UFC क्या है | UFC Fighters कितना पैसा कमाते हैं- हिंदी में

नमस्कार,दोस्तों आज हम UFC के बारे में बात करेंगे कि UFC क्या है और इंडिया में यह इतनी मशहूर क्यों होती जा रही है। जी हां WWE Fights के मुकाबले UFC Fights को भी इंडिया में काफी ज्यादा पसंद किया जा रहा है। आज हम आपको UFC के बारे में पूरी जानकारी इस पोस्ट में देंगे। इस पूरी पोस्ट को पढ़ लेने के बाद आप UFC के बारे में सभी बातें जान जाएंगे। आप भी मेरी तरह यूएफसी के फैन बन जाएंगे। इसलिए पूरी पोस्ट को पूरा पढ़ें और ध्यानपूर्वक समझे

UFC क्या है –

UFC का मतलबअल्टीमेट फाइटिंग चैंपियनशिपहै। यह एक अमेरिकन मिक्स मार्शल आर्ट प्रमोशन(MMA) कंपनी है।यूएफसी सबसे ज्यादा मशहूर MMA Fights के लिए है। इसमें 5 मिनट का एक राउंड होता है। जिसमें दो MMA फाइटर्स एक दूसरे को हराने का प्रयत्न करते हैं। UFC में मिक्स मार्शल आर्ट्स होने के कारण फाइट्स में प्लेयर्स हर प्रकार की मूवज का इस्तेमाल कर अपने Opponent को हरा सकता है। इसमें Boxing, Taekwondo, Karate, Capoeira मे प्रयोग होने वाली मूव्ज शामिल है।

UFC क्या है

UFC का इतिहास

ब्रूस ली कोफादर ऑफ मिक्स मार्शल आर्टकहा जाता है। इसके बाद 1976 में अमेरिकन प्रोफेशनल प्लेयर ‘Muhammad Ali’ और जापानी रेसलर ‘Antonio Inoki’ के बीच मैच करवाया गया। अलगअलग फील्ड में माहिर यह दोनों खिलाड़ी 15 राउंड तक जबरदस्त तरीके से खेले इतने ज्यादा राउंड मैच के होने के बाद भी कोई नतीजा सामने आया। और इसको ड्रॉ घोषित कर दिया गया।

मिक्स मार्शल आर्ट्स(MMA) को इस मैच से काफी लोकप्रियता मिली लोगों की ज्यादा रुचि मार्शल आर्ट्स में होने पर जापानी रेसलर के स्टूडेंट जिसका नाम Masakatsu Funaki और Minoru Suzuki ने मिलकर 1993 में जापान में Pancrase नामक मिक्स मार्शल आर्ट्स प्रमोशन कंपनी को खोला।

इसके तुरंत बाद 12 नवंबर 1993 को UFC की स्थापना हुई। इसके बाद 1993 में बनी पेनक्रेस कंपनी कोप्राइड फाइट चैंपियनशिपमें बदल दिया गया। परंतु जिस तरह UFC ने अपनी लोकप्रियता बढ़ाई उस तरह प्राइड फाइटिंग कंपनी अपनी लोकप्रियता को बढ़ा न पाई। जिसके बाद 23 मार्च 2007 को UFC ने प्राइड फाइटिंग चैंपियनशिप कंपनी को खरीद लिया।

इस तरह से आज UFC ने WWE के बाद अपनी अलग पहचान बनाई है। MMA फाइट्स प्रमोशन कंपनी में UFC पहले स्थान पर है एंव दूसरे नंबर पर Bellator MMA चैंपियनशिप टूर्नामेंट कंपनी है।

UFC के क्या नियम है

किसी भी कैटेगरी में UFC फाइट लड़ने के लिए खिलाड़ी को उस कैटेगरी के हिसाब से अपने वजन को कम करना होगा

फाइट से पहले खिलाड़ियों के बीच प्रेस कॉन्फ्रेंस होती है जिसमें UFC के प्रेसिडेंट Dana White और दोनों खिलाड़ी होते हैं इसदौरान दोनों खिलाड़ी एक दूसरे को नुकसान नहीं पहुंचा सकते।

फाइट से पहले प्लेयर को अपनी बॉडी पर किसी भी प्रकार का लोशन या तेल लगाने की मनाही है।

खिलाड़ी अपने Gloves में किसी भी तरह की नुकीली चीज नहीं रख सकते।

यह भी पढे

Space Tourism क्या हैहिंदी में

Esports क्या है | E-Sports Join कैसे करेंहिंदी में

खिलाड़ियों के नाखून बढ़े नहीं होने चाहिए।

आम फाइक्स में तीन राउंड होते हैं जो कि 5 मिनट का प्रत्येक मैच होता है चैंपियनशिप फाइट्स में 5-5 मिनट के पांच राउंड होते हैं।

