हिंदी ब्लॉग के लिए Keyword Research कैसे करें- (Beginners Guide)

नमस्कार,दोस्तों आज का हमारा विषय हिंदी ब्लॉग के लिए Keyword Research कैसे करें। हर एक ब्लॉग के लिए चाहे वह एक हिंदी ब्लॉग हो या फिर इंग्लिश ब्लॉग कीवर्ड रिसर्च सबसे जरूरी चीज है। आपने ऐसे कई ब्लॉग या वीडियोज़ देखे ही होंगे जो Keyword Research के बारे में बताते हैं।

इंग्लिश ब्लॉग के लिए Keyword को खोजना आसान है। परंतु एक हिंदी ब्लॉग कीवर्ड रिसर्च थोड़ा मुश्किल है। इसलिए मैंने आप सभी हिंदी ब्लॉगर के लिए यह पोस्ट लिखने को सोचा। जिस प्रकार में Hindi Keyword Research करता हूं। उसी प्रकार आपको सभी चीजों के बारे में पूरी जानकारी दूंगा पोस्ट को पूरा पढ़ें और ध्यान से समझें। 

Keyword Research क्या है ?

हिंदी ब्लॉग के लिए Keyword Research कैसे करें
हिंदी ब्लॉग के लिए Keyword Research कैसे करें

Keyword Research का मतलब किसी ऐसे Keywords को खोजना। जिससे हम अपने ब्लॉग पोस्ट को Search Engine में रैंक करवा सकें। ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले कीवर्ड रिसर्च की जाती है। ऐसे शब्दों का चुनाव किया जाता है। जिससे यूजर हमारी पोस्ट टाइटल को देखकर उस कीवर्ड के आधार पर पोस्ट को पढ़ सके। बड़े ब्लॉगर किसी टॉपिक पर आर्टिकल लिखने से पहले Keyword Research करते हैं। जिसके बदौलत उनके द्वारा लिखा गया। आर्टिकल गूगल के पहले पेज पर Rank करता है।

Keyword Research के प्रकार

ऐसा नहीं है कि पूरी पोस्ट सिर्फ एक ही कीवर्ड पर Rank हो जाती है। जब भी हम Blog आर्टिकल लिखते हैं। उस में कईं अलगअलग प्रकार के कीवर्ड शामिल होते हैं। जो अलगअलग पोजीशन पर रहे होते हैं। एक सफल Blog Site के लिए पोस्ट लिखने में किनकिन प्रकार के Keywords का प्रयोग होता है। आपको या जरूर पता होना चाहिए। सफल ब्लॉग पोस्ट लिखने में मुख्य चार प्रकार के Keyword का प्रयोग किया जाता है।

Short Tail Keyword

शार्ट टेल कीवर्ड दो शब्दों का होता है। उदाहरण : ‘डिजिटल मार्केटिंगयह एक शार्ट टेल कीवर्ड है। Short Tail Keyword को Rank करवाना थोड़ा मुश्किल होता है। ऐसे Keywords की Search Volume हमेशा High रहती है। लोग शार्ट टेल कीवर्डस पर ज्यादा सर्च करते हैं। इसलिए यह High Competition Keyword भी माने जाते हैं।

Long Tail keyword

Long Tail Keyword चार या उससे ज्यादा शब्दों से मिलकर बना होता है। उदाहरण : डिजिटल मार्केटिंग ट्रेंनिंग इंस्टीट्यूट लोंग टेल कीवर्ड का अगर आप सही चुनाव कर लेते हैं। तो आपके लिए इन्हें रैंक करवाना बहुत आसान हो जाता है। Long Tail Keyword पर सर्च वॉल्यूम कम होता है। जिससे ब्लॉग पोस्ट आसानी से Long Tail Keyword पर रैंक कर जाती है। अगर आपने अभी नया ब्लॉग बनाया है। तो आपको Long Tail Keyword पर काम करना चाहिए।

Evergreen Keyword

Evergreen Keyword वे कीवर्ड होते हैं। जिनका Search Volume हमेशा High रहता है। भले ही इन कीवर्ड पर कंपटीशन ज्यादा होता हो। परंतु अगर आप इन कीवर्ड्स पर किसी आर्टिकल को लिखते हैं। उनका Trend हमेशा रहता है। लोग हमेशा इन्हें सर्च करते रहते हैं। उदाहरण: कंप्यूटर।

Trending Keyword

ट्रेंडिंग कीवर्ड वे Keyword होते हैं। जिनको निश्चित समय में Search किया जाता है। इनका समय कुछ ही दिनों या महीनों का होता है। इसके बाद इन्हें बहुत कम लोग सर्च करते हैं। Trending Keyword में ट्रैफिक बहुत ज्यादा होता है। उदाहरण: क्रिकेट मैच,न्यूज़।

क्या Keyword Research SEO के लिए जरूरी है ?

