Disruptive Technology क्या है? इसके उदाहरण, प्रभाव, लाभ व नुकसान हिंदी में

आपका हमारे हिंदी टेक्नॉलजी ब्लॉग में स्वागत है। आज हम इस आर्टिकल में Disruptive Technology के बारे में जानेंगे। जिसे हिंदी में ‘विघटनकारी तकनीक’ व ‘विघटनकारी प्रौद्योगिकी’ कहा जाता है। विघटन का अर्थ बर्बाद करने वाला होता है।

विश्व में हर महीने-साल नई-नई तकनीकों से लोग परिचित होते हैं। कुछ तकनीक का अस्तित्व मार्केट से बिल्कुल मिट जाता है। तो कई ऐसी भी टेक्नोलॉजी होती है। जिसमें कुछ सुधार कर उसे हर क्षेत्र में उपयोग किया जाता है। जो लोगों और बिजनेस उद्योगों का काम आसान कर देती है।

परंतु पुराने जमाने की Technology ने आज की टेक्नोलॉजी का विघटन किया है। कुछ वर्षों पहले हम 2G इंटरनेट का इस्तेमाल करते थे। फिर 3G, 4G और अब 5जी इंटरनेट सर्विस आ चुकी है। यानी कि आने वाली 5जी सर्विस अपनी तेज स्पीड के कारण 2G, 3G, 4G का विघटन कर देगी।

Disruptive Technology में ऐसी ही चीजें शामिल होती हैं। जो जरूरी तो होती हैं और मनुष्य के कार्य को आसान करती है। परंतु इससे पहली वाली तकनीक का अस्तित्व धीरे-धीरे बिल्कुल खत्म हो जाता है।

तो चलिए अब Disruptive Technology क्या है? इसके उदाहरण,प्रभाव,लाभ व नुकसान और आखिर कैसे विघटनकारी प्रौद्योगिकी बिजनेस, उद्योगों और उपभोक्ताओं पर अपना प्रभाव डालती है। इससे जुड़ी पूरी जानकारी हिंदी में जानते हैं।

विषय सूची :-

Disruptive Technology क्या है?

Disruptive Technology क्या है
Disruptive Technology क्या है?

आसान भाषा में Disruptive Technology का मतलब ऐसा नवाचार (innovation) जो पुरानी तकनीक का विघटन कर वही कार्य नहीं तकनीक के साथ करें। विघटनकारी तकनीक बिल्कुल नई होती है। जो नए सुधारों के साथ बिजनेस, उद्योग और उपभोक्ता के संचालन तरीके में परिवर्तन करती है।

जो उत्पाद कई वर्षों से स्थापित थे। उनकी जगह नए सुधार के साथ नए उत्पाद ले लेते हैं। यानी कि पुराने उत्पाद का विघटन कर नए उत्पाद ज्यादा काम में लाए जाते हैं।जिससे नए बिजनेस और उद्योग बनते हैं।

उदाहरण: आज से करीब 12 वर्ष पहले हम सभी Mp3 फाइल या MP4 वीडियो फाइल को ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी के जरिए अपने keypad phones में एक-दूसरे को भेजा करते थे। परंतु आज के समय में वही चीजें WiFi और Hotspot Sharing के जरिए होती है।

ऐसे बहुत से उदाहरण है। जिसमें पुरानी चीजों का विघटन होता गया नई टेक्नोलॉजी उसकी जगह लेती गई। यानी कि bluetooth technology का आज के समय में वाईफाई और हॉटस्पॉट, इंटरनेट ने विघटन किया है।

विघटनकारी प्रौद्योगिकी के उदाहरण – Disruptive Technology Examples in hindi

वर्तमान में जिन तकनीकों का उपयोग हम कर रहे हैं और भविष्य में सबसे ज्यादा उपयोग होने वाली Disruptive Technology के बारे में अब हम जानेंगे।

Disruptive Technology के उदाहरण इस प्रकार हैं:

