Assistive Technology क्या हैं?- Assistive Technology in Hindi

हैलो दोस्तों,आज Assistive Technology क्या है? के बारे में जानेंगे। जिसको हिंदी में “सहायक तकनीकी” व “सहायक प्रौद्योगिकी” कहा जाता है। इस तकनीक का ऐसे लोगों के जीवन में बड़ा महत्व है।

जो शारीरिक रूप से अक्षम है। चाहे कोई व्यक्ति मूक-बधिर दिव्यांग या देखने में असमर्थ हो। Assistive Technology में ऐसे लोगों को विभिन्न Assistive Technology Devices से सहायता दी जाती है।

मई, 2022 को Who (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन) और Unicef (यूनाइटेड नेशन चिल्ड्रन फंड) ने Assistive Technology (सहायक तकनीकी) पर एक ग्लोबल रिपोर्ट पेश की।

जिसमें बताया गया कि पूरे विश्व भर में 2.5 बिलीयन से ज़्यादा लोगों को सहायक तकनीकी डिवाइस की आवश्यकता है। जो शारीरिक रूप से सक्षम नहीं है। साथ ही रिपोर्ट में कहा गया कि यह आंकड़ा वर्ष 2050 तक 3.5 बिलीयन से ज्यादा हो जाएगा।

ऐसे में हम यह अनुमान लगा सकते हैं कि पूरे विश्व भर में कितने लोग अपनी शारीरिक चुनौतियों के कारण उन सुविधाओं का उपयोग नहीं कर पाते जो। एक स्वस्थ इंसान कर पाता है। Assistive Technology को इन्ही उद्देश्य की पूर्ति हेतु बनाया गया है और इसका विकास भी काफी हद तक किया जा चुका है।

तो चलिए अब Assistive Technology क्या है? इसका वर्गीकरण और फायदे जैसी तमाम जानकारी को हिंदी में जानते हैं। कृपया आर्टिकल को अंत तक पड़े। जिससे आप पूरा ज्ञान इस तकनीक के बारे में प्राप्त कर सकें।

Assistive Technology क्या है?

Assistive Technology क्या हैं
Assistive Technology क्या हैं?

Assistive Technology (सहायक तकनीकी) का मतलब ऐसी तकनीक जो दिव्यांग व्यक्तियों के कार्य करने की क्षमता को बढ़ाती है। इस तकनीक के तहत ऐसे उपकरण बनाए जाते हैं। जो ज़्यादातर दिव्यांग लोगों के जीवन को आसान बनाते हैं। वह भी सभी चीजों का उपयोग एक स्वस्थ इंसान की तरह कर सकते हैं।

आसान भाषा में सहायक तकनीकी का मतलब ऐसी तकनीक जो दिव्यांगों को ‘Assist’ करें यानी की सहायता प्रदान करें। जिसकी बदौलत वह आजादी से अपने हर कार्य कर और समझ सके।

Assistive Device क्या है?

यह ऐसी उपकरण, सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर होते हैं। जो दिव्यांग व्यक्तियों को उनके विभिन्न कार्यों में सहायता प्रदान करते हैं। जिससे अच्छी तरह से सुनने में, साफ़ देखने में, चलने-फिरने में उपयोग होने वाले Assistive Device शामिल हैं।

Assistive Technology का वर्गीकरण- Classification of Assistive technology

सहायक तकनीकी के वर्गीकरण में अब उन लोगों के बारे में ज़ानेगे। जो किसी ने किसी शारीरिक चुनौती का सामना कर रहे हैं। साथ ही उन दिव्यांग व्यक्तियों के लिए कौन-सी Assistive Device बनाई गई है। चलिए जानते हैं।

Mobility Impairment (गतिशीलता हानि)

इसमें ऐसे लोग आते हैं। जो चलने-फिरने में असमर्थ है। जो किसी वस्तु को पकड़ नहीं पाते। न हीं खड़े हो पाते। गतिशीलता वाले व्यक्ति इलेक्ट्रिक व्हीकल, चेयर, तिपहिया साइकिल, वॉकर के जैसी Assistive Devices का उपयोग करते हैं।

Visual Impairment (दृष्टि क्षीणता)

दृष्टि क्षीणता में ऐसे लोग शामिल है। जिन्हें बिल्कुल दिखाई नहीं देता या कम दिखाई देता है। छोटे अक्षरों को पढ़ने में असमर्थ ऐसे लोगों को सहायक तकनीकी की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ती है। ऐसे लोग नीचे दी गई डिवाइस का उपयोग कर सकते हैं। जो सस्ती और महंगी सहायक डिवाइस है।

  • Low assistive Tech Device (low Cost) – Braille, magnifying glasses, large print text/books, anti-glare paper, thick lined paper, color filters.
  • Mid assistive Tech Device (Medium Cost)- large key keyboards, keyboards with high Contrast, mp3 players to record lectures/notes, audio boxes.
  • high assistive Tech Device (High Cost) – screen magnification, reading Machine, video magnifiers, braille translation software.