जी हां Keyword Research Seo के लिए बेहद जरूरी है। खासतौर में आज के समय में कीवर्ड रिसर्च के बिना आप सर्च इंजन रैंकिंग पेज(SERP) पर रैंक नहीं कर सकते। एक समय था जब लोग नॉर्मल बातचीत की तरह पोस्ट को लिखा करते थे और वह रैंक भी कर जाती थी।

परंतु जैसेजैसे लोगों को Internet पर मौजूद जानकारियों में रुचि होने लगी। Competition बढ़ता चला गया। जिसके कारण गूगल अपने Algorithm में बदलाव करने लगा। ताकि Robots शब्दों को पहचाने और लोगों के पूछे गए प्रश्न पर अपना रिजल्ट दिखा सके।

आज भी समयसमय पर गूगल अपने Algorithms में बदलाव कर रहा है। Keyword Research Seo के 200 फैक्टर में से सबसे अहम फैक्टर है। जिसका प्रयोग हमें अपने Blog में करना ही होगा

यह भी पढे

Instagram Account Permanently कैसे डिलीट करेंहिंदी में

Samsung Members App क्या हैपूरी जानकारी

Keyword Research में रखें इन बातों का ध्यान

आपने यह तो जान लिया कि आप को Shot Tail Keyword का चुनाव करना है या Long Tail Keyword का परंतु अब आपको कीवर्ड के इन दो प्रकारों में से किसी Keyword पर आगे की Research करनी है। यह नहीं है कि आप शार्ट टेल कीवर्ड का चुनाव करेंगे और सर्च इंजन रैंकिंग पेज (SERP) में जाएंगे। इसके बाद के कुछ फैक्टर होते हैं। जिसको आपको अपना कीवर्ड चुन लेने के बाद ध्यान में रखना होता है आइए जानते हैं।

Search Volume

Search Volume का मतलब किसी Specific Keyword को लोगों के द्वारा कितनी ज्यादा बार खोजा गया। जिन कीवर्ड की सर्च वॉल्यूम Low होती है। हमें उन Keywords को टारगेट करना चाहिए। ताकि Blog पर थोड़ा बहुत ट्रैफिक सके। नए ब्लॉगर अक्सर High Search Volume Keyword पर पोस्ट लिखते हैं। जिसमें वह पोस्ट को रैंक करवाने में असफल हो जाते हैं।और ना ही ब्लॉग पर Traffic आता है।

Keyword Difficulty

Keyword Difficulty में किसी कीवर्ड पर आपकी पोस्ट को Rank करने की संभावना को दर्शाया जाता है। इसे 0-100 के स्केल में देखा जाता है। अगर आप Keyword Research Tool में कीवर्ड डिफिकल्टी को चेक करते हैं। तो वह इस प्रकार होती है।

0-10  (आसान)

11-30 (मध्यम)

31-70 (कठिन)

71-100 (अत्यंत कठिन)

आपके Keyword की जितनी ज्यादा Keyword Difficulty होगी। उतनी मुश्किलें आपको आपके Page को Rank करने में आएंगी। कीवर्ड डिफिकल्टी आपके Competitor के डोमेन अथॉरिटी और उसके द्वारा लिखे गए Content की क्वालिटी जैसे फैक्टर्स पर निर्धारित होती है। इसे “Seo Difficulty” के नाम से भी जाना जाता है।

Backlink

Backlink का मतलब अपनी वेबसाइट को किसी दूसरी High Authority Website के साथ Link करना। यदि आपकी वेबसाइट का URL या ब्लॉग पोस्ट का URL किसी हाई अथॉरिटी वेबसाइट पर मिलता है। तो वह आपकी वेबसाइट के लिए एक बैकलिंक होगा यानी कि उस साइट ने आपको ‘BackLink’ दिया।

इसे गूगल आपकी नई वेबसाइट की अथॉरिटी को तो बढ़ाता ही है। साथ ही वेबसाइट की रैंकिंग में भी काफी बढ़ोतरी करता है। Keyword Research करके ब्लॉग पोस्ट लिखने के बाद अगर आप उस पोस्ट के लिए Backlink Create करते हैं। तो यह आपके लिए बहुत बड़ा Advantage होगा।

हिंदी ब्लॉग के लिए कीवर्ड रिसर्च कैसे करें ?

