic Games, Decentaland यह ऐसे कंपनीज है।

जिनके द्वारा यह प्लेटफार्म बनाए गए हैं। तो कई ऐसे प्रोजेक्ट भी है। जिस पर कार्य चल रहा है। जैसे ब्लॉकचेन को पूरी तरह से Metaverse में जोड़ना, (AI) आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का पूर्ण रूप से उपयोग।

metaverse Plateform बनाने वाली हर कंपनी अपने बनाये डिजिटल वर्ल्ड में प्रवेश करने के लिए आपको Avtar create करने का विकल्प देती है। जहां से आप अपने ही जैसा एक 3D avtar तैयार कर करते है। जिसके बाद से आपकी पहचान वह अवतार ही होगा।

VR Headset पहनकर आप उस Avtar के ज़रिए Metaverse की दुनिया को देख पाएंगे उसमें प्रवेश कर पायेंगे। बाकी लोगों से मेटावर्स में उनके अवतार से मिल पाएंगे।

उनके साथ बातचीत, गेम्स खेलना, खरीदारी जैसे कार्य कर सकेंगे। यह एक तरह का 3D Digital World होगा। अलग-अलग देशों के लोगों से मिलना बातें करना जैसे कार्य में मेटावर्स में कर सकेंगे।

मेटावर्स में Decentraland, The Sandbox जैसी कंपनियों ने मेटावर्स में प्रॉपर्टी को बेचना शुरू कर दिया है और लोगों के द्वारा इसे खरीदा भी गया है। कनाडा की निवेश कंपनी के द्वारा $2.5 मिलियन की बड़ी कीमत से Decentraland में रियल एस्टेट प्रॉपर्टी को खरीदा गया है।

हालांकि Virtual Land को सिर्फ खरीदा इसीलिए जा रहा है। ताकि भविष्य में इनकी कीमत ज्यादा हो या फिर एक यूनीक चीज हमारे पास रहे। इसके लिए भी लोग Metaverse में ऐसी चीजें खरीद रहे हैं। Decentraland एक मेटावर्स प्लेटफार्म है।

जैसे कि हमने आपको पहले बताया कि मेटावर्स बिल्कुल असली अनुभव यूजर को देता है। ठीक इसी प्रकार कई ऐसे प्लेटफार्म शॉपिंग कंपनी के द्वारा तैयार किए गए हैं। जिसमें आप शॉपिंग तो वर्चुअली करेंगे। यानी खरीददारी के सभी प्रोडक्ट आपके सामने मेटावर्स में होंगे।

परंतु जो चीजें आप उस प्लेटफार्म में खरीदोगे तो वह प्रोडक्ट यूजर के घर असल में डिलीवर कर दिए जाएंगे। इससे लोगों को मॉल में नहीं जाना पड़ेगा और VR/AR के जरिए रियल एक्सपीरियंस के साथ शॉपिंग करेंगे।

अगर बात करें सिर्फ उन चीजों की जो metaverse में ही खरीदी जाएंगी और उसी में बेची जाएंगी। तो उस चीज को आप क्रिप्टोकरेन्सी के द्वारा खरीद सकेंगे। हर प्लेटफार्म की अपनी क्रिप्टोकरंसी होगी। जिस चीज को यूज़र खरीदेगा। उसका मालिकाना हक जताने के लिए आपको NFT Token मिलेगा।

यह टोकन बताएगा कि आप उस प्रोडक्ट या चीज के मेटावर्स में मालिक है और अगर यूजर उस प्रोडक्ट को किसी दूसरे व्यक्ति को मेटावर्स में ही Sell करता है। तो वह क्रिप्टोकरंसी के द्वारा उसे खरीदेगा और वह Token दूसरे व्यक्ति का हो जाएगा।

Metaverse के कितने प्रकार होते है?

