मोबाइल का अविष्कार किसने किया? इंडिया में मोबाइल कब आया था

मोबाइल का अविष्कार किसने किया?– नमस्कार, दोस्तों आज हमारी जिंदगी में मोबाइल का कितना बड़ा स्थान है। यह हम भली भांति जानते हैं आज हम अपने मोबाइल से थोड़ी सी दूरी पर भी नहीं रह सकते। रिपोर्ट के अनुसार भारत में 760 मिलियन Mobile Users है। ऐसे में हम यह जान जाते हैं कि तक़रीबन आज प्रत्येक व्यक्ति के हाथ में Mobile है। धीरे-धीरे Technology बढ़ती गई तो आज मोबाइल को स्मार्टफोन में बदल दिया गया।

ऑनलाइन काम करने के लिए Smartphones का उपयोग ज्यादा किया जाने लगा। ऐसे में हम जिस उपकरण का उपयोग कर रहे हैं। उसके इतिहास और उसके बारे में भी जानना बहुत जरूरी है। इसलिए हम आपको अपने इस आर्टिकल में Mobile का अविष्कार किसने किया? इंडिया में Mobile कब आया Mobile से संबंधित कहीं ऐसी महत्वपूर्ण जानकारी देंगे। जिसके बारे में आप अभी अनजान है तो चलिए जानते हैं।

मोबाइल का अविष्कार किसने किया?

मोबाइल का अविष्कार किसने किया?

दोस्तों विश्व मे सबसे पहला Mobile Phone अमेरिकन इंजीनियर मार्टिन कूपर के द्वारा बनाया गया था। मार्टिन कूपर के द्वारा 3 अप्रैल 1973 को पूरी दुनिया के सामने सबसे पहला मोबाइल फोन पेश किया गया। मार्टिन कूपर के द्वारा बनाया गया यह मोबाइल आम लोगों के लिए बना था ताकि हर इंसान Mobile फोन का उपयोग कर सके।

हालांकि जब Mobile Phone दुनिया के सामने आया। उसी वक्त Radio फोन और Wireless फोन भी प्रयोग में लाए जाते थे। परंतु उस समय इन्हें सैनिक और बड़े अधिकारी ही प्रयोग कर सकते थे। मार्टिन कूपर ने Manhattan नामक जगह से New Jersey मे स्थित Bell Labs के हेड क्वार्टर में सबसे पहला फोन किया था।

आपको जानकर हैरानी होगी कि जिस कंपनी को आप Motorola के नाम से जानते हैं। इसी Smartphone Company के साथ मिलकर मार्टिन कूपर ने अपना पहला मोबाइल बनाया था। Mobile फोन की मांग तेजी से बढ़ती गई। जिसके चलते मोटरोला को मुनाफा हुआ और उन्होंने मार्टिन कूपर को अपनी कंपनी का CEO बना दिया।

दुनिया में Mobile Service को सबसे पहले जापान के द्वारा शुरू किया गया था। इसके बाद डेनमार्क,फिनलैंड,नॉर्वे जैसे देशों ने मोबाइल सेवाओं को आगे बढ़ाया। आज तकरीबन पूरा विश्व मोबाइल,स्मार्टफोन और Internet के साथ एक दूसरे से जुड़ा हुआ है।

दुनिया के सबसे पहले Mobile Phone की महत्वपूर्ण बातें:

आज जब भी हम अपने लिए किसी Smartphone को खोजते हैं तो हम ऐसा स्मार्टफोन देखते हैं। जो कि भारी न हो और आसानी से हाथ में पकड़ा जा सके। इसके अलावा हर User अपने फोन की Battery की समस्या को लेकर परेशान रहता है। Dynatec 8000x दुनिया का सबसे पहला मोबाइल था।

Dynatec 8000x वजन 1 किलो 100 ग्राम था और अगर इस Mobile Phone की मोटाई की बात करें तो यह 13 सेंटीमीटर मोटाऔर 4.5 सेंटीमीटर चौड़ा था। इस तरह के वजन और आकार वाली चीजें उस समय में इंटे और जूते जो कि चमड़े के बने हुआ करते थे।

उस समय के लोग इस Mobile की तुलना इन्हीं इंटे और जूतों से किया करते थे। आज का जमाना Fast Charging,वायरलेस चार्जिंग का जमाना है। आज के फोन 20 से 30 मिनट में फुल चार्ज हो जाते हैं और लंबा Battery Backup देते हैं। दुनिया के सबसे पहले Mobile को चार्ज करने में 10 घंटों का समय लग जाता था और वह 20 मिनट का बैटरी बैकअप देता था।

मोटरोला के द्वारा 1981 मे अपने मोबाइल फोन को बाजार में उतारा गया यानी कि अब मोबाइल फोन को दूसरे देशों के लिए भी अनिवार्य कर दिया था। इसकी कीमत 2 लाख रुपये थी और मोटरोला के इस Mobile Phone मॉडल का नाम Dynatec 8000x था।

इंडिया में Mobile कब आया था ?

