Multi Niche क्या है? अपना Multi Niche Blog कैसे बनाएँ? (8 Best Tips)

नमस्कार दोस्तों, आज हम इस लेख में Blog Niche के तीन प्रकारों में से एक Multi Niche के बारे में जानेंगे। इस लेख में Multi Niche Blog को बनाने से लेकर उन तमाम ज़रूरी बातों को भी जानेंगे। जो आपको नया ब्लॉग शुरू करते समय कोई नहीं बताता।

शुरू में अक्सर नये ब्लॉगर इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि आखिर हम अपना ब्लॉग किस टॉपिक यानी किस Niche पर बनाए।जिससे हम भी अपना कैरियर ब्लॉगिंग में बना सके।

कुछ ही समय बाद नये ब्लॉगर ब्लॉगिंग के बारे में ज्यादा जानकारी ना होने के चलते अपने ब्लॉग पर कई अलग-अलग टॉपिक पर आर्टिकल डालना शुरू कर देते हैं। जिसे Multi Niche कहा जाता है। परंतु कुछ ही समय बाद ब्लॉग में सफल न होकर काम करना शुरू बंद कर देते हैं।

बता दें कि Multi Niche Blog शुरू करते वक्त आपको इसके बारे में रिसर्च करनी होगी। साथ ही उन तमाम पहलुओं को समझना और अप्लाई करना होगा। जो बाकी दूसरे ब्लॉगर अपने मल्टी निश ब्लॉग में करते हैं।

हमने अपनी रिसर्च और अनुभव के आधार पर Multi Niche क्या है? लेख को लिखा है। जिसमें Multi Niche Blog पर आर्टिकल लिखने से लेकर उसको एक सफल ब्लॉग बनाने के तरीकों को भी बताया है।

तो चलिए दोस्तों आपका ज्यादा समय न लेते हुए नया ब्लॉग शुरू करने की सबसे पहली सीढ़ी जिसे Niche कहते हैं और Multi Niche के बारे में पूरी जानकारी जानते हैं।

हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि Multi Niche क्या है? अपना Multi Niche Blog कैसे बनाएँ? को पढ़ लेने के बाद इससे जुड़ी तमाम बातों को समझ जाएंगे। कृप्या इस लेख को अंत तक पढ़े।

Blog Niches से संबंधित अन्य लेख:

🌈*ध्यान दें- Niche का हिंदी मतलब “अनुकूल या उपयुक्त” होता है। नये ब्लॉग पर किसी विशेष टॉपिक या विषय पर आर्टिकल लिखे जाते है। जिससे ब्लॉग पढ़ने आने वाले यूज़र्स जान पाते है कि ब्लॉग पर किस विषय से संबंधित आर्टिकल मिलेंगे। वह विशेष टॉपिक ही उस ब्लॉग की Niche कहलाता है।

सामग्री की तालिका :-

Multi Niche क्या है?

Multi niche kya hai

आसान भाषा में, Multi का अर्थ “एक से अधिक” होता है और Niche का अर्थ “अनुकूल या उपयुक्त” यानी की Multi Niche Blog पर उन अलग-अलग टॉपिक पर आर्टिकल लिखे जाते है। जो आपके ब्लॉग के लिये अनुकूल हो यानी आपको उन टॉपिक्स के बारे में रुचि और थोड़ी बहुत जानकारी हो। अलग-अलग टॉपिक्स के बारे में लिखे गये आर्टिकल वाले ब्लॉग को Multi-Topic Blog भी कहते है।

उदाहरण के लिए: आपने कईं ऐसे ब्लॉग्स/वेबसाइट पर आर्टिकल्स पढ़े होंगे। जो लगभग हर तरह के टॉपिक पर आर्टिकल लिखते है जैसे: टेक्नोलॉजी, हेल्थ, इंटरटेनमेंट, फ़ूड और लाइफस्टाइल टॉपिक्स पर एक ही ब्लॉग पर आर्टिकल लिखे जाते है।

ऐसी अलग-अलग Niches ज़्यादातर न्यूज़ वेबसाइट कवर करती है। न्यूज़ साइट्स पर भी आपको अलग-अलग टॉपिक्स पर आर्टिकल पढ़ने को मिल जाते है। बता दें कि न्यूज़ साइट High Authority साइट्स होती है। जिन्हें गूगल बोट्स जल्दी SERP यानी सर्च इंजन रैंकिंग पॉज़िशन में अच्छी रैंकिंग प्रदान करता है।

जिसका कारण ज़्यादा संख्या में आर्टिकल का डालना है। न्यूज़ साइट के पास ज़्यादा संख्या में कंटेंट राइटर होने के कारण ट्रेंडिंग टॉपिक्स पर आर्टिकल डालती रहती है। जो निरंतर आर्टिकल पब्लिश करते रहते है।

परंतु अगर बात करें अकेले ब्लॉगर के द्वारा Multi Niche Blog शुरू करने की तो हाँ आप अकेले भी Multi-Topic ब्लॉग पर काम कर सकते है। जिससे आप अच्छी ख़ासी कमाई कर सकते है। Multi Niche ब्लॉग को शुरू करने से पहले इस लेख में लिखी तमाम जानकारी को जानें, समझें और अपने ब्लॉग में अप्लाई करें।

Multi-Niche Category क्या होती है?

किसी विशेष Niche को चुन लेने के बाद उसपर अलग-अलग टॉपिक्स के बारे में आर्टिकल लिखे जाते है। जिन्हें श्रेणियों (Categories) में बाँटा जाता है। जिससे ब्लॉग पढ़ने आए यूज़र्स समझ पाते है की इस कैटेगरी पर क्लिक करने से उस कैटेगरीसे संबंधित आर्टिकल पढ़ने को मिलेंगे।

ठीक इसी प्रकार Multi Niche Topics पर भी अलग-अलग कैटेगरी बनानी होती है। जैसे: आपने Mobile Niche को चुना तो आप इस पर टेक्नोलॉजी से संबंधित ओर Niches पर भी आर्टिकल लिख सकते है। जैस की मशीन लर्निंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ब्लॉकचेन इत्यादि।

इसके लिए आप अलग से कैटेगरी बनाएँगे जिससे ब्लॉग पर आने वाले यूजर समझ पाएगा की प्रत्येक कैटेगरी में किस टॉपिक के बारे में आर्टिकल पढ़ने को मिलेंगे।

ब्लॉगिंग से संबंधित लेख:

अपना Multi Niche Blog कैसे बनाएँ?

मुझे अपना ब्लॉग शुरू किए 3 साल से ज्यादा हो चुके हैं। ऐसे में मैंने बहुत से ब्लॉग को पढ़ा और समझा है कि आखिर दूसरे ब्लॉगर्स किस तरह के ब्लॉग पर काम कर रहे हैं और क्या कुछ नई टेक्निक अपना रहे हैं। इसके अलावा क्या कुछ नहीं चीजें ब्लॉगिंग में आ रही हैं।

3 वर्ष के ब्लॉगिंग अनुभव के आधार पर Multi Niche Blog को बनाने संबंधी ऐसी जरूरी जानकारी आपसे साझा करने जा रहा हूं। जो अब से पहले किसी दूसरे ब्लॉग पर आपने पढ़ी नहीं होगी।

एक साधारण Blog के मुकाबले Multi Niche पर अपना ब्लॉग बनाना जोखिम भरा काम होता है। क्योंकि ज्यादातर मामलों में ऐसे ब्लॉग असफल होते आए हैं।

खासतौर पर नये ब्लॉगर जिनको ब्लॉगिंग संबंधी ज्यादा जानकारी होती नहीं और वह सबसे पहला काम अलग-अलग टॉपिक पर आर्टिकल लिखने का ही करते हैं। जिसके चलते वह जल्द ही असफलता का सामना करते हैं।