आने वाले कुछ ही वर्षों में मेटावर्स प्रोडक्ट खरीदने और बेचने से लेकर एक-दूसरे से बातचीत करने यानी एक सोशल वर्ल्ड के तौर पर दिखेगा। इसमें कहीं ई-कॉमर्स कंपनियों और सोशल मीडिया कंपनीज अपने नए प्लेटफार्म तैयार करेंगी।

जैसे वर्तमान में हम amazon, Flipkart और Facebook, instagram जैसी वेबसाइट पर खरीददारी और मैसेज भेजना, वीडियो-वॉइस कॉल करते हैं। इसी प्रकार metaverse में भी अलग-अलग प्लेटफार्म तैयार होंगे। मेटावर्स दो प्रकार के होते हैं। जो इस प्रकार हैं:-

1. ब्लॉकचेन पर आधारित मेटावर्स

वर्तमान में ऐसे मेटावर्स प्लेटफार्म है। जो ब्लॉकचेन पर आधारित है। इन प्लेटफार्म में प्रवेश करने पर यूजर एनएफटी और क्रिप्टोकरंसी में चीजों को कर सकता है। ब्लॉकचेन आधारित मेटावर्स के सबसे बड़े उदाहरण Decentraland और The Sandbox है।

यह प्लेटफॉर्म वर्चुअल लैंड खरीदने की अनुमति देते हैं और यूजर उस प्रॉपर्टी का उपयोग मेटावर्स में अपना घर बनाने में करेगा। जो एक Virtually होगा। यह सारा लेन-देन ब्लॉकचेन से सुरक्षित होगा।

बता दें कि ऐसा नहीं है कि बिटकॉइन और इथेरियम सिर्फ इन्हीं दो क्रिप्टोकरंसी का उपयोग metaverse में होगा। हर प्लेटफार्म की अपनी अलग क्रिप्टोकरंसी हो सकती है।

2. सोशल वर्ल्ड पर आधारित मेटावर्स

Metaverse के यह ऐसे प्लेटफार्म होंगे। जो लोगों को एक-दूसरे से कनेक्ट करेंगे। लोगों से उनके Avtar के जरिए मिलना-बात करना घूमना जैसे कार्य वर्चूअली कर सकेंगे। साथ ही वीडियो कॉल भी कर पाएंगे।

जो भी चीजें हम अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर करते हैं। वह सभी चीजें इन Metaverse Plateform पर कर सकेंगे। ऐसे प्लेटफार्म पर धीरे-धीरे काम किया जा रहा है।

कम्पनीज़ के द्वारा इंजीनियर hire किए जा रहे है। जैसे मार्क जुकरबर्ग की कंपनी Meta के द्वारा ऐसे ही प्लेटफार्म भविष्य में बनाए जाएंगे। सोशल वर्ल्ड पर आधारित ऐसे प्लेटफार्म में Events and shiws भी करवाए जा रहे हैं। विश्व की मशहूर सिंगर्स से ऐसे इवेंट करवाए जा रहे हैं, जो प्रमोशनल होते हैं और लोगों का मनोरंजन करते हैं।

मेटावर्स में क्या-क्या कर सकते हैं?

मेटावर्स बेशक एक वर्चुअल दुनिया हो। परंतु आम जीवन में जो हम कार्य करते हैं। उनमें से ज्यादातर कार्य हम मेटावर्स यानी वर्चुअल दुनिया में कर सकते हैं। बल्कि असल दुनिया से बिल्कुल अद्भुत अनुभव के साथ।

VR Box को जब आंखों पर लगाया जाता है। तो इसके लेंस, सेंसर, माइक्रोफोन हमें उस वर्चुअल डिजिटल दुनिया में ले जाते हैं। जिससे बिल्कुल अमेजिंग अनुभव हमें metaverse प्रदान करता है। 3D ग्राफिक्स इस डिजिटल वर्ल्ड को जीवंत दिखाते हैं।

तो चलिए अब जानते हैं कि हम मेटावर्स या वर्चुअल दुनिया के अंदर हम क्या-क्या कर सकते हैं?