1. Mobile Internet (मोबाइल इंटरनेट)

इंडिया में मोबाइल इंटरनेट की शुरुआत वर्ष 1991 में 2जी इंटरनेट सर्विस से हो चुकी थी। उन वर्षों में 2G इंटरनेट भी बहुत तेज स्पीड के साथ आता था। परंतु उसके बाद धीरे-धीरे लोग इंटरनेट उपयोग ज्यादा करने लग गए। जिससे नये बिजनेस जैसे कई सिम कंपनी और उत्पाद जैसे 3G मोबाइल फोन बनने लगे। धीरे-धीरे करके 3G, 4G इंटरनेट सेवा लांच हुई। पिछली इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई।

बता दें कि अभी 5G Internet सेवा भी लांच होगी। जिसके कारण नए 5G डिवाइस बनाए गए। ऐसे ही करते करते यह सेवा बेहतर होती जाएगी। जिसे Disruptive Technology कहना सही है। जो पिछली सेवाएं खत्म करती हुई बेहतर सुधारों के सामने लाई जा सकेगी।

2. Internet of things (इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स)

भारत में रंगीन टीवी की शुरुआत वर्ष 1982 से हुई। उस समय उन टेलीविजन को रिमोट कंट्रोल देकर अपग्रेड किया गया था। परंतु आज इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IOT) की वजह से टीवी भी Smart Tv में बदल गए। इसके अलावा घरेलू उपकरण जैसे एयरकंडीशनर (Ac) जैसी चीजों को भी इंटरनेट से जोड़ दिया गया।

वर्तमान में टीवी को आप Hotstar, Netflix, Youtube पर Subscription लेकर देख सकते हैं। यह सब internet-of-things की वजह से सभी चीजों को डिजिटली जोड़ने से संभव हो पाया है। समय के साथ-साथ इसमें भी सुधार होते जाएंगे। नई टेक्नोलॉजी को Develop किया जाएगा। जिससे हर व्यक्ति के लिए यह तकनीक सस्ती पड़ेगी और इसका स्केल भी बढ़ेगा।

3. Robotics (रोबोटिक्स)

धीरे-धीरे हर क्षेत्र में टेक्नोलॉजी का उपयोग हो रहा है। तो ऐसे में उद्योगो को ज़्यादा लोगों की जरूरत पढ़ती है। जिसे ज्यादा पैसा खर्च होता है। भविष्य में Advanced Robotics Technology का उपयोग सबसे ज्यादा बढ़ने वाला है।कई बड़ी ऑटोमोबाइल्स कंपनी Robotics के जरिए ही काम कर रही है।

जिससे एक बार पैसा निवेश कर कई वर्षों तक मशीन से काम लिया जा सकता है। machines मनुष्य के काम को आसानी से बिना थके हारे तो करेगा ही परंतु बहुत से लोगों की नौकरी भी Advanced Robotics की वजह से जाएगी।

4. Cloud Technology (क्लाउड टेक्नॉलजी)

कुछ वर्षों पहले Memory Card और Pendrives का उपयोग किसी भी तरह के डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता था। परंतु धीरे-धीरे Smartphone ही मेमोरी कार्ड और पेन ड्राइव से ज्यादा storage के आने लग गए। वही तकनीक आगे बढ़ी।

जिससे आज लोग अपने निजी डेटा को अपने Phones में ही स्टोर न करके Cloud Server पर स्टोर करते हैं। जो इंटरनेट के द्वारा उपयोग में लाया जाता है। जिसे कहीं से भी किसी भी Device का उपयोग कर Data Access किया जा सकता है। यह Disruptive Technology का सबसे बढ़िया उदाहरण है।

5. 3D Printing (3D प्रिंटिंग)

3D प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी से हर तरह के उत्पाद बनाए जा सकते हैं। बच्चों के खिलौनों से लेकर 3D प्रिंटिंग हाउस तक आज 3D प्रिंटिंग के जरिए बनाया जाना शुरु हो चुका है। Icon नामक कंपनी 3D प्रिंटिंग की दुनिया में क्रांति लेकर आई है।