Multi Niche ब्लॉग पर कंटेंट लिखने के आईडिया की कमी नहीं होती। परंतु अगर ऐसे ब्लॉग पर ध्यानपूर्वक और ब्लॉगिंग ट्रेंड को देखते हुए काम ना किया जाए तो यह कब असफल हो जाते हैं। कंटेंट लिखने वाले ब्लॉगर्स को पता भी नहीं चलता।

खैर चलिए अब Multi Niche Blog को बनाने संबंधी उन जरूरी बातों को जानते हैं। जो आपको ध्यान में रखनी होंगी और अपने ब्लॉग में अप्लाई करना होगा।

Multi Niche Blog बनाने हेतु ध्यान देने योग्य ज़रूरी बातें:

  1. आकर्षक ब्लॉग नाम चुनें
  2. Blog Name के लिए .Com .In .Net जैसे डोमेन चुनें
  3. अच्छी वेब होस्टिंग ख़रीदें
  4. वेब होस्टिंग के ज़रिए WordPress इंस्टॉल करें
  5. Fast Loading WordPress Theme को चुनें
  6. आवश्यक वर्डप्रेस Plug-in चुनें
  7. अपने ब्लॉग थीम का Setup करें
  8. ब्लॉग पोस्ट लिखना शुरू करें

1. आकर्षक ब्लॉग नाम चुनें

लाखों ब्लॉग्स की भीड़ में से अगर अपना ब्लॉग यूनिक दिखाना है तो जितना ज्यादा समय हो अपने ब्लॉग का नाम ढूंढने में लीजिए। देखिए ब्लॉग नेम ही सबसे पहला वह Address है। जिसके जरिए यूज़र्स आपके ब्लॉग पर विजिट करेंगे।

Single Niche पर ब्लॉग बना रहे हैं तो आपको उस Niche के हिसाब से Blog Name का चयन करना चाहिए। क्योंकि Single Niche के लिए चुना गया Blog Name एक सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO) के हिसाब से एक Keyword की तरह काम करता है।

उदाहरण आप Tech Niche पर काम करते हैं। Tech Niche पर ब्लॉग बनाया तो उस ब्लॉग का नाम Tech(Yourname) .Com .In .Net होना चाहिए। जिसमें Tech कीवर्ड आ जाए। इससे आसानी से Google Bots समझ पाते हैं कि आपका ब्लॉग किस टॉपिक पर बना है।

तो वहीं Multi Niche पर आप अलग-अलग टॉपिक के बारे में आर्टिकल लिखेंगे। तो जिसके कारण आपको इस बात की छूट होती है कि आप Multi Niche Blog का नाम कुछ भी रख सकते हैं। अपने नाम से रख सकते हैं या कोई खास नाम हो। यह ध्यान अवश्य रखें कि वह नेम किसी दूसरी वेबसाइट ने पहले से ही ना रखा हो।

अगर आपके द्वारा चुना गया Blog Name पहले से ही किसी दूसरी वेबसाइट पर रजिस्टर्ड है तो आप कभी भी अपने ब्लॉग को Brand नहीं बना सकोगे। क्योंकि गूगल सर्च इंजन भी आपको Duplicate Blog Name की कैटेगरी में रखेगा।

इसलिए सबसे पहले आकर्षक, यूनिक नाम चुने। फिर उस Name पर डोमेन देखें .Com .In .Net जैसे सभी Domain उपलब्ध है या नहीं। अगर उपलब्ध है तो आप अपने यूनिक ब्लॉक नेम से संबंधित सभी डोमेन ख़रीदें। जिससे कोई आपके ब्लॉग का Duplicate (नक़ल) न बना सके।

2. Blog Name के लिए .Com .In .Net जैसे डोमेन चुनें

जैसे कि हमने ऊपर बताया कि Blog Name चुने लेने के बाद आपको डोमेन को भी खरीदना होगा यानी रजिस्टर्ड करना होगा। GoDaddy से डोमेन खरीदना सही है।

ब्लॉग पर काम करने के लिए .Com डोमेन को ही पहली प्राथमिकता दें। शेष बचे Domain को खरीद कर भविष्य के लिए रख लें। जिससे Duplicate Blog Name की समस्या पैदा ना हो।

Multi Niche Blog के लिए .Com डोमेन का चयन करना इसलिए जरूरी है क्योंकि आप कई अलग-अलग विषयों के बारे में आर्टिकल अपने ब्लॉग पर डालेंगे और जो .Com डोमेन है।

वह पूरे विश्व में सबसे ज्यादा खरीदा जाने वाला Domain है। क्योंकि यह पूरे विश्व में रैंक करने के लिए बना है और .Com ब्लॉग नेम वाली वेबसाइट को लोग ज्यादा वैल्यू देते हैं। इसलिए अपने ब्लॉग के लिए .Com डोमेन का ही चयन करें।

तो वहीं अगर आपका ब्लॉग किसी विशेष भाषा जैसे हिंदी पर बना है और आप अपने ब्लॉग को इंडिया में ही रैंक करवाना चाहते हैं तो आप .In डोमेन पर भी काम कर सकते हैं।

3. अच्छी वेब होस्टिंग ख़रीदें

वेब होस्टिंग की मदद से आपका ब्लॉग इंटरनेट पर लोगों तक पहुंचता है। आपके ब्लॉग का पूरा डाटा Web Hosting Server पर ही होता है।

उदाहरण जैसे किसी भी इंटरनेट ब्राउजर से यूजर Blog Address (Yoabby.Com) भरता है तो इस ब्लॉग की जानकारी यूजर को दिखाने के लिए इंटरनेट ब्राउजर वेब होस्टिंग सर्वर पर रिक्वेस्ट भेजता है और जो भी कंटेंट आपने अपने ब्लॉग पर डाला है।

वह वेब होस्टिंग के जरिए यूजर को अपने मोबाइल/कंप्यूटर Internet Browser पर दिखता है। अब इसमें बात आती है अच्छी Web Hosting की जिसका मतलब है कि आप अपने ब्लॉग के लिए अच्छी हाई स्पीड होस्टिंग का चयन करें।

Multi Niche Blog में सफलता का एकमात्र उपाय है। ज्यादा मात्रा में कंटेंट जितनी ज्यादा कड़ी मेहनत आप अपने ब्लॉग पर कंटेंट डालने में करेंगे। उतनी जल्दी सफलता ब्लॉग में मिलेगी।

परंतु अगर उसी कंटेंट पर गूगल सर्च इंजन में किसी यूजर के द्वारा उस पर विजिट किया जाए और वह आर्टिकल खुलने में समय ले तो यूजर उस आर्टिकल को वहीं छोड़ देगा और दूसरे किसी ब्लॉग के आर्टिकल को पढ़ेगा।

किसी भी Page की Loading Speed उस ब्लॉग की होस्टिंग पर निर्भर करती है कि वह कितनी Fast है और आपने कौन सी होस्टिंग को चुना है? उसका Server Load Time कितना है? वह एक समय पर कितने विजिटर्स का Load ले सकती है?