  • Enjoy (आनंद लेना)– इस वर्चुअल वर्ल्ड में अपने 3D अवतार के जरिए खुद और साथ ही ओर लोगों के साथ बर्थडे सेलिब्रेशन, इवेंट्स, मीटिंग जैसी गतिविधियां कर सकते हैं। भारत के तमिलनाडु राज्य में विश्व की पहली metaverse wedding हुई। जिसमें 500 मेहमान मेटावर्स को ज्वाइन कर इस शादी में शामिल हुए।
  • Work (ज़रूरी कार्य करना)– मेटावर्स में ऑफिस से जुड़े कई जरूरी कार्य कर सकते हैं। जैसे मीटिंग, वीडियो-कॉल्स। इसमें यूजर को ऐसा वातावरण बना कर दिया जाता है। जो बिल्कुल असली ऑफिस वाला अनुभव यूजर को देता है।
  • Play games (गेम्स खेलना)– मेटावर्स या डिजिटल दुनिया में 3D गेम्स खेल सकते हैं। जैसे: fortnite, Roblax, Sandbox, Second box यह ऐसे metaverse games है। जो सिर्फ मेटावर्स के लिए बनाई गई है। वर्चुअल दुनिया में गेम्स खेलने का अनुभव कुछ ऐसा होगा मानो आप खुद गेम के अंदर चले गए हो।
  • Buy-Sell (चीज़े ख़रीदना और बेचना)– मेटावर्स में चीजें खरीदना और बेचने का सबसे बढ़िया उदाहरण decentraland है। यह ऐसी गेम है। जिसमें यूजर प्रॉपर्टी खरीद कर उस पर अपना घर बना सकते हैं। उसमें घरेलू सामान खरीदना और उपयोग करना इसमें यूजर सभी कार्य एक अपने घर के जैसे कर सकता है।
  • Socialise (सामाजिक-संपर्क)– मेटावर्स चैटरूम में अपने 3D अवतार के जरिए लोगों से बातचीत कर सकते हैं। ऐसे कई metaverse chatroom है। जहां यूजर अपने Avtar के द्वारा प्रवेश कर दूसरे लोगों से संपर्क कर सकता है। बातचीत कर सकता है। चाहे वह किसी भी देश से संबंधित हो।

मेटावर्स यानि वर्चुअल दुनिया का उपयोग कहाँ होगा?

अब हम जानेंगे कि metaverse का उपयोग एक यूज़र और बड़ी कंपनियां कैसे कर सकती हैं। तो वहीं इससे कैसे फायदा लिया जा सकता है। मेटावर्स का उपयोग लगभग हर इंडस्ट्री में किया जा सकता है।चाहे वह प्रोडक्ट को बेचना हो, विज्ञापन के लिए, स्वास्थ्य क्षेत्र में, शिक्षा में, बिजनेस कार्य में। चलिए अब और गहराई से जानते हैं।

Virtual World (आभासी दुनिया)

वर्चुअल वर्ल्ड जी हां ऐसी वर्चुअल दुनिया जहां ऐसा प्लेटफॉर्म लोगों को मिलेगा। जहां वह एक साथ मौजूद होंगे और एक-दूसरे से बातचीत कर सकेंगे। मेटावर्स हर व्यक्ति को उसके अनुसार अपनी पसंदीदा व्यक्ति से बात करने का ऑप्शन देता है।

तो वहीं कंपनी के द्वारा इस वर्चुअल वर्ल्ड में Advertising के ऑप्शन भी मौजूद होंगे। जहां वह अपनी बिजनेस संबंधी विज्ञापन दिखा सकते हैं। और अपने प्रोडक्ट को एडवर्टाइज कर सकते हैं।

Ownership (स्वामित्व)

मेटावर्स एक कंप्यूटर से बनाई दुनिया होगी। जिसमें आप चीजों को खरीद और बेच सकते हो। जो भी चीजें आप इस वर्चुअल वर्ल्ड में खरीदेंगे। उसको एनएफ़टी के द्वारा सुरक्षित किया जाएगा और NFT Token यह प्रदर्शित करेगा कि मेटावर्स में आप उस यूनिक चीज के मालिक हैं। साथ ही जैसा कि आप जान चुके हैं कि यह पूरा प्रोग्राम ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से सिक्योर होगा। जिससे इसका डाटा चुराना हैकर्स के लिए नामुमकिन होगा।

यूजर अपने बिजनेस संबंधी विज्ञापन metaverse में प्रदर्शित कर सकते हैं। इसके लिए आप जिस मेटावर्स प्लेटफार्म का उपयोग करेंगे। उससे जुड़े आपको इस सर्विस के कई विकल्प प्राप्त कराए जाएंगे। जिसमें अलग-अलग तरह के विज्ञापन कराने का विकल्प आपको मिलेगा। जिसकी कीमत कम और ज्यादा हो सकती है।

E-Learning (ई-शिक्षा)

छात्रों को बेहद मजेदार ढंग से हर विषय से जुड़ी जानकारी 3D विजुअल के जरिए दी जा सकती है।जिससे छात्र सीधे अपने घर से वर्चुअल कक्षा से जुड़े रहेंगे और यह मजेदार भी होगा। शिक्षक छात्रों के लिए बेहतर चित्रण 3D ग्राफिक्स के जरिए पेश कर सकेंगे। खासकर मेडिकल छात्रों के लिए वह मेडिकल संबंधी हर बारीक चीजों को 3D ग्राफिक्स के जरिए मेटावर्स में समझ पाएंगे।