प्रत्येक राउंड के बाद 1 मिनट रेस्ट टाइम का मिलता है।

ग्राउंड पर गिरे प्लेयर को लात मारना या घूटने के साथ सिर पर प्रहार करना नियम के खिलाफ है।

सिर के पीछे या गर्दन के पीछे आप प्लेयर को मार नहीं सकते।

सिर के साथ वार नहीं कर सकते।

आंख में नुकसान नहीं पहुंचा सकते।

अपने दांतो के साथ फाइटर को नहीं काट सकते।

अपने Opponent को खींच नहीं सकते साथ ही बाल नहीं खींच सकते।

• Fish Hooking नहीं कर सकते अर्थात प्लेयर के मुंह में उंगली डालकर उसके मुंह को खींच नहीं सकते।

प्लेयर के चोट लगे कट्स पर उंगली नहीं कर सकते जिससे प्लेयर को दर्द का सामना करना पड़े।

गले पर वार करना नियम के विरुद्ध है।

प्लेयर की उंगली को मोड़ना या जानबूझकर क्षति पहुंचाना सख्त मना है।

अपने अपोनेंट को रिंग से बाहर नहीं फेंक सकते।

• Refree को नुकसान नहीं पहुंचा सकते।

UFC Join कैसे करें-

UFC में जॉइनिंग के लिए सबसे पहले आपके अंदर MMA स्कील का होना बहुत जरूरी है। MMA यानी मिक्स मार्शल आर्ट जिसमें Wrestling, Jujutsu, Boxing, Taekwondo, Karate, Capoeira, Kick Boxing, Combat Sambo, Judo जैसी मार्शल आर्ट्स होती है।

जो आपको आनी ही चाहिए इसके लिए आप MMA Gym को ज्वाइन कर सकते हैं। जहां से आप इन सभी मार्शल आर्ट्स को सीख सकेंगे। यूएफसी में जॉइनिंग हर फाइटर का सपना है। इसके लिए कड़ी मेहनत ट्रेनिंग तो लगेगी ही।

UFC में जॉइनिंग की उम्र 19 साल है। अगर आप 19 साल के हैं या इससे ज्यादा उम्र है तो भी आप अपनी फाइटिंग स्किल के आधार पर यूएफसी में जा सकते हैं। UFC(Ultimate Fighting Championship) में बहुत कम उम्र के खिलाड़ी भी अपना जुनून यूएफसी के प्रति दिखाते हैं। साथ ही आपका प्रोफेशनल खिलाड़ी होना भी बहुत जरूरी है।

UFC में जॉइनिंग के लिए आप अपनी Indian MMA Fights या आपकी मार्शल आर्ट स्किल्स की वीडियो रिकॉर्ड कर आप www.TalentBid.Com/ufc पर भेज सकते हैं। इस वेबसाइट पर आप सीधा UFC के लिए अप्लाई कर सकते हैं। अपनी फाइटिंग स्किल पिक्चर,आपने क्या सीखा,आपके क्या रिकॉर्ड है, ट्रेनिंग करते हुए कितना समय हो गया है। अपनी पूरी जानकारी इस वेबसाइट पर भेजें।

जहां से Request Accept होने पर आपको यूएफसी प्रतियोगिताओं में परखा जाएगा। कि आप सही में Ufc Player बनने के लायक हो या नहीं आप की परफॉर्मेंस के आधार पर UFC Fights में आपकी जॉइनिंग हो जाएगी।

UFC And WWE मे कौन बेहतर है

WWE को लगभग हर व्यक्ति जानता है कि WWE सिर्फ अपने दर्शकों को एंटरटेन करने के लिए काम करता है। साथ ही डब्ल्यूडब्ल्यूई में जो फाइट्स होती है। वह सब पहले ही फिक्स हुई होती हैं कि मैच में कौन जीतेगा। WWE Fights को पहले ही Script दी जाती है। जिसमें वह रिंग में जाकर क्या बोलेंगे किस के सामने बोलेंगे सब बातें लिखी होती हैं।

वह ऐसे Players का चुनाव Wwe मे होता है। जो कि एक्टिंग स्किल में माहिर होते हैं। सब कुछ दर्शकों को Entertain करने के लिए किया जाता है। और दर्शक एंटरटेन भी होते हैं साथ ही डब्ल्यूडब्ल्यूई में किसी भी खिलाड़ी को छोटे कद वाले या दूसरे से अलग वेट कैटेगरी वाले प्लेयर से लड़वाया जाता है।

बहुत से दर्शक होते हैं। जो UFC जैसी Real Fights को पसंद नहीं करते। क्योंकि उसमें प्लेयर के फेस पर खून निकलना सब कुछ असली होता है। कुछ लोग सिर्फ एंटरटेनमेंट पसंद करते हैं। जो कि उन्हें WWE में मिल जाती है। वही डब्ल्यूडब्ल्यूई में कोई राउंड नहीं होते। UFC Fights में प्लेयर 5-5 मिनट के एक राउंड में लड़ते हैं। सब खिलाड़ी अपने अपने Weight Category के हिसाब से लड़ते हैं।