इसलिए इन बातों को ध्यान में रखते हुए अच्छी Web Hosting का ही चयन करें। Page Speed भी गूगल के रैंकिंग SEO Factor में से एक है। अगर आपका आर्टिकल खुलने में समय ले रहा है तो वह गूगल की नजर में High Quality Content नहीं है। इसलिए बेस्ट वेब होस्टिंग को ही चुने।

4. वेब होस्टिंग के ज़रिए WordPress इंस्टॉल करें

अच्छी Web Hosting को खरीदे लेने के बाद वर्डप्रेस को Install करें। आपने जिस भी होस्टिंग प्लेटफार्म से होस्टिंग को Buy किया है। उसमें वहीं से आपको Setup Option मिल जाएंगे। जिसमें आपको अपना खरीदा गया Domain चुनना है और फिर Install WordPress पर क्लिक करना है।

ध्यान दें यह प्रक्रिया बेहद जरूरी होती है इसे ध्यान से समझना जरूरी है। आप Hosting Setup के दौरान जो सेटिंग करते जाएंगे। उनके बारे में इंटरनेट पर जरूर जाने ताकि आप ब्लॉगिंग में अनुभव प्राप्त करते जाएं। भविष्य में यह चीजें कामयाब काम आएंगे।

5. Fast Loading WordPress Theme को चुनें

वर्डप्रेस पर अपना ब्लॉग बनाने के लिए हजारों Themes इंटरनेट पर मिल जाएंगी। परंतु Multi Niche Blog के लिए आपको ऐसी Fast Loading Theme का चयन करना होगा। जो Seo Friendly, Fast Load, Lightweight होने के साथ-साथ Responsive Theme भी हो।

जो आसानी से यूजर्स की डिवाइस में खुले चाहे वह Mobile, Tablet या Computer में आपके ब्लॉग को विजिट कर रहा हो। वर्डप्रेस पर Theme आकर्षक दिखनी चाहिए। क्योंकि मल्टी निश ब्लॉग पर आप कई अलग-अलग कैटेगरी बनाओगे। ऐसे में आपके Homepage पर सभी कैटेगरी दिखनी चाहिए।

जिसमें यूजर एक आर्टिकल को पढ़ लेने के बाद किसी दूसरी कैटेगरी के आर्टिकल को भी पड़े। आकर्षक Theme के कारण यूजर ब्लॉग पर ज्यादा समय पढ़ने में गुजारता है। इसलिए Theme के द्वारा अपने ब्लॉग को Professional बनाएं। Fast Loading WordPress Theme और अच्छी वेब होस्टिंग से यूजर आपके ब्लॉग को जल्दी और ज्यादा समय तक आर्टिकल को पड़ेंगे।

6. आवश्यक वर्डप्रेस Plug-in चुनें

अपने ब्लॉग के लिए सिर्फ उन्हीं Plug-in को इंस्टॉल करके रखें। जो ब्लॉग में उपयोग किए जा रहे हो। जो Plugin WordPress को इंस्टॉल करते वक्त पहले से ही इंस्टॉल आए थे। उन्हें Uninstall करें।

ज्यादा प्लगइन इंस्टॉल करने से वेबसाइट की होस्टिंग स्पीड पर असर पड़ता है। Page Load होने में समय लेता है। Yoabby.com ब्लॉग पर 12 से ज्यादा WordPress Plugin Install नहीं है। इसलिए जितने कम Plugin हो उतना आपके Hosting Server बेहतरीन परफॉर्मेंस आपको देंगे।

7. अपने ब्लॉग थीम का Setup करें

चुनी गई WordPress Theme को आकर्षक बनाने हेतु Theme का Setup करना बेहद जरूरी है। आपने कईं ब्लॉग्स पढ़े होंगे उनके Theme Design को नोटिस किया होगा। ठीक उसी प्रकार आपको अपने Multi Niche Blog के लिए अपनी Theme का डिजाइन बिल्कुल यूनिक करना है।

अपनी वेबसाइट के लिए Color Combination चुनें। साथ ही ब्लॉग को एक Brand की तरह दिखाने हेतु Logo Design करें। जैसे हमारे ब्लॉग का Logo देख सकते हैं। साथ ही अपने ब्लॉग के लिए Font Design का चयन करें और Font Size कितना करना है। दरअसल यह सभी बातें Theme के Customization Tab में Typography Section में आती है।

Typography में H1, H2, H3, H4, H5 Headings के Font का आकार और आपके ब्लॉग के आर्टिकल के Text यूजर को पढ़ने में ज्यादा बड़े या ज्यादा छोटे तो नहीं लग रहे? जैसी चीजें शामिल होती है। जिनका आप Setup करेंगे।

🌈*ध्यान दें- कि गूगल के अनुसार ब्लॉग को जितना सिंपल यूजर के लिए रखा जाए। उतना ज्यादा यूजर कंटेंट पढ़ने में रुचि दिखाता है। इसलिए ज्यादा Eliments का उपयोग Theme Setup में ना करें तो बेहतर होगा।

8. ब्लॉग पोस्ट लिखना शुरू करें

सभी चीजों को चुन लेने और Setup करने के बाद आखिर बात आती है। Multi Niche Blog पर आर्टिकल लिखने की। देखिए Multi Niche ही नहीं सभी प्रकार की Blog Niches में सफलता मिलती है। दिन-रात मेहनत करने पर जितना ज्यादा टॉपिक्स पर आप आर्टिकल लिखते जाएंगे।

जितना ज्यादा कंटेंट अपने ब्लॉग पर डालेंगे। उतना ज्यादा यूजर्स ब्लॉग पढ़ने आएंगे। इसलिए एक बार पूरा ब्लॉग से Setup कर लेने के बाद सिर्फ आपका काम उस पर कंटेंट डालना है। जो बाकी दूसरे ब्लॉगर से यूनिक और इनफॉर्मेटिव होंगे।

Multi Niche Blog में सफलता देर से इसलिए मिलती है। क्योंकि ब्लॉगर अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखने को लेकर चिंतित रहते हैं कि आखिर किस टॉपिक पर आर्टिकल लिखुं? जिसका एकमात्र उपाय है- Keyword Research और कड़ी मेहनत।

Multi Niche ब्लॉग पर आर्टिकल कैसे लिखें?

अपना Multi Niche Blog कैसे बनाएँ?

Multi Niche Blog पर आर्टिकल किस तरह से लिखेंगे और आर्टिकल लिखते समय किन बातों को ध्यान में रखना है। आगे हम उन तमाम ज़रूरी बातों को जानेंगे। आप नीचे दी जानकारी को टिप्स के तौर पर भी देख सकते हैं। जिनको ब्लॉग के आर्टिकल लिखते दौरान हमेशा अप्लाई करें।

Tips#1 Multi Niche Blog पर आर्टिकल लिखते वक्त हमेशा ध्यान रखें कि आपसे भी बेहतर और अनुभवी ब्लॉगर्स Multi Niche पर काम करते हैं और अच्छी कमाई के लिए बेस्ट आर्टिकल लिखते हैं। ऐसे में आपका यहां पर सबसे जरूरी काम आता है अपने ब्लॉग पढ़ने आये यूजर्स को High Quality Content उपलब्ध कराना।

जिसमें ध्यान देने योग्य बात यह है कि क्या आप बाकी ब्लॉग्स के आर्टिकल से भी बेहतर आर्टिकल लिख सकते हो? जो उन्होंने कंटेंट लिखा है उससे भी बेहतर कंटेंट। उन्होंने क्या कुछ अपने आर्टिकल में छोड़ा है उस कमी को समझे और आर्टिकल लिखें।

Tips#2 तो वही आर्टिकल लिखते वक्त Multi Niche ब्लॉग के लिए सबसे जरूरी बात आती है। Post Title हमेशा ऐसे Keywords का उपयोग करें जो Long-Tail Keywords हो। जिससे आप अपने ब्लॉगिंग सफल में सफर जरूर होंगे।

Tips#3 गूगल के नियमों के अनुसार किसी भी दूसरे ब्लॉग के आर्टिकल को 5% भी कॉपी ना करें। सभी आर्टिकल आपकी खुद की रिसर्च और मेहनत से लिखे गए हो। जिसे गूगल के Crawlers ब्लॉग को Crawl करेंगे तो सबसे यूनिक और बेहतर कंटेंट ब्लॉग पर मिलने से अच्छी रैंकिंग आपके ब्लॉग के आर्टिकल को मिलेगी।

Tips#4 साथ ही Multi Niche Blogs में Link Building अपनी अहम भूमिका निभाती है। Link Building में “Interlinking” भी शामिल है। जिसमें एक आर्टिकल को दूसरे किसी मिलते-जुलते कीवर्ड आर्टिकल से “इंटरलिंक” यानी जोड़ा जाता है। जिससे Link Juice दोनों आर्टिकल में बना रहे और अच्छी रैंकिंग मिले।