जो 3D Printing House बनाती है जो। काफी मजबूत होते है। जैसे आपके घर होते हैं। भविष्य में इस तकनीक का भरपूर उपयोग किया जाएगा। यह सच्ची और मजबूत तकनीक पर आधारित है। जो एक आलीशान घर को कुछ ही दिनों में तैयार करके दे सकती है।

6. Renewable Energy (नवीकरणीय ऊर्जा)

पिछले कई दशकों से जल से विद्युत ऊर्जा बनाई जा रही है। जिससे मोटी रकम खर्च कर बड़े-बड़े डैम बनाए जाते हैं। बाढ़ के दिनों में ज्यादा पानी स्टोर होने पर उनसे पानी छोड़ा जाता है। जो ज्यादा नुकसान करता है। वहीं कहीं ऐसी जगह भी है। जहां पानी की मात्रा बहुत कम है और भौगोलिक दृष्टि से वहां डैम नहीं बनाए जा सकते।

इसलिए Renewable Energy ने वैज्ञानिकों का ध्यान अपनी तरफ खींचा है। जहां सूर्य से सौर ऊर्जा और वायु से पवन ऊर्जा बनाकर विद्युत ऊर्जा बनाई जाती है और यह एकमात्र ऐसी ऊर्जा है। जिसे प्रकृति अपने आप पूरा कर देती है। अंतरिक्ष में सौर ऊर्जा से चलने वाला इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS) नवीकरणीय ऊर्जा का सबसे बड़ा उदाहरण है।

7. Blockchain (ब्लॉकचेन)

ब्लॉकचेन एक डिसेंट्रलाइज्ड लेजर सिस्टम है। जिससे किसी भी प्रकार के लेन-देन जानकारी को सुरक्षित रखा जाता है।ब्लॉकचेन के द्वारा बिटकॉइन क्रिप्टोकरंसी बनी है। तो वहीं ethereum में भी ethereum Blockchain का उपयोग है। भविष्य में ब्लॉकचेन बिजनेस मॉडल और फाइनेंशियल सिस्टम को Disrupt करेगा।

8. Artificial intelligence (कृत्रिम बुद्धिमत्ता)

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के द्वारा किसी मशीन को कंप्यूटर की तरह सोचने समझने और निर्णय लेने की क्षमता का विकास कर सकते हैं। उदाहरण के लिए आपने Amazon Alexa का नाम तो सुना ही होगा। इसे आप कुछ भी पूछे आपको जवाब अवश्य मिलेगा। यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ही तो है।

जिसका उपयोग आज हम बिजनेस, स्वास्थ्य, शिक्षा, मनोरंजन, फाइनेंस, गेमिंग, मैन्युफैक्चरिंग में कर रहे हैं। भविष्य में ज्यादातर कार्य Artificial intellgence (AI) के द्वारा ही संभाले जाएंगे।

9. Virtual Reality (आभासी वास्तविकता)

बचपन से ही अपने माता-पिता से सुना होगा कि टीवी के ज्यादा नजदीक से मत देखो। आंखें खराब हो जाएंगी। परंतु टेक्नोलॉजी कितनी आगे बढ़ गई है कि आज हम VR Box का उपयोग कर ऐसी Video Games और Videos, Movies देख सकते हैं। जिसे देखने पर ऐसा प्रतीत होता है कि वह हमारी आंखों के सामने हो।

VR Box को आंखों के बिल्कुल आगे फिट किया जाता है। साथ ही फेसबुक कंपनी के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग के द्वारा Metaverse में भी वर्चुअल रियलिटी का उपयोग किया गया है। जिससे हम एक वर्चुअल दुनिया में रहते हुए अपने काम अपने घर से कर सकते हैं।