UFC में सब कुछ असली होता है। इसीलिए यूएफसी के मैच काफी ज्यादा रोमांच देने वाले होते हैं। वहीं अगर दोनों कंपनीज की शुरू होने की बात करें तो WWE को 1953 में शुरू किया गया। तो वही UFC को 1993 में शुरू किया गया। परंतु यूएफसी की बढ़ती लोकप्रियता ने लोगों को यूएफसी फाइट्स देखने पर मजबूर किया है।

तभी तो साल 2019 में दोनों कंपनीज के द्वारा कमाई गई राशि की तुलना करें। तो WWE ने 960 मिलियन डॉलर की कमाई की। वहीं UFC ने 940 मिलियन डॉलर की कमाई की इससे साफ जाहिर होता है। कि लोगों ने पिछले कुछ सालों से Real Fights में रुचि लेना शुरू किया है। UFC के मैच को आप धोखे से नहीं जीत सकते जबकि WWE की फाइट्स को आप धोखे से भी जीत सकते हैं।

UFC Fighters वजन कैसे कम करते हैं

UFC की फाइट वजन कैटेगरी के अनुसार होती है। इसलिए सब फाइटर्स को अपना वजन अपनी कैटेगरी के प्लेयर जितना करना होता है। वजन को कम करने के लिए प्लेयर्स सबसे ज्यादा कड़ी मेहनत करते हैं। अगर कोई खिलाड़ी किसी दूसरी वेट कैटेगरी के खिलाड़ी से फाइट करना चाहता है। तो उसे अपने अपोनेंट के वजन कितना वजन कम करना होगा या बढ़ाना होगा।

ऐसा नहीं है कि सिर्फ आप एक ही वेट कैटेगरी के प्लेयर से लड़ सकते हैं। खिलाड़ी अपना वजन कम या ज्यादा कर किसी भी UFC Player से Fight कर सकता है। UFC फाइटर को वजन कम करने के लिए अपनी डाइट में जरूरी बदलाव करने होते हैं और इन्हें स्ट्रिक्टली फॉलो करते हैं।

खिलाड़ी की डाइट डाइटिशियन के द्वारा बनाई जाती है। जो कि इस काम में माहिर होते हैं। खिलाड़ियों की डाइट में कम कार्ब्स फूड दिया जाता है। वेट को कट करने के लिए जमकर वर्कआउट के दौरान पसीना बहाते हैं। इसके साथ खिलाड़ी अपनी बॉडी में कटिंग लाने के लिए सोडियम को निकालते हैं। ऐसा वे खूब सारा पानी पीते हैं। जिससे बॉडी अपने आप शरीर में सोडियम की मात्रा को कम कर देती है।

चाहे कोई भी बॉडीबिल्डर हो या यूएफसी फाइटर कोई भी सोडियम का प्रयोग अपनी डाइट में नहीं करता क्योंकि सोडियम पानी कोमसल में रोकता है जिसे मसल फूली हुई प्रतीत होती है कटिंग के लिए सोडियम को यूएफसी फाइटर्स बिलकुल छोड़ देते हैं।

सबसे आखिर में यूएफसी फाइटर्स Hot Sauna का प्रयोग करते हैं जिसमें वह अपने शरीर का सबसे ज्यादा पसीना बहाते हैं Hot Sauna एक छोटा सा कमरा होता है जहां अत्यधिक गर्मी होती है  ज्यादा गर्मी होने के कारण ज्यादा पसीना आता है जिससे बॉडी कीकटिंग लाने में आसानी होती है।

UFC Fighters कितना पैसा कमाते हैं

UFC Fighter को स्पॉन्सरशिप और खेल को जीतने पर भी बोनस दिया जाता है। साथ ही अगर किसी फाइटर की पहली फाइट है। उसे 10,000 से 20,000 डॉलर और स्पॉन्सरशिप साथ ही अगर खिलाड़ी जीतता है। तो उसे जीत का बोनस भी दिया जाएगा बोनस 200 से 40,000 डॉलर तक दिया जाता है।

साथ ही प्लेयर ने कितनी फाइट की है। उस आधार पर भी बोनस ज्यादा दिया जाता है। चाहे खिलाड़ी नया हो या पुराना बोनस और स्पॉन्सरशिप मिलता ही है। अगर खिलाड़ी मशहूर फाइटर है तो दो लाख डॉलर दिए जाते हैं। अगर आप एक चैंपियन हो तो साढे तीन लाख से पांच लाख डॉलर तक फाइटर को मिलते हैं।