Tips#5 तो वहीं Multi Niche Blog में आर्टिकल लिखते दौरान जिन Keywords को ब्लॉग पोस्ट में शामिल करना है। उन्हें Note में अवश्य कर लें। जिससे आर्टिकल लिखते समय कीवर्ड आपके सामने रहे और Keyword Stuffing ना हो। साधारण तौर पर आप की-वर्ड से डालते जाएं। जिससे Google Bots आर्टिकल को Scam Content ना समझें।

Tips#6 ‘Blogging Is Conversation, Not a Code’- Mike Butcher जी हां ब्लॉगिंग में कंटेंट लिखना अपने और यूजर के बीच एक तरह से रिश्ता बनाना है। जहां वह आपके द्वारा लिखे आर्टिकल से अपनी समस्या का समाधान लेंगे।

इसलिए जितना ज्यादा संभव हो अपनी बात को बिल्कुल आसान और प्रभावशाली तरीके से यूजर को समझाएं। जिसे यूजर को मजा आए कि जैसे एक बातचीत आर्टिकल के माध्यम से चल रही हो। जितना ज्यादा आसान समाधान या जानकारी ब्लॉग आर्टिकल में देंगे। उतना ज्यादा यूजर ब्लॉग से जुड़ेंगे और आर्टिकल में लिखी बातों को समझ पाएंगे।

Multi Niche Blog को सफल बनाने के गज़ब टिप्स

Single Niche Blog के मुक़ाबले Multi Niche पर काम करने के लिए सबसे अलग रणनीति बनानी होती है। जिन्हें फॉलो कर आप अपने ब्लॉग को सफलता की राह पर ले जा सके। नये ब्लॉगर्स को अपने कंटेंट लिखने की बेहतरीन कला पर पूरा विश्वास होता है कि हम ज्यादा कंटेंट डालेंगे तो जल्दी अच्छे परिणाम मिलेंगे।

परंतु बता दें कि किसी भी Niche पर ब्लॉग शुरू करने से पहले हमें उन बातों को जरूर ध्यान में रखना चाहिए। जो बाकी दूसरे ब्लॉगर्स के द्वारा अपनाई गई हो।

इसलिए Multi Niche Blog को सफल बनाने के बेहतरीन टिप्स हम आपके लिए लाए हैं। जिन्हें अपने Multi Niche ब्लॉग की शुरुआत में आपको ब्लॉग पर अप्लाई जरूर करना है।

Multi Niche Blog को सफल बनाने के कुछ बेहतरीन टिप्स:

  1. टॉपिक्स को Category में बाँटे
  2. आर्टिकल में Interlinking करें
  3. हर Niche Topic पर लिखे ज़्यादा आर्टिकल
  4. अपनी रुचि अनुसार Niches पर काम करें
  5. SEO Meta Tags है बेहद ज़रूरी
  6. long-Tail Keyword पर काम करें
  7. मिलते-जुलते ब्लॉग्स से Backlink बनायें
  8. सोशल-मीडिया से ब्लॉग को जोड़ें

1. टॉपिक्स को Category में बाँटे

Multi Niche Blog या फिर Multi Topics Blog पर आर्टिकल लिखने से पहले यह सुनिश्चित अवश्य करें कि आप जिन टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखेंगे। उन्हें कैटेगरी के हिसाब से अलग-अलग बांट दें जैसे गेमिंग, इंटरनेट, ब्लॉगिंग, डिजिटल टेक्नोलॉजी और कंप्यूटर।

अगर आप इनमें से किसी भी Niche पर आर्टिकल लिखते हैं तो उसे कैटेगरी के हिसाब से स्थान दें। जैसे गेमिंग के बारे में आर्टिकल लिखा है तो गेमिंग कैटेगरी में रख दें। ठीक इसी प्रकार आपको अपने ब्लॉग के लिए कैटेगरी बना लेनी है।

जिसे ब्लॉग पढ़ने आए यूज़र्स समझ सके कि किस कैटेगरी में किस Niche से संबंधित आर्टिकल पढ़ने को मिलेंगे। जिससे उन्हें यह लगे कि इस ब्लॉग पर Content Value सही है।अपनी मर्जी से किसी भी कैटेगरी में ब्लॉग संस्थापक आर्टिकल नहीं डाल रहा।

2. आर्टिकल में Interlinking करें

अलग-अलग कैटेगरी बनाकर उनसे संबंधित टॉपिक पर आर्टिकल लिखने से आप उनमें Interlinking बड़ी आसानी से कर सकते हैं। जैसे आपने ब्लॉगिंग के बारे में आर्टिकल लिखे। अब ब्लॉगिंग कैटेगरी में जो ब्लॉगिंग कीवर्ड है। वह कीवर्ड कईं और आर्टिकल में भी आएगा।

जो आपके द्वारा लिखे जाएंगे। इसलिए आप एक आर्टिकल को दूसरे आर्टिकल से लिंक कर सकते हैं। जिसे Link Building या Interlinking भी कहते हैं।

इंटरलिंकिंग का फायदा होता है कि आप अपने नए आर्टिकल को किसी दूसरे आर्टिकल से लिंक करते हो यानी जो Keyword लिखे गए कंटेंट में भी हो और पुराने में भी तो गूगल बोट्स उन्हें बहुत कम समय में अच्छी रैंकिंग दे देता है।

साथ ही गूगल आपके ब्लॉग को अथॉरिटी देना शुरू कर देता है। जिसे ब्लॉग की रैंकिंग धीरे-धीरे सुधरने लगती है।

3. हर Niche Topic पर लिखे ज़्यादा आर्टिकल

Multi Niche ब्लॉग को गूगल सर्च इंजन में अच्छी रैंक दिलाने के लिए हर टॉपिक पर कम से कम 20 आर्टिकल अवश्य लिखें। बनाई गई प्रत्येक कैटेगरी में 20 आर्टिकल अवश्य होनी चाहिए। जिससे यूजर के लिए ब्लॉग पर आर्टिकल पढ़ने के लिए कंटेंट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो सके।

जैसे कि हो सकता है कि यूजर ब्लॉगिंग कैटेगरी में ज्यादा रुचि रखता हो तो वह सिर्फ ब्लॉगिंग कैटेगरी के आर्टिकल को ही पड़ेगा। ऐसे में उस कैटेगरी में से पर्याप्त आर्टिकल जरूर लिखे होना चाहिए। जिससे यूजर ब्लॉग पर ज्यादा समय बिताएं और ब्लॉग का Bounce Rate सही रहे।

तो वहीं दूसरी तरफ Google Bots आपके ब्लॉग को Crawl करते वक्त हर कैटेगरी में आर्टिकल की संख्या को जाँचते हैं। जिससे वह प्रत्येक कैटेगरी के हिसाब से आपके ब्लॉग को Rank करने में सहायता करते हैं।

4. अपनी रुचि अनुसार Niches पर काम करें

ज्यादातर ब्लॉगर जो Multi Niche पर काम करते हैं। उनकी मल्टी टॉपिक ब्लॉग्स में असफलता का कारण है पहले दिन से ही अलग-अलग टॉपिक पर आर्टिकल डालना शुरू कर देना। जिसे यूजर और गूगल बोट्स समझ नहीं पाते कि आखिर यह ब्लॉग किस बारे में है। किस कैटेगरी में आपके ब्लॉग को रैंकिंग दी जाए।

दरअसल Multi Niche ब्लॉग पर काम करने के दौरान आप सबसे पहले उन दो Niches पर काम करें जिसके बारे में आपको रुचि हो। आप उन Niches के बारे में ज्यादा जानते हो। ऐसे में उन दो कैटेगरी पर सबसे ज्यादा आर्टिकल लिखें।

🌈*ध्यान रहे उन दो Multi Niche के बारे में रिसर्च अवश्य कर लें कि उनमें कीवर्ड कंपटीशन कम हो। जिससे ज्यादा संख्या में लिखे गए आर्टिकल जल्दी रैंक हो।