इंडिया में आया सबसे पहला मोबाइल Nokia Ringo
इंडिया में आया सबसे पहला Mobile Nokia Ringo वर्ष 1995

इंडिया में किसी Technology युक्त चीजों का आना उस समय बहुत बड़ा कार्य माना जाता था। क्योंकि उस समय टेक्नोलॉजी और साथ ही भारत तेजी से आगे बढ़ रहा था। हर क्षेत्र में इंडिया ने उछाल हासिल की थी। चीजें उस समय थोड़ी महंगी जरूर हुआ करती थी। India में सबसे पहली मोबाइल सेवा 15 अगस्त यानी कि स्वतंत्रता दिवस के दिन 1995 साल को दिल्ली से शुरू की गई थी।

इसके अलावा इंडिया में जो सबसे पहला Mobile फोन आया। उसका नाम Nokia Ringo था क्या आप जानते हैं। उस समय जब Nokia ने यह मोबाइल लांच किया। उस वक्त वर्ष 1995 में हमारे देश के टेलीकॉम मिनिस्टर सुखराम ने सबसे पहले Call लगाई थी। आज तकरीबन हर व्यक्ति के पास अपना Mobile पहुंच चुका है।

टच स्क्रीन मोबाइल का आविष्कार किसने की?

विश्व का सबसे पहला टच स्क्रीन मोबाइल

मोबाइल फोन के बाद Touch Screen जिसे आज हम स्मार्टफोन कहते हैं। इनका प्रचलन शुरू हो गया। आज से लगभग 28 साल पहले अमेरिका की IBM जिसकी फुल फॉर्म इंटरनेशनल बिजनेस मशीन है। इस कंपनी ने सबसे पहला टच स्क्रीन वाला Mobile बाजार में उतारा था। जिसका नाम Simon था आपको बता दें कि यह कंपनी 109 साल पुरानी कंपनी है। जिसे 1911 में खड़ा किया गया था ।

निष्कर्ष-

पहले के समय की Mobile Technology की तुलना आज के समय की मोबाइल टेक्नॉलजी से करे तो आज की Mobile Technology  काफ़ी ज़्यादा विकसित हुई है। आज इतने ज़्यादा पतले और हाई टेक मोबाइल आ चुके है। जिसके सामने महँगे कैमरा की क्वालिटी भी फीकी पड़ जाए। लोग अब Cinematic Mode में विडीओ अपने स्मार्ट्फ़ोन से शूट करते है।

हालाँकि आज के समय के फ़ोनस काफ़ी ज़्यादा महँगे है। इतने महँगे की एक पुरानी कार तक ख़रीदी जा सकती है। iPhones,Google Pixle,Samsung की प्रीमीयम फ़ोनस की क़ीमत बहुत ही ज़्यादा है। लोग इन्हें ख़रीदते भी है। बढ़िया कैमरा,बेस्ट डिस्प्ले,बेस्ट फ़ीचर्ज़,प्राइवसी सभी चीजें एक ही मोबाइल में मिल जाए तो लोग पैसे देने को तैयार हो जाते है।

ख़ैर हमने आज आपको पहले के सबसे ज़्यादा वजन वाले मोबाइल और आज के सबसे हलके मोबाइल के बारे में बताया। अगर आपको हमारी मोबाइल का अविष्कार किसने किया? पोस्ट इन्फ़ॉर्मटिव लगी तो हमें नीचे कमेंट करके अवश्य बताएं।

मेरा नाम Abhishek है। इस ब्लॉग का संस्थापक और लेखक हूं। मै Yoabby.com पर सभी आर्टिकल को हिंदी भाषा में लिखता हूं। मुझे लिखने का बहुत पहले से ही शौक था। ब्लॉगिंग के द्वारा मैं अपने शौक को भी पूरा कर रहा हूं। और साथ ही YoAbby.com पर आए लोगों को टेक्नोलॉजी के बारे में हिंदी भाषा में आर्टिकल उपलब्ध करवा रहा हूं।

Leave a Comment