UFC Fights Decisions कैसे लिए जाते हैं

अब हम जानेंगे कि UFC में Judge Decisions कैसे लेते हैं। दो फाइटर्स के बीच फाइट खत्म होने के बाद निर्णय Judges के द्वारा लिया जाता है। इसमें तीन जज होते हैं जो अंतिम निर्णय देते हैं UFC Fights Decisions को नाम दिए गए हैं। जो कि इस प्रकार हैं

Unanimous Decisions

इसमें तीनों जजों के द्वारा निर्णय एक ही खिलाड़ी को दिया जाता है। यानी कि तीनों जज की सहमति है कि एक खिलाड़ी विजेता बने इसे Unanimous Decisions कहते हैं।

Split Decisions

इस डिसीजन में दो जज के द्वारा एक खिलाड़ी को विजेता बताया जाता है। बाकी का बचा एक जज वह दूसरे खिलाड़ी को विजेता बताता है इसे Split Decisions कहते हैं।

Majority Decisions –

इस डिसीजन के अनुसार दो जज एक खिलाड़ी को विजेता बताते हैं। परंतु तीसरा जज होता है वह मैच को ड्रॉ बता देता है। इसे Majority Decisions कहते हैं।

UFC Belts कितने प्रकार की होती है

शुरू के UFC Matchs में बेल्ट नहीं दी जाती थी। परंतु ऐसा कुछ तो रखना ही था। जो कि प्लेयर को जीतने की इच्छा को बढ़ाता हो। इसके बाद 1997 से इस UFC Belt को जीतने वाले खिलाड़ी को दिया जाने लगा। थोड़े ही समय में कुछ और Belts को यूएफसी में लाया गया। UFC में Belt मुख्य तीन प्रकार की दी जाती है जिसका वर्णन इस प्रकार है

UFC Disputed Belt

इस Belt की शुरुआत 1997 से हुई। UFC Disputed Belt को जीतने वाले सबसे पहले फाइटर Mark Coleman है। इसके बाद डिस्प्यूटेड बेल्ट में कई बदलाव आए। अलग डिजाइन के साथ इसे बनाया गया। 2001 से 2018 तक डिस्प्यूट बेल्ट को Classic Belt कहा जाने लगा। इसके बाद 2019 से Legacy Belt में बदल दिया गया। जिसे Undisputed Belt भी कहा जाता है।

UFC Interim Belt

जो खिलाड़ी Interim Belt को जीतता है। वह Undisputed Belt Champion के साथ लड़कर Undisputed Belt को जीत सकता हैं। साथ Interim Belt के लिए फाइट उस समय की जाती है। जब Undisputed Belt Champion किसी खिलाड़ी के साथ किसी कारणवश लड़ नहीं पाता।

अब यहां पर Undisputed Belt लिए तो उसे फाइट करनी ही पड़ेगी। इसलिए जब वह चैंपियन कमबैक करता है। तो उसके साथ कौन Undisputed Belt के लिए लड़ेगा। दो प्लेयर के बीच फाइट करवाई जाती है। जिससे एक प्लेयर Interim Belt जीतता है। तो वह Undisputed Belt Champion के साथ लड़ने के लिए तैयार होगा।

कहने का मतलब Undisputed Belt की सबसे ज्यादा इंपोर्टेंस है। इसलिए हर फाइटर इसे जीतना चाहता है।

UFC BMF Belt

BMF Belt UFC की सबसे महंगी बेल्ट है। जिसे बनाने में $50000 की लागत आई थी। इस बेल्ट को Nate Diaz और Masvidal के बीच मैच के लिए बनाया गया था। यूएफसी प्रेसिडेंट Dana White ने इस मैच को ज्यादा रोमांचक बनाने के लिए अलग से टाइटल बनाने का सुझाव अपनी टीम के साथ साझा किया। जिसके बाद BMF Belt को As A Title पर रखा गया।

निष्कर्ष

आखिर में दोस्तों UFC अभी भारत में इतनी पॉपुलर नहीं हुई है। जितनी की WWE परंतु धीरेधीरे लोग असल चीजें देखना पसंद कर रहे हैं। जिससे इंडिया में UFC की Popularity में बढ़त देखी गई है। जिस प्रकार WWE में कईं भारतीय खिलाड़ियों को शामिल किया गया। उसी प्रकार अगर यूएफसी में भी इंडियन खिलाड़ियों को शामिल किया जाए और उनकी तरफ से उम्दा प्रदर्शन UFC में दिया जाए तो भारत में भी इसका क्रेज ज्यादा बढ़ सकता है।

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है कि आप इस पोस्ट के जरिए UFC क्या है और इससे संबंधित पूरी जानकारी मिल चुकी होगी। अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई। तो इसे अपने दोस्तों में अवश्य शेयर करें।

Leave a Comment