Socialize (लोगो से मिलना-बातचीत करना)

metaverse का उपयोग जो आज के समय में भी हम देख पा रहे हैं। वह है लोगों को एक मंच पर लाना। अब चाहे वह एक डिजिटल इवेंट हो या फिर किसी मशहूर शख्सियत के कंसर्ट में शामिल होना या फिर वर्चुअल वेडिंग। यह मेटावर्स का बेहतरीन उदाहरण है।

लोग metaverse जैसी तकनीक का उपयोग इन सभी कार्यों के लिए कर रहे हैं। जैसे Fortnite जो कि एक गेम है। इनके द्वारा विश्व के कई बड़े सिंगर्स एक metaverse concert आयोजित करवाया। जिसको विश्व भर में करोड़ों लोगों ने इस कंसर्ट को मेटावर्स के जरिए अपने घरों से ज्वाइन किया।

Identity (मेटावर्स में अलग पहचान)

मेटावर्स को बनाने वाली अलग-अलग कंपनियां यूजर को अपना 3D अवतार चुनने का विकल्प देती हैं। जो कि मेटावर्स में आपकी identity को दर्शाता है। कई प्लेटफार्म पर यह अवतार कार्टूनिस्ट हो सकती हैं। तो वहीं meta कंपनी ऐसे 3D avtar बनाने पर काम कर रही है। जो बिल्कुल यूजर की शक्ल जैसे दिखेंगे। यूजर ऐसे 3D अवतार में अपनी पसंद के अनुसार बदलाव कर सकता है।

Metaverse में प्रवेश कैसे करें? (How to Enter Metaverse in Hindi)

मेटावर्स में प्रवेश करना बेहद आसान है। आपके पास एक कंप्यूटर होना चाहिए और साथ ही VR Headset अच्छी कंपनी का ही Headset लें। जिससे आप वर्चुअली दुनिया का बिल्कुल असली अनुभव ले पाएंगे।

इसके बाद आपको उस Metaverses का चुनाव करना है। जिसमें आप Enter करना चाहते हैं। कुछ लोकप्रिय मेटावर्सेस के उदाहरण इस प्रकार हैं: Bithotel, Cryptovoxels, Decentraland, The sandbox, Somnium Space.

ध्यान दें: अगर आप metaverse में चीजों को खरीदना चाहते हैं। तो आपके पास एक क्रिप्टो वॉलेट होना जरूरी है। उसमें क्रिप्टोकरंसी होनी चाहिए। अब कौन-सी क्रिप्टोकरंसी होनी चाहिए। यह आपके द्वारा चुने मेटावर्स पर निर्भर करता है।

अपना पसंदीदा Metaverse का चुनाव कर लेने के बाद आपको उसमें अपना अकाउंट बना लेना है या फिर आप metamask Crypto Wallet से भी सीधा metaverse में प्रवेश कर सकते हैं।

मेटावर्स में प्रवेश करने पर आप एक Avtar को बनाएंगे। जो आपकी मेटावर्स में पहचान होगी। एक 3D अवतार को डिजाइन करने की सभी चीजें आपको अपने VR Headset में दिखेंगी।

अपने बनाए Avtar का नाम रख लेना है और इसके बाद आप metaverse की वर्चुअल दुनिया में प्रवेश कर आभासी दुनिया को अपनी आंखों के सामने देखोगे।

मेटावर्स को बनाने में उपयोग मूल तत्व:

इंजीनियर के द्वारा कोडिंग भाषाओं का प्रयोग करते हुए ऐसी गेम्स को बनाया गया है। जो खेलने में बेहतरीन ग्राफिक्स के साथ हमारी असल दुनिया का अनुभव हमें देती है। ऐसी गेम्स में हम कार चलाना , मिशन जैसी सभी चीजें एंजॉय करते हैं। जैसे: GTA Vice City, GTA V, Cyberpunk BGMI.