आप जानते हैं कि अपने हिंदी ब्लॉग के लिए Keyword Research कैसे करते हैं। हिंदी कीवर्ड रिसर्च सीखने के लिए आपको निम्नलिखित Steps को फॉलो करना होगा :

1. अगर आपका नया ब्लॉग है तो आप हमेशा long-tail Keyword  को चुने।

2. शुरू के 30+ पोस्ट Long Tail Keyword के लिखें।

3. ऐसे कीवर्ड पर आप आसानी से काम करके अपनी ब्लॉग पोस्ट को आसानी से रैंक करवा सकते हैं।

4. चुने हुए कीवर्ड की Search Volume, Keyword Difficulty का आकलन सही से करें।

5. गूगल रिलेटेड सर्च का उपयोग करें इसमें आप अपने कीवर्ड से जुडे लाॅन्ग टेल कीवर्ड या शार्ट टेल कीवर्डस को आसानी से ढूंढ सकते हैं।

6. कीवर्ड रिसर्च के लिए Hindi Keyword Research Tools प्रयोग करें।

7. अपने Blog Post में आप के चुने गए Topic से मिलते जुलते Keyword का प्रयोग करें। इसमें आप गूगल कीवर्ड प्लानर का प्रयोगकर सकते हैं।

8. मान लीजिए आपको आपके Hindi Keyword की सर्च वॉल्यूम कहीं से पता नहीं चल रही है। ऐसे में आप Ahref Free Keyword Gernator Tool का प्रयोग करें। अपनी हिंदी कीवर्ड को इंग्लिश में भरे इंडिया लोकेशन चूज करें।

आपके कीवर्ड रिसर्च वॉल्यूम और केवल डिफिकल्टी दिखाई दे जाएगी। यह सब Data जानकारी Ahref tool में इंग्लिश में Show होगी। परंतु बात वही होगी कि उस Keywords पर India में कितने ज्यादा लोग Search कर रहे हैं।

Long Tail Keyword के फायदे

1. लाॅन्गटेल कीवर्ड  का प्रयोग कर अपने आर्टिकल को आसानी से Rank करवा सकते हैं।

2. ऐसे ही कीवर्ड को आप आसानी से खोज सकते हैं।

3. लाॅन्ग टेल कीवर्ड पर डिमांड ज्यादा है परंतु ज्यादा कीवर्ड पर आर्टिकल मौजूद नहीं ऐसे कीवर्ड पर काम करके Unlimited Traffic अपनी Site पर ला सकते हैं।

4. ज्यादा Seo करने की जरूरत नहीं पड़ती Easily Rank करवा सकते हैं।

5. Long Tail Keywords ज्यादा लोगों के द्वारा Search किए जाते हैं।

Conclusion ( निष्कर्ष )-

आखिर में दोस्तों मैं आपको कहना चाहूंगा। कि अगर आप अपने नए Blog पर काम कर रहे हैं। आपने Keyword Research भी अच्छी की है। परंतु आपकी पोस्ट सर्च इंजन रैंकिंग पृष्ठ(SERP) में नहीं रही। तो ऐसा समझे कि आपके चुने गए किवर्ड सही तरह से इंप्लीमेंट नहीं हुए हैं। अपने Competitors ब्लॉग साइट को देखें और समझे कि आपके कंपीटीटर ने ऐसा क्या किया है। जो आपने अपनी पोस्ट में नहीं किया।

कई बड़े Seo Experts का कहना है कि Seo के 200 फैक्टर है। जो Ranking में अपनी अहम भूमिका निभाते हैं। आपको अपनी साइट की Loading Speed,Backlink जैसे तमाम फैक्टर्स को भी अच्छे से Analysis करना होगा। तभी आप ब्लॉगिंग में सफल हो सकेंगे।

तो दोस्तों आपको हमारी पोस्ट हिंदी ब्लॉग के लिए Keyword Research कैसे करें पसंद आई तो हमें अपने सुझाव नीचे कमेंट में अवश्य लिखें। इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में अवश्य शेयर करें।

Leave a Comment