गूगल बोट्स जब किन्हीं दो Niches पर ज्यादा संख्या में आर्टिकल Crawl करते हैं तो वह उन्हें विशेष के Niches के आधार पर आपके ब्लॉग को High Authority Blogs में स्थान देना शुरू कर देते हैं। उसके बाद से आप बाकी की Niche पर आर्टिकल डालें। परंतु ध्यान रहे पहले दो कैटेगरी को पकड़े शेष बचे Niches पर इतना सिर्फ़ 20 आर्टिकल डालें।

अगर आप ऐसा करते हैं तो धीरे-धीरे आप Authority अपने ब्लॉग साइट के लिए बढ़ाने लगोगे और सबसे पहले Multi Niche ब्लॉग पर प्रोफेशनल ब्लॉगर किन्ही दो Niches पर ही काम करते हैं। जिससे बाद में उन्हें High Authority Difficulty वाले की-वर्ड पर आर्टिकल लिखने में आसानी हो।

5. SEO Meta Tags है बेहद ज़रूरी

किसी भी Niche के लिए Meta Tags को बनाना बेहद जरूरी है। दरअसल Meta Tags के द्वारा गूगल बोट्स आपका ब्लॉग किसके बारे में है? किस टॉपिक पर बना है और कौन से कीवर्ड्स Meta Tags में आपने डाले हैं?

जैसे जरूरी SEO Ranking Factor की जांच करता है। जिससे वह यह समझ पाता है कि आपका कंटेंट किस बारे में है और किन कीवर्ड्स या Niche के हिसाब से ब्लॉग को रैंक करवाना है।

Meta Tags में आपके ब्लॉग का Title Tag और Meta Description शामिल होता है। जिससे आप अपने ब्लॉग के बारे में क्रॉलर को बताएंगे कि हमारा ब्लॉग किन Niche Topics को कवर करता है।

ध्यान दें ब्लॉग के लिए 160-165 Character के बीच में Meta Description लिखें। जिससे यूजर और गूगल बोट्स जान पाये की ब्लॉग किस बारे में है। सिर्फ कीवर्ड्स का उपयोग ना करें। जिस बारे में ब्लॉग है या कौन सी कैटेगरी कवर करता है। उनके बारे में मेटा डिस्क्रिप्शन में लिखें।

ध्यान दे वर्डप्रेस पर किसी भी Seo Tool जैसे Rankmath/Ahrefs के द्वारा Meta Tags और Homepage Meta Description को सेट करने हेतु विकल्प उपलब्ध है। आप वहाँ से आसानी से Blog Description सेट कर सकते हैं।

Multi Niche के लिए Meta Tags Create करना बेहद जरूरी है। क्योंकि ऐसे ब्लॉग पर कई अलग Niches पर काम किया जाएगा।जिससे Meta Description में उन Niche Category का उपयोग Keywords की तरह करना फायदेमंद है।

जिससे गूगल बोट्स से समझ पाते हैं कि आप एक Multi Niche पर काम कर रहे हैं। Google Seo Ranking Factors में Meta Tags भी एक बेहद जरूरी रैंकिंग फैक्टर है।

6. long-Tail Keyword पर काम करें

Long Tail Keywords नए ब्लॉग के लिए वरदान के समान है। जी हां हम सही कह रहे हैं अगर नए ब्लॉगर्स Long Tail Keywords को ध्यान में रखते हुए काम करें। तो वह सबसे तेज परिणाम ब्लॉग में पाएंगे। अब वह चाहे Single Niche, Multi Niche या फिर Micro Niche ब्लॉग क्यूँ ना हो।

Long Tail Keywords जैसे कि “Seo” एक Single Word Keyword है। अब इसे थोड़ा ओर बेहतर बनाते हैं जैसे “Seo Tips” ऐसे कीवर्ड पर High Competition होता है। वही नए ब्लॉगर्स ऐसे की-वर्ड पर ज्यादा नजर रखते हैं। जिससे उन्हें सर्च इंजन रैंकिंग पॉज़िशन (SERP) अच्छी नहीं मिलती।

अब “Seo” जैसे Single Word Keyword को Long Tail Keyword में बदलते हैं। जैसे “Seo Tips For Beginners” ऐसे कीवर्ड पर Low Competition होने के साथ सर्च वॉल्यूम ज़्यादा होती है। अगर आप Multi Niche पर काम कर रहे हैं तो Long Tail Keywords पर काम करना शुरू करें।

🌈*टिप्स- ध्यान दें कि Long Tail Keywords पर कितना ट्रैफिक है। ज़्यादातर मामलों में Keyword Research टूल्स भी इससे संबंधित जानकारी नहीं देते है। जिसका कारण है की यूजर अपने अनुसार Keyword संबंधी सवाल पर पूछता है। गूगल यूनिक सवालो के जवाब पर यूनिक कंटेंट को पहली प्राथमिकता देता है।

7. मिलते-जुलते ब्लॉग्स से Backlink बनायें

Multi Niche ब्लॉग के लिये बैकलिंक बनाना बेहद ज़रूरी है। Backlink का आसान भाषा में अर्थ होता है की किसी दूसरे ब्लॉग से अपने ब्लॉग के किए लिंक लेना। ध्यान रहे कि बैकलिंक ऐसे ब्लॉग्स से ले जो Multi Niche Blog पर ही हो या फिर जिस Keyword पर आर्टिकल लिखा गया हो। वही Keyword दूसर ब्लॉग में मोज़ूद हो। जहां से आपके ब्लॉग को सही बैकलिंक मिलें।

मिलते-जुलते Niche Blog से बैकलिंक लेने का सबसे बड़ा फ़ायदा अपने ब्लॉग को बहुत ही कम समय में High Authority दिलवाना। जैसे की आपका नया ब्लॉग है अभी Zero Authority ब्लॉग की है। गूगल सर्च इंजन पर ना तो आपका ब्लॉग है और ना ही कोई आर्टिकल। ऐसे में अपने ब्लॉग की High Authority के लिए आप किसी ऐसे पुराने ब्लॉग से बैकलिंक लेते है।

जिस पर Organic Traffic हो और रैंकिंग में अच्छे हो। जिससे गूगल बोट्स बैकलिंक बनाए हुए दोनों ब्लॉग्स को Crawl करते है। जिसके कारण Crawlers आपके ब्लॉग को Authority और Rank करना जल्दी शुरू कर देते है।

परन्तु ध्यान रहे की Backlink सिर्फ़ High Authority Website पर ही बनाये। जिस पर गूगल ऐडसेंस अप्रूवल हो और Organic Traffic हो। Spam Content Website से बैकलिंक लेने से बचें।

अगर आप ज़्यादा बैकलिंक एक ही ब्लॉग या वेबसाइट पर बनाते है। तो उसका बुरा प्रभाव आपके ब्लॉग पर पढ़ सकता है। इसीलिए Quality Backlink ही अपने ब्लॉग के किए बनाए।

8. सोशल-मीडिया से ब्लॉग को जोड़ें

WordPress Theme जे सेटअप के दौरान ब्लॉग ओर सोशल लिंक लगाएँ। ध्यान दे जो आपके ब्लॉग का नाम है ठीक उसी नाम पर सोशल मीडिया अकाउंट्स बनाएँ। और अपने ब्लॉग का URL उनमें जोड़े। इससे गूगल सर्च इंजन समझ ब्लॉग को जल्दी समझ पाता है। अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफ़ार्म पर अकाउंट्स बनने से ब्लॉग की अथॉरिटी यानि पहचान बढ़ती है।

साथ ही जब उन सोशल मीडिया प्लेटफ़ार्म पर आप कंटेंट शेयर करना शुरू करेंगे। तो आपको नई ऑडियंस बनेगी। जैसे फ़ेसबुक ग्रुप या पेज बना सकते है। जहां पर ब्लॉग पर लिखे गये आर्टिकल को शेयर कर अपने फ़ॉलोवर्स को भी ब्लॉग पर ला सकते है।

इसके अलावा बता दे कि जब आप एक ही नाम से सोशल मीडिया अकाउंट बनाते है तो Crawlers जो पूरे विश्व कि वेबसाइट/ब्लॉग्स और सोशल-मीडिया एकाउंट्स पर घूमते है जाँचते है की किस पेज या ब्लॉग को अथॉरिटी देकर गूगल सर्च इंजन में लाना है।

तो उस समय आपका नया ब्लॉग उन सोशल-मीडिया अकाउंट्स से लिंक मिलता है। जिससे Crawlers समझ पाते है कि ऐसे ब्लॉग को Authority देनी होगी। क्योंकि इस ब्लॉग के सोशल नेटवर्क काफ़ी मज़बूत है।

यानी आपके ब्लॉग के रैंक होने की संभावना बढ़ जाती है। Facebook, Twitter, Pinterest, Koo, Instagram, Quora जैसे सोशल मीडिया प्लेटफ़ार्म पर अपना अकाउंट बनाये और इनसे अपने ब्लॉग को जोड़ें।

Single Niche और Multi Niche ब्लॉग्स में क्या अंतर है?