10. Music (संगीत)

पुराने समय में जहां हर व्यक्ति किसी संगीत को इंटरनेट के माध्यम से डाउनलोड करता था। तो कहीं इंटरनेट होने की वजह से एक दूसरे मोबाइल में Music को Share किया करते थे। परंतु वर्तमान में कुछ भी डाउनलोड करने और Storage की समस्या नहीं है।

क्योंकि म्यूजिक ऐप्स जैसे कि Spotify, Gaana Music, Saavan पर हम जब चाहे तब पुराने-नए गाने सुन सकते हैं। यहां तक कि आप उस संगीत की Music Quality भी खुद सेट कर सकते हैं। म्यूजिक और वीडियो सुनना देखना सब Online हो गया है। इस तरह एक तकनीक को Disrupt कर दूसरी तकनीक मशहूर होती जा रही है।

Disruptive technology और Sustaining Technology के बीच अंतर स्पष्ट करें?

विघटनकारी प्रौद्योगिकी और सतत प्रौद्योगिकी में अंतर निम्नलिखित है।

Disruptive Technology (विघटनकारी प्रौद्योगिकी)

  1. Disruptive Technology का मतलब ऐसा इनोवेशन जो पुरानी तकनीक का विघटन कर वही कार्य नई तकनीक के साथ करें।
  2. यह उत्पादों और सेवाओं को उपभोक्ताओं के लिए अधिक सुलभ और सस्ती बनाती है।
  3. यह बिजनेस और उपभोक्ताओं के बिजनेस मॉडल को नई तकनीक के साथ बदल देती है।
  4. यह उपभोक्ताओं को ऐसी सर्विस प्रदान करते हैं। जो उपभोक्ता को जरूरत होती है। परंतु उन्हें भी उन सेवाओं का पता नहीं होता।
  5. यह नवाचार बिल्कुल नया होता है।
  6. उदाहरण: Netflix ने शुरू में DVD By Mail की रेंटल सेवा की शुरुआत की। परंतु बाद में उन्होंने अपनी Movie Streaming service को Subscription के साथ में लांच किया।

Sustaining Technology (सतत प्रौद्योगिकी)

  1. Sustaining Technology में उपभोक्ताओं की बढ़ती मांग के आधार पर प्रोडक्ट को बेहतर बनाया जाता है।जिससे ग्राहक उत्पाद का उपयोग करना बंद ना करें।
  2. इस नवाचार को ग्राहकों की बढ़ती जरूरत के अनुसार बेहतर बनाया जाता है।
  3. इसमें उन बिजनेस और उपभोक्ताओं के साथ कार्य किया जाता है। जो पहले से ही सतत प्रौद्योगिकी निर्माण में शामिल है। बस उत्पाद को बेहतर बनाने पर ध्यान दिया जाता है।
  4. नई तकनीक के साथ आवश्यक सुधार करने पर उत्पाद की परफॉर्मेंस और वैल्यू पड़ती है।
  5. यह नवाचार समय के साथ पुराना किंतु नई तकनीक के साथ प्रगतिशील होता जाता है।
  6. उदाहरण: हर महीने स्मार्टफोन कंपनीज नए नए फीचर्स के साथ नए phones को लॉंच करती है। जिसमें लोगों को हमेशा कुछ नया फीचर वैल्यू मिलती है। यह सतत प्रौद्योगिकी का सबसे बढ़िया उदाहरण है।

विभिन्न क्षेत्रों में Disruptive Technology का प्रभाव:

बिजनेस मॉडल के साथ कुछ ऐसे कई जरूरी क्षेत्र है। जिसमें Disruptive Technology का सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ा है। पुरानी चीजों को बदल उसी नई वैल्यू में लोगों को सुविधाएं दी है। वह कौन से क्षेत्र है? आइए विस्तार पूर्वक जानते हैं।

1. Healthcare (स्वास्थ्य देखभाल)

हेल्थकेयर Disruptive Technology में Blockchain, Machine Learning, wearable Device और Applications का उपयोग हुआ है। जो हर व्यक्ति का स्वास्थ्य संबंधी डाटा स्टोर रखती है। यहां तक कि इन सभी चीजों की बदौलत हॉस्पिटल और क्लिनिक्स को Disrupt करना शुरू कर दिया है।