परंतु इन गेम्स को हम कंप्यूटर स्क्रीन पर खेलते हैं। जबकि मेटावर्स में हम इन चीजों को Gear, Technologies, Realities के जरिए सीधा अपनी आंखों के सामने देखेंगे ओर भी बेहतर 3D ग्राफिक्स में। यह ऐसे मूल तत्व है। जो इसे एक गेम की तरह नहीं बल्कि एक असल दुनिया की तरह प्रदर्शित करेंगे।

चलिए जानते हैं कि metaverse को बनाने में किन-किन मूल तत्व का उपयोग हुआ है और इसमें कई चीजें शामिल धीरे-धीरे शामिल होंगी।

  • Gear– यह वह उपकरण है। जिन्हें हम पहनेंगे। जो मेटावर्स का ज़्यादा बेहतर अनुभव के लिए उपयोग में लाए जायेगें।
  • Technologies– मेटावर्स को बनाने हेतु किन-किन टेक्नोलॉजी का उपयोग होगा। यह इसमें शामिल है।
  • Realities– मेटावर्स का पूरा वातावरण अलग-अलग वास्तविकताओं (Realities) से मिलकर बना है। वह कौन सी रियलिटी है। यह इसमें शामिल है।

नीचे टेबल में अलग-अलग सेक्शन के हिसाब से चीजें बताही गई है कि Gear, Technologies, Realities में क्या शामिल है।

gearTechnologiesRealities
Headset And Googlesblockchain Tecgnology: NFT (Non Fungible Token, Cryptocurrencies(aR) Augmented Reality
Microphones and muzzlesArtificial Intelligence: Massive Bandwidth, Interoperability(VR) Virtual Reality
movement SensorsMachine LearningMixed Reality
wearable Technology: Gloves, Vests, Suits, Footwear5G/6G High Speed InternetExtended Reality

कौन-सी कंपनियां में मेटावर्स पर काम कर रही है?

मेटावर्स यानी कि एक वर्चुअल दुनिया को बनाने में बहुत-सी कंपनियां काम कर रही हैं। हर एक कंपनी अपने अलग-अलग उद्देश्य के लिए इस पर काम कर रही है।

जैसे: कोई ऑनलाइन गेम, सॉफ्टवेयर डिजाइन, सोशल नेटवर्किंग, गेमिंग AR/VR हेडसेट तो कई इसको लाइव एंटरटेनमेंट जैसे event, concert के तौर पर काम रहा कर रहा है।

सभी end user को बेहतर अनुभव इसमें अपनी अलग-अलग सर्विस दे कर देना चाहते हैं।

नीचे metaverse tech giants companies किस क्षेत्र में काम कर रही है। उसके बारे में बताया गया है।

  • ऑनलाइन गेम्स बनाने में- roblox, epic games, microsoft, activision blizzard, take-two, tencent, nexon, valve, decentraland, Apple.
  • सॉफ़्टवेयर डिज़ाइन बनाने में- unity, epic games, adobe, autodesk, ansys.
  • सोशल नेटवर्किंग के लिए- facebook (meta), tencent.
  • गेमिंग AR/VR हार्डवेयर बनाने में- facebook(meta), lenovo, HP, Logitech, apple, acer, valve, razer.
  • मनोरंजन के लिए- live nation, theme park, sports team.
  • डिसेंट्रलाइज़्ड- Ethereum, Blockchain.

Metaverse का भविष्य क्या है?

विशेषज्ञों का कहना है कि साल 2021 से लेकर 2030 तक metaverse को लोग पूरी तरह से जानने समझने और इसका उपयोग करना भी शुरू कर देंगे। तो वहीं Meta के संस्थापक ‘मार्क जुकरबर्ग’ का कहना है कि इसे पूरी तरह बनने में 5 से 10 साल लगेंगे।

हालांकि मेटावर्स का भविष्य लोगों की इसमें रूचि लेने पर ही निर्भर करता है। कितने लोग इसका उपयोग करेंगे? क्या यह वर्चुअल वर्ल्ड हमारे रियल वर्ल्ड से बेहतर एक्सपीरियंस लोगों को दे पाएगा? ऐसे सवालों का जवाब इसे पूरी तरह विकसित होने के बाद मिलेगा।

परंतु विश्व की वह हर बड़ी कंपनी जो बिलियन डॉलर कमाती है। जैसे google, Microsoft, NVIDIA, Tencent इन्होंने metaverse की लोकप्रियता और लोगों की इसमें बढ़ती रुचि को analysis किया है और इन्होंने भी अलग-अलग क्षेत्रों में इसमें निवेश किया है।

ऐसा अनुमान है कि वर्ष 2024 तक पूरे विश्व में AR, VR, MR मार्केट $300 बिलियन तक पहुंच जाएगी। मेटावर्स अपने साथ बहुत ही अलग अलग हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी लेकर आएगा। जिसको लेकर लोगों में काफी उत्सुकता है।

अब आपको कुछ ऐसे facts बताते हैं। जिससे आप खुद जान पाएंगे कि मेटावर्स का भविष्य क्या होगा?