अक्सर नये ब्लॉगर्स का प्रश्न रहता है कि आखिर Single Niche और Multi Niche Blog में क्या अंतर होता है? तो चलिए हम आपको बताते हैं। ध्यान दें कि ब्लॉगिंग में आर्टिकल लिखना किसी भी विशेष टॉपिक पर आपके ज्ञान और रूचि पर निर्भर करता है।

इसलिए अगर आप Single Niche Blog पर काम करना चाहते हैं तो इसमें एक ही टॉपिक पर आर्टिकल लिख सकते हैं तो वही Multi Niche पर काम करना चाहते हैं तो आप कई अलग-अलग Niches पर अलग-अलग कैटेगरी बना आर्टिकल लिख सकते हैं।

आइए Single Niche vs Multi Niche ब्लॉग के बीच अंतर को गहराई से समझते हैं:

Single Niche Blog (सिंगल निश ब्लॉग)

  1. Single Niche जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि ऐसे ब्लॉग पर किसी एक विशेष टॉपिक के बारे में आर्टिकल लिखे जाते हैं। जैसे फाइनेंस ब्लॉग पर फाइनेंस संबंधी आर्टिकल लिखे जाते हैं यानि वह एक एक Single Niche ब्लॉग में आता है।
  2. Single Niche ब्लॉग में किसी एक टॉपिक पर आर्टिकल लिखने से एक ही तरह की ऑडियंस ब्लॉग पढ़ने आती है। साथ ही आप अपनी ऑडियंस को समझ पाते हैं कि यूजर्स कैसे लेख में रुचि दिखा रहा है। आपको उन्हें कैसा कंटेंट उपलब्ध करवाना है।
  3. ऐसी एक Niche पर काम करने से आप उस फील्ड में माहिर हो सकते हैं। समय के साथ धीरे-धीरे आपका अनुभव बढ़ता जाएगा। जिसके परिणामस्वरूप आप ब्लॉग यूजर्स के द्वारा पूछे सवालों का जवाब आसानी से दे सकेंगे।
  4. Single Niche पर काम करने से उस टॉपिक या कैटेगरी से संबंधित ऑडियंस को प्रोडक्ट सेलिंग में टारगेट कर सकते हैं यानी एफिलिएट मार्केटिंग करना आसान हो जाता है। साथ ही Single Niche Blog में जो लोग रुचि दिखाएंगे। वह ब्लॉग से जुड़े रहेंगे।
  5. बता दें कि ऐसे One Topic Blogs सर्च इंजन रैंकिंग पोजीशन (SERP) में अच्छी पोजीशन पाते हैं। साथ ही एक विषय पर आर्टिकल लिखने से गूगल की नजर में हाई अथॉरिटी ब्लॉग की लिस्ट में अपना ब्लॉग ला सकते हैं।

Multi Niche Blog (मल्टी निश ब्लॉग)

  1. जैसा कि आप जानते हैं कि Multi Niche Blog में एक से ज्यादा टॉपिक या कैटेगरी पर आर्टिकल लिखे जाते हैं। जिससे अगर आपको किसी एक विषय पर ज़्यादा जानकारी नहीं है तो आप कंटेंट राइटिंग सीखकर मल्टी निश ब्लॉग बना सकते हैं।
  2. High Quality Content और Keyword Research के जरिए चुने गए टॉपिक पर आर्टिकल लिखने से अपने Multi Niche ब्लॉग पर ज्यादा संख्या में रीडर्स को ला सकते हैं यानी कि मल्टी निश में जिस भी टॉपिक पर आर्टिकल लिखें। उससे पहले कीवर्ड रिसर्च करना बेहद जरूरी है।
  3. Single Niche के मुकाबले Multi Niche Blogs में ज्यादा कड़ी मेहनत और समय लगता है। परंतु अगर ऐसी Multi-Topic Blog पर लगन से हाई क्वालिटी कंटेंट डाला जाएँ तो आसानी से ब्लॉग ऑडियंस को बढ़ाया जा सकता है।
  4. Multi Niche Blog को अथॉरिटी ब्लॉग बनाना थोड़ा मुश्किल है। परंतु अगर पहले किन्ही दो Niches पर काम किया जाए तो उन Niches के आधार पर आपका ब्लॉग अथॉरिटी पाना शुरू कर देता है।
  5. Multi Niche Blog पर कंटेंट डालना बंद नहीं कर सकते। हालाँकि अगर दूसरे Content Writers को Hire किया जाए तो ब्लॉग ऑडियंस को पर्याप्त संख्या में कंटेंट मिलता रहेगा। साथ ही गूगल सर्च इंजन में ब्लॉग के आर्टिकल अच्छी रैंकिंग पाना शुरू कर देंगे।

क्या Multi Niche Blog फ़ायदेमंद है?

हर नए ब्लॉगर के मन में सवाल होता ही है कि जिस Niche Blog की शुरुआत हम करने जा रहे हैं वह फायदेमंद भी होगा या नहीं? चलिए किसी भी Niche से संबंधित ब्लॉग के सफल और फायदेमंद होने का रहस्य जानते हैं।

हिंदी भाषा में जो Top Successful Blogs है वह Multi Niche Blog ही हैं। जैसे Hindime.net, Deepawali.co.in, Techsevi.com, Techyukti.com.

इन ब्लॉग पर अलग-अलग विषयों में आर्टिकल लिखे जाते हैं। जो काफी अच्छी कमाई कर रहे हैं। हर ब्लॉग एक रणनीति के तहत फायदेमंद बनता है जैसे कि मुझे Multi Niche Blog बनाना है।

सबसे पहले हमारा काम होगा कि जिन Niches पर आर्टिकल लिखेंगे। उनमें से किन्ही दो Niche Topic पर हम ज्यादा आर्टिकल डालेंगे।जिससे ब्लॉग धीरे-धीरे अथॉरिटी पाने लगे।

अब ऐसे में आपको अपने ब्लॉग को लेकर सीरियस होना पड़ेगा कि उन दो Niches पर ज्यादा से ज्यादा आर्टिकल कितने महीनों या दिनों में कवर कर लेने हैं।

एक ब्लॉग सिर्फ ज्यादा कमाई से ही फायदेमंद नहीं जाना जाता बल्कि आपने यूजर्स को कितनी वैल्यू दी है? हाई क्वालिटी कंटेंट उपलब्ध कराया है या नहीं? जैसी चीजें भी एक ब्लॉग को फायदेमंद बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

ऊपर बताए गए मल्टी निश ब्लॉग में हर ब्लॉग लाखों कमा रहा है। क्योंकि उनके पास तीन या चार या फिर इससे ज्यादा लोगों की कंटेंट राइटिंग टीम है। जो निरंतर ब्लॉग पर अलग-अलग कैटेगरी के हिसाब से लेख लिखते रहते हैं।