Hearing Impairment (श्रवण बाधित)

श्रवण बाधित में ऐसे लोग शामिल होते हैं। जिन्हें सुनने में समस्या होती है या फिर बहुत कम सुनाई देता है। ऐसे लोग Hearing Aids और Hearing loops उपकरण का उपयोग कर सकते हैं। वही यूट्यूब जैसी कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर श्रवण बाधित लोगों के लिए Captions (CC) चलाए जाते हैं। ताकि वह देखकर वीडियो में किसी विषय पर बात हो रही है। (hearing Impairment) श्रवण बाधित लोग जान सके।

सहायक तकनीकी के उदाहरण- Assistive Technology Examples

आज के समय में हम अपने स्मार्टफोन,कंप्यूटर,लैपटॉप में सहायक तकनीकी का उपयोग कर रहे हैं। जिसे दिव्यांग व्यक्ति और स्वस्थ व्यक्ति दोनों ही इस्तेमाल कर रहे हैं। Assistive Technology लगभग हर व्यक्ति के लिए सहायक सिद्ध हो रही है।

सहायक तकनीकी के उदाहरण इस प्रकार हैं:

  • Text to speech
  • google translator
  • audio books
  • assistive touch
  • voice recognition
  • ipads, tablets
  • educational software
  • speech texter
  • keep notes
  • reading pens
  • Google Assistent
  • screen zoom

क्या सहायक तकनीकी (assistive Technology) ज़रूरी हैं?

गतिशीलता हानि, श्रवण बाधित, दृष्टि क्षीणता व्यक्तियों के लिए सहायक तकनीकी सबसे ज्यादा उपयोगी है। इसके द्वारा वह शब्दों को पहचानना उन्हें समझने जैसे बहुत से कार्य सुविधापूर्ण कर सकते हैं। टेक्नोलॉजी हर व्यक्ति के लिए सहायक है। हर व्यक्ति सहायक तकनीकी का उपयोग कहीं ना कहीं कर रहा है।

इसका सबसे बढ़िया उदाहरण ‘Audio Book’ है। जिसका उपयोग श्रवण बाधित लोग के लिए बहुत उपयोगी है। परंतु इसे सभी लोग पसंद करने लगे हैं।

निष्कर्ष-

Assistive technology का उपयोग आजकल हर कोई व्यक्ति कर रहा है। समय के साथ स्मार्टफोन का ज्यादा उपयोग करते हुए आंखों की दृष्टि क्षीण हो जाती है। जिसे कभी हम किसी चीज को पढ़ते वक्त उसमें Screen zoom करते हैं। Mobile Fonts को बड़ा कर देते हैं।

हर डिवाइस में हमें ऐसी “सहायक तकनीकी” जरूर मिलेगी। जो हमारे काम को आसान बनाती है। हालांकि दिव्यांगों के लिए ऐसी तकनीक सुविधापूर्ण से जीवन जीने का जरिया है। जिससे वह इसका उपयोग कर चीजों की जानकारी ले पाते हैं।

आपको Assistive technology क्या है? पर लिखा यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें नीचे कमेंट करके अवश्य बताएं। अपने मित्रों में ज़रूर शेयर करें।

मेरा नाम Abhishek है। इस ब्लॉग का संस्थापक और लेखक हूं। मै Yoabby.com पर सभी आर्टिकल को हिंदी भाषा में लिखता हूं। मुझे लिखने का बहुत पहले से ही शौक था। ब्लॉगिंग के द्वारा मैं अपने शौक को भी पूरा कर रहा हूं। और साथ ही YoAbby.com पर आए लोगों को टेक्नोलॉजी के बारे में हिंदी भाषा में आर्टिकल उपलब्ध करवा रहा हूं।

Leave a Comment