  • Roblox जो की एक लोकप्रिय मेटावर्स प्लेटफ़ॉर्म है। इस पर प्रतिदिन 43 मिलियन यूज़र विजिट करते है। जहां वह गेम्स खेलते है।
  • decentraland जो की एक गेम है। इन्होंने इसमें प्रॉपर्टी और गेम में प्रोडक्ट को NFT के ज़रिए 75 हज़ार की सेल्स की है। जिनकी क़ीमत $25 मिलियन है।
  • हाल ही में कई live concerts मेटावर्स में आयोजित करवाए गये है। जैसे आप जानते है: Ariana grande, Travis scott, Marshmallow, Justin Beiber जहां यह मशहूर सिंगर्स 45 मिलियन live fans से मेटावर्स में जुड़े। लोगों ने ऐसे कंसर्ट को जॉइन कर डिजिटल वर्ल्ड में अपनी रुचि दिखाई।

Metaverse यानि वर्चुअल वर्ल्ड पर बनी हॉलीवुड फिल्में

वर्चुअल वर्ल्ड पर आधारित यह हॉलीवुड फ़िल्में देखने के बाद आप आसानी से इसके कांसेप्ट को समझ जाएंगे। कंप्यूटर की दुनिया कैसी होती है और metaverse किस तरह की दुनिया है। आपको मशहूर वर्चुअल रियलिटी पर आधारित इन मूवीज़ को जरूर देखना चाहिए। मनोरंजन से भरपूर होने के साथ-साथ यह इनफॉर्मेटिव भी है।

metaverse पर आधारित फिल्मों के नाम इस प्रकार हैं:

  • The Matrix (1999)
  • the Thirteenth floor (1999)
  • Dark City (1998)
  • avatar (2009)
  • tron legacy (2010)
  • ready player one (2018)

टॉप 10 मेटावर्स प्लैटफ़ॉर्म कौन से है।

अगर आप metaverse का रियल एक्सपीरियंस करना चाहते हैं। तो आपको इंटरनेट पर बहुत से प्लैटफ़ॉर्म मिल जाएंगे। जो अभी डेवलप हो रहे हैं। तो कई ऐसे प्लैटफ़ॉर्म भी है। जो पूरी तरह से तैयार हैं। लोगों के द्वारा इनका उपयोग किया जाने लगा है।

नीचे विश्व के टॉप 10 टॉवर्स प्लैटफ़ॉर्म दिए गए हैं। आप अपने Gear का उपयोग कर इनमें विजिट कर सकते है।

  1. Bithotel
  2. cryptovoxels
  3. decentraland
  4. the sandbox
  5. somnium space
  6. metahero
  7. NVIDIA omniverse
  8. second life
  9. roblox
  10. altspace VR

Metaverse के क्या फ़ायदे है?

मेटावर्स के फ़ायदे इस प्रकार है:

  1. मेटावर्स में रियल वर्ल्ड से बिल्कुल अलग अनुभव देता है।
  2. इसके उपयोग से अपने घर में रहते हुए पूरे विश्व में कहीं की भी वर्चुअल यात्रा कर सकेंगे।
  3. बिना शर्माए लोगों से बातचीत कर पाएंगे।
  4. टेक्नोलॉजी और नई स्किल्स को सीख पाएंगे।
  5. बड़ी कंपनियों के मेटावर्स में रुचि लेने से टेक्नोलॉजी क्षेत्र में नौकरियां बढ़ेंगी।
  6. मेटावर्स के जरिए बिजनेस को प्रमोट कर पाएंगे।
  7. ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से यूजर डाटा सुरक्षित।

Metaverse के क्या नुक़सान है?

मेटावर्स के क्या नुकसान हो सकते हैं। वह इस प्रकार हैं:

  1. यूजर प्राइवेसी को लेकर चिंता।
  2. मेटावर्स में ज्यादा रहना बच्चों के लिए नुकसानदायक।
  3. VR/AR हेडसेट ज्यादा देर उपयोग से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां।
  4. 3D graphics, VR/AR रियलिटी का बेहतर अनुभव लेने के लिए महंगे गैजेट को खरीदना होगा।
  5. मेटावर्स के लिए अलग से नियम और शर्तें फॉलो करनी होगी।

मेटावर्स का मतलब क्या है?