Multi Niche Blog पर आप एक बार अथॉरिटी पा लेने के बाद किसी भी ट्रेंडिंग और रुचि पूर्ण टॉपिक पर आर्टिकल लिख सकते हैं। जिससे ट्रैफिक भी ज्यादा आएगा और कमाई भी अच्छी होगी।

परंतु बता दें कि ऐसे ब्लॉग में हफ्ते में तीन से चार आर्टिकल जरूर डालते रहना चाहिए। जिससे आपके ब्लॉग की रैंकिंग डाउन ना हो।

Multi Niche ब्लॉग से विज्ञापन से तो कमाई होती ही है। परंतु आप ऐसे ब्लॉग पर कोर्स भी Sell कर सकते हैं। किसी विशेष टॉपिक पर लिखे गये आर्टिकल पर एफिलिएट लिंक लगा सकते हैं। साथ ही Guest Post जैसी सर्विस से भी अलग से अच्छी कमाई कर सकते हैं।

कमाई के नजरिए से Multi Niche Blog बेहद फायदेमंद है। यकीन नहीं होता तो आप ऊपर बताए गए Multi-Topic Blog पर विजिट करके उनकी रणनीति और उनके कमाई करने के तरीके को जान सकते हैं।

भारत के Top Successful Multi Niche Blog कौन से है?

यूट्यूब के बाद भारतीयों में सबसे ज्यादा मशहूर ऑनलाइन कमाई का साधन ब्लॉगिंग है। बता दें कि 60 लाख से ज्यादा भारतीय कंटेंट राइटिंग करते हैं तो वहीं इनमें से कईयों की खुद के ब्लॉग और वेबसाइट है।

खुद अच्छी कमाई करने के साथ-साथ Multi Niche Blog बाकी दूसरे कंटेंट राइटर्स को भी रोजगार उपलब्ध करवा रहे हैं। जिससे आत्मनिर्भरता की भावना उत्पन्न होती है। तो वही आने वाले कुछ ही वर्षों में हर भारतीय ऑनलाइन कमाई करने में पहले स्थान पर होगा।

अब हम आपको ऐसे Successful Multi Niche Blog के नाम बताने जा रहे हैं। जो काफी राइटर्स को कंटेंट राइटिंग के तौर पर रोजगार भी दे रहे हैं और बाकी लोगों को भी ऑनलाइन कमाई करने की मुहिम में शामिल कर रहे हैं।

भारत के Top Successful Multi Niche Blog के नाम इस प्रकार है:

  1. Leverageedu.com
  2. Hindime.net
  3. Hindiweb.co.in
  4. Deepawali.co.in
  5. Techsevi.com
  6. Techshole.com
  7. Tutorialpandit.com
  8. Nayaseekhon.com
  9. Newsmeto.com
  10. Techyukti.com

Multi Niche Blog कमाई में कैसे है?

जैसा कि हमने पहले भी बताया कि Multi Niche Blog कमाई के जरिए से बेहद फायदेमंद है। अलग-अलग Niches पर काम करने से आप विज्ञापन के अलावा Affiliate Marketing, Product Selling, Sponsored Post, Guest Post, Ebook Sell और Services के जरिए अच्छी कमाई कर सकते हैं।

हालांकि ऐसे ब्लॉग पर ट्रैफिक लाने में ज्यादा मेहनत लगती है। अगर एक रणनीति के तहत कंटेंट राइटिंग और कीवर्ड रिसर्च करके एक काम ना किया जाए तो Multi Niche Blog में पहली कमाई आने में 1 वर्ष जितना समय भी लग सकता है।

2023 में Multi Niche पर ब्लॉग बनाना सही रहेगा?

वर्ष 2023 में ब्लॉगिंग में कंपटीशन पहले के मुकाबले काफी हद तक बढ़ गया है। चाहे ब्लॉग किसी भी भाषा पर आधारित हो। तो वहीं अगर बात करें 2023 में Multi Niche पर काम करने की तो इससे पहले यह जरूर सुनिश्चित करें कि आप बाकी दूसरे ब्लॉग्स से ज्यादा यूनिक जानकारी अपने आर्टिकल्स में देंगे।

क्योंकि बहुत साल पहले से ही भारत में ब्लॉगिंग की शुरुआत हुई। उस समय मल्टी निश ब्लॉग ही ज्यादा संख्या में बनाए गए। जिसपर अब तक काफी ज्यादा आर्टिकल लगभग हर टॉपिक पर कवर कर लिए गए हैं। जिसे Multi Niche Blog पर काफी कंपटीशन बढ़ गया है तो वहीं गूगल सर्च रैंकिंग अपडेट भी आते रहते हैं।

जो ब्लॉग्स अपने ब्लॉग पर आर्टिकल पढ़ने आये यूजर को क्वालिटी कंटेंट उपलब्ध नहीं कराते उस हर ब्लॉग पर यह अपडेट अपना असर दिखाते है। परंतु हमने आपको ऊपर Multi Niche Blog को सफल बनाने के कुछ बेहतरीन टिप्स बताए हैं।

उन्हें अपने मल्टी टॉपिक ब्लॉग में फॉलो जरूर करके 2003 में Multi Niche Blog शुरू करें। तो आप ब्लॉगिंग में कड़ी मेहनत और दृढ़ निश्चय से सफलता जरूर हासिल करेंगे।

Multi Niche Blog के क्या नुक़सान है?

हम यह हमेशा कोशिश करते हैं कि जिस विषय से संबंधित जानकारी लेने यूजर हमारे ब्लॉग पर आया है। हम उन्हें उस विषय के लाभ से लेकर नुकसान संबंधी जानकारी भी दें।

परंतु ज्यादातर विषय में जिस पर हमारा अनुभव होता है जैसे Multi Niche के बारे में हमें अनुभव है कि इसे कैसे एक Successful Multi Niche Blog बनाया जा सकता है।

ध्यान दें हमारा ब्लॉग भी मल्टी निश ब्लॉग ही है। हमने जो कुछ नए तरीकों को अपनाया है और अच्छे परिणाम हमें मिल रहे हैं। उससे संबंधित हर जानकारी हमने इस आर्टिकल में लिखी है।

परंतु फिर भी बता दें कि जो Multi Niche Blog पर काम करते वक्त हमें क्या परेशानियां या नुकसान कह लीजिए आए हैं। उन्हें हम पॉइंट टू पॉइंट बताते हैं।

Multi Niche Blog के नुकसान इस प्रकार हैं:

  1. Multi Niche ब्लॉग में से किन्ही दो Niches पर शुरू में ज्यादा कंटेंट लिखना होगा। जिससे आपका ब्लॉग उस कैटेगरी में अथॉरिटी पाना शुरू करें।
  2. मल्टी टॉपिक ब्लॉग को बिजनेस के नजरिए से देखना चाहते हैं तो आपको कंटेंट रायटर्स की टीम की जरूरत पड़ेगी।
  3. शुरू के 1 वर्ष में ब्लॉग पर आर्टिकल डालते रहना है जिससे आर्टिकल जल्दी सर्च में आने शुरू हो और गूगल सर्च आपके ब्लॉग को किस Niche के आधार पर रैंक कर रहा है यह देखें।
  4. अगर आप सिंगल राइटर है तो आपको कड़ी मेहनत के साथ सब्र का इम्तिहान भी देना होगा। ऐसे ब्लॉग पर आर्टिकल रैंकिंग पाने में थोड़ा समय लगाते है।
  5. कीवर्ड रिसर्च कर यूनिक और रुचि पूर्ण ब्लॉग आर्टिकल लिखने होंगे। जो ब्लॉग पर आए यूजर्स को पसंद आए।
  6. किसी भी Niche पर आर्टिकल लिखते हैं तो सूचीबद्ध तरीके से लेख लिखे जैसे कंप्यूटर के बारे में लिख रहे हैं तो कंप्यूटर से संबंधित सभी विषयों पर कंटेंट लिखें। जिससे ब्लॉग की ऑडियंस को उस टॉपिक से संबंधित पर्याप्त कंटेंट उपलब्ध हो।
  7. विज्ञापन के द्वारा की गई कमाई में शुरू में उतार-चढ़ाव देखा जा सकता है।
  8. गूगल ऐडसेंस अप्रूवल Multi Topic Blog पर थोड़ा देरी से मिलता है।

गूगल एल्गोरिदम अपडेट का Multi Niche Blog पर असर

पिछले कई महीनों में गूगल के द्वारा कई Algorithm Updates जारी किए गए। जो विश्व के हर ब्लॉग और वेबसाइट पर लागू होते हैं। जिन्हें आप गूगल सर्च रैंकिंग अपडेट भी कह सकते हैं।

जिसमें Helpful Content Update, Core Updates, Spam Update, Helpful Content Update (Dec), Link Spam Update जैसे अपडेट मुख्य हैं। जिनको जारी करने का मुख्य उद्देश्य गूगल अपने विजिटर्स को ऐसे कंटेंट तक विजिट नहीं करने देगा जो लाभकारी ना हो।

ऐसे ब्लॉग जिस पर किसी एक विषय के बारे में भी पर्याप्त जानकारी नहीं। जिससे Crawlers उस ब्लॉग को गूगल सर्च में रैंकिंग दें। परिणामस्वरूप ज्यादातर Multi Niche आधारित ब्लॉग Google Algorithm Updates से प्रभावित हुए और कई ऐसे ब्लॉग भी थे।जिनका ट्रैफिक बिल्कुल शून्य पर चला गया।

परंतु ध्यान दें कि वह ऐसे ब्लॉग थे जो अलग-अलग टॉपिक पर आर्टिकल तो लिखते थे। परंतु उन आर्टिकल्स में कोई भी जानकारी Updated या Unique नहीं थी। जिसके तहत वह इन Algorithm Update से प्रभावित हुए।

बता दें कि जो तरीके हमने आपको मल्टी निश ब्लॉग को सफल बनाने में बताए हैं। उनको ध्यान में रखते हुए अपना मल्टी टॉपिक ब्लॉग बनाए। तो आपका ब्लॉग इन Updates से बिल्कुल भी प्रभावित नहीं होगा।

बशर्ते निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखें:

  1. किसी दूसरे ब्लॉग से कंटेंट कॉपी ना करें।
  2. किन्हीं दो निश्चित को पकड़े और आर्टिकल लिखें व अथॉरिटी पाएँ।
  3. सोशल मीडिया पर लिंक शेयर करें।
  4. बैकलिंक्स सिर्फ हाई अथॉरिटी ब्लॉग से ही लें।
  5. स्पैम कंटेंट के चक्कर में ना पड़ें।
  6. अपने ब्लॉग पर आए यूजर के लिए हेल्पफुल और यूनिक कंटेंट लिखें।

क्या Multi Niche Blogs पर गूगल ऐडसेंस अप्रूवल लेना मुश्किल है?

गूगल ऐडसेंस टीम किसी भी Niche पर बने ब्लॉग को ऐडसेंस अप्रूवल देने से पहले उस ब्लॉग की अलग-अलग तरीकों से जाँचती है। जिसमें Theme Customization, Font Text का आकार, Social Media Links, Pages और सबसे जरूरी आपका ब्लॉग किस बारे में है?

यानी आप किस टॉपिक पर आर्टिकल लिखोगे? उन्हें अलग-अलग कैटेगरी में बांट दें और हर कैटेगरी में कम से कम 10 आर्टिकल जरूर होने चाहिए। जिससे गूगल ऐडसेंस टीम समझ पाएगी। आपका ब्लॉग विज्ञापन के जरिए एक कमाई करने के लिए तैयार है।

साथ ही बता दें कि अपने ब्लॉग को जितना सिंपल और कम हल्के रंगों का प्रयोग आप अपने Theme Customization में करेंगे उतना ज्यादा यूजर अनुभव और ऐडसेंस टीम के लिए अच्छा होगा। अगर आप इन सभी बातों को ध्यान रखते हुए आर्टिकल लिखेंगें तो आपको Multi Niche पर ऐडसेंस अप्रूवल ज़रूर मिलेगा।

ज़्यादातर मामलों में Adsense Approvel ना मिलने का कारण ऐडसेंस टीम को यह ना समझा पाना की आपका ब्लॉग किस बारे में है? अगर आप Categories अच्छे से बनायेंगे, Theme Setup अच्छे से करेंगे, सभी चीजें सुव्यवस्थित ढंग से अपनी जगह पर हो। जिससे यूजर को कंटेंट पढ़ने में कोई परेशानी ना हो। उन सभी बातों को देखकर ब्लॉग पर ऐडसेंस अप्रूवल मिलता है।

निष्कर्ष: (Multi Niche Kya hai in Hindi)

आखिर में दोस्तों हमें पूरा विश्वास है कि आपके मन में जितने भी सवाल Multi Niche Blog को लेकर होंगे। हमने उन सभी सवालों का जवाब इस आर्टिकल में दिया होगा।

ध्यान नहीं कि यूट्यूब पर कई वीडियोस में देखेंगे की Multi Niche काम करने के लिए ज्यादातर ब्लॉगर्स मना करेंगे कि मल्टी निश ब्लॉग में सफलता नहीं है। परंतु बता दें कि आप ब्लॉग किसी भी Niche पर बनाए मेहनत और परिश्रम तो आपको हर तरह के Niche Blog में करना ही होगा।

अगर आप कड़ी मेहनत करने के लिए तैयार है तो आप बेझिझक अपना Multi Niche Blog बना सकते हैं। दरअसल अलग-अलग टॉपिक पर ब्लॉग बनाना मतलब आपको लगातार कंटेंट डालते रहना है। जिसे आप पहली कमाई Multi Niche में कम समय में हासिल कर सकें।

इसके अलावा बता दें कि हर नया ब्लॉगर या फिर जो भी आप पुराने ब्लॉग्स पढ़ रहे हैं। उनके द्वारा या तो शुरु से ही Multi Niche Blog बनाया गया था या फिर आप ऐसे भी कर सकते हैं कि शुरू में Single Niche Blog बनाकर उसे बाद में Multi Niche में बदल सकते हैं यानि नई कैटेगरी आप उसमें जोड़ सकते हैं। जिससे आपको Multi Niche Content Ideas की कमी नहीं होगी।

हमने आपको Multi Niche से संबंधित हर सवाल के जवाब दिए हमें आशा है कि आप अब अपने अनुसार नीचे ब्लॉक का चयन कर ब्लॉगिंग करियर की शुरुआत करेंगे।

हमें उम्मीद है कि आपको Multi Niche क्या है? अपना Multi Niche Blog कैसे बनाएँ? से संबंधित दी जानकारी जरूर पसंद आई होगी। हमारा उद्देश्य ब्लॉग पर आए यूजर को Blogging Niche से संबंधित हर जानकारी देने का है। आपको जरूर यह जानकारी इनफॉर्मेटिव लगी होगी।

इस लेख को पढ़ने के बाद आपका अनुभव कैसा रहा या फिर Multi Niche से संबंधित किसी भी तरह का सवाल आपके मन में हो। हमें नीचे कमेंट करके अवश्य बताएं और अपने मित्रों में यह लेख अवश्य शेयर करें।

मेरा नाम Abhishek है। इस ब्लॉग का संस्थापक और लेखक हूं। मै Yoabby.com पर सभी आर्टिकल को हिंदी भाषा में लिखता हूं। मुझे लिखने का बहुत पहले से ही शौक था। ब्लॉगिंग के द्वारा मैं अपने शौक को भी पूरा कर रहा हूं। और साथ ही YoAbby.com पर आए लोगों को टेक्नोलॉजी के बारे में हिंदी भाषा में आर्टिकल उपलब्ध करवा रहा हूं।

Leave a Comment