Metaverse दो शब्दों से मिलकर बना है- पहला ‘Meta’ जिसका मतलब ‘After/beyond’ यानि आज की दुनिया से परें। दूसरा ‘Verse’ जिसका मतलब ‘Universe’ यानि आज की दुनिया। यह दोनों शब्द metaverse नाम बनाते है।

मेटावर्स नाम सबसे पहले किसने लिया?

पूरे विश्व में सबसे पहले मेटावर्स का नाम नील स्टीवेंसन ने लिया था। उन्होंने इस नाम का उपयोग अपने उपन्यास ‘snow crash’ में किया था।

Meta और Metaverse में क्या अंतर है?

Meta के संस्थापक मार्क ज़ुकेरबर्ग है। meta एक मेटावर्स प्लेटफ़ॉर्म है। साथ ही यह कंपनी है जो मेटावर्स पर आधारित है। जबकि metaverse एक वर्चुअल दुनिया है। जिसे विश्व की कोई भी बना सकती है इसीलिए विश्व में अलग अलग metaverse plateform है।

मेटावर्स में किन मशहूर सिंगर्स ने वर्चुअल कंसर्ट किए है?

मेटावर्स में बहुत से मशहूर सेलिब्रिटी सिंगर्स के द्वारा live concert किए गये है। जैसे: (1) Marshmallow : fortnite (2) Travis Scott : fortnite (3) soccar mommy : roblox (4) justin beiber : wave (5) ariana grande : fortnite.

क्या मेटावर्स में प्रॉपर्टी ख़रीद सकते है?

जी हाँ, परन्तु यह वर्चुअल प्रॉपर्टी होगी। दरअसल Decentraland एक मेटावर्स गेम है। जिसमे आप असली जीवन की तरह ज़्यादातर चीजें कर सकते है। चीजें ख़रीद सकते हो प्रॉपर्टी को ख़रीद कर उस पर घर, पार्क जैसी चीजें बना सकते हो। इसकी क़ीमत सिर्फ़ Decentraland में ही होगी।

मेटावर्स के लिये किन डिवाइस की जरुरत होगी?

मेटावर्स के लिये VR Box Headset की ज़रूरत पड़ेगी। जिससे आप इसका असली अनुभव ले पायेगें।

निष्कर्ष:

आख़िर में दोस्तों वर्तमान में हम web 2.0 का उपयोग कर रहे हैं। ठीक इसके बाद Web3 आएगा। जो ब्लॉकचेन पर आधारित होगा। इसका मतलब यह है कि आने वाले कुछ वर्षों में हम ऐसी टेक्नोलॉजी का उपयोग करेंगे। जिसके बारे में हम अभी नहीं जानते तक नहीं है।

वह है Metaverse और Web3 मेटावर्स को “फ्यूचर ऑफ इंटरनेट” कहा गया है। विशेषज्ञों का कहना है कि यह सफल जरूर होगा। इसके अपने फायदे और नुकसान जरूर होंगे। बड़ी कंपनियों का इसमें निवेश है। जो समय के साथ इसे बेहतर बनाती जाएंगी।

इसलिए ऐसी फ्यूचर टेक्नोलॉजी के बारे में आपको जानकारी होनी ही चाहिए। खैर अब आप इसके बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त कर चुके हैं।

आपको हमारी पोस्ट Metaverse क्या है? कैसी लगी? या फिर आपके मन में मेटावर्स को लेकर कोई भी सवाल है। हमें नीचे कमेंट करके अवश्य बताएं। अपने दोस्तों को यह जानकारी अवश्य शेयर करें।

मेरा नाम Abhishek है। इस ब्लॉग का संस्थापक और लेखक हूं। मै Yoabby.com पर सभी आर्टिकल को हिंदी भाषा में लिखता हूं। मुझे लिखने का बहुत पहले से ही शौक था। ब्लॉगिंग के द्वारा मैं अपने शौक को भी पूरा कर रहा हूं। और साथ ही YoAbby.com पर आए लोगों को टेक्नोलॉजी के बारे में हिंदी भाषा में आर्टिकल उपलब्ध करवा रहा हूं।

Leave a Comment