रोगी फोन कॉल्स और वीडियो कॉल के माध्यम से अपनी समस्या का समाधान डॉक्टर से पा लेते हैं। साथ ही इलेक्ट्रॉनिक हेल्थ रिकॉर्ड्स (EHR) के जरिए रोगियों का डाटा रिकॉर्ड करना शुरू हो चुका है।

2. Business (व्यापार)

व्यापार में एक कंपनी अपनी प्रतियोगी से बढ़िया प्रोडक्ट लाकर या फिर नए फीचर्स को जोड़कर पूरे बिजनेस मॉडल्स को हिला देती है। जिससे मजबूरन कंपनी को अपने Product में सुधार लाने पड़ते हैं। बिजनेस में विघटनकारी प्रौद्योगिकी की अहम भूमिका है।

उदाहरण: जिस प्रकार Reliance Jio ने फ्री में इंटरनेट सेवा देकर बाकी सभी सिम ऑपरेटर कंपनी के बिजनेस मॉडल को Disrupt किया था। जिसके बाद कई कंपनी इससे ऊपर गई तो कई बिल्कुल बर्बाद हो गई।

3. Education (शिक्षा)

youtube, E-learing Platform, Study Apps, Websites, Blogs शिक्षा प्रणाली में आवश्यक सुधार ला रहे हैं। वहीं कई ऐसे भी मौके आए हैं। जहां पुरानी शिक्षा प्रणाली को छोड़ Online Education के जरिए बच्चों को पढ़ाया गया। आने वाले समय में एजुकेशन क्षेत्र में कई नई तकनीकों का विकास होगा। नई चीजों को स्वीकार किया जाएगा। जो पुरानी शिक्षा प्रणाली को Disrupt यानि विघटित करेगा।

4. Agriculture (कृषि)

कृषि कार्यों में नई-नई तकनीकों का उपयोग किया जा रहा है। जिसमें Sensors और सेंसर से बने उपकरण Drone के जरिए फसलों पर छिड़काव और कृषि वैज्ञानिक से Online फसल संबंधी जानकारी लेना शामिल है। पुराने समय में बुवाई, जुताई, कटाई जैसे कार्य कड़ी मेहनत कर बैलों के साथ किसान किया करते थे। परंतु वही सभी कार्य आदि Tractor, Crane, Robotics के जरिए हो रहे हैं।

Disruptive Technology का कैसे पता करें?

विघटनकारी प्रौद्योगिकी का पता किसी उत्पाद का लोगों के द्वारा अलग-अलग कार्यों में उपयोग करने हेतु लगाया जा सकता है। जिन उत्पाद को उसी कार्य हेतु उपयोग में लाया जाता था। उससे कई ज्यादा वैल्यू नया उत्पाद ग्राहकों को देता है। ग्राहकों के पूरी तरह से अलग समूह को सेवा देता है। ऐसे हम Disruptive Technology का पता कर सकते हैं।

वहीं उपभोक्ताओं की बढ़ती मांग के आधार पर उत्पाद में सुधार लाना सतत प्रौद्योगिकी यानि की ‘Sustaining Technology’ कहलाता है।

विघटनकारी प्रौद्योगिकी के फायदे और नुकसान- Benefits of Disruptive Technology

विघटनकारी प्रौद्योगिकी के फायदे:

  1. बिजनेस मॉडल, उद्योगों, उपभोक्ताओं को नए उत्पाद बनाने हेतु कई गुना लाभ होता है।
  2. नए बिजनेस को लाभ पहुंचता है जैसे कि स्टार्टअप्स इत्यादि।
  3. बिजनेस में वृद्धि होती है।

विघटनकारी प्रौद्योगिकी के नुक़सान:

  1. धीरे-धीरे आवश्यक सुधार व्यवसाय उत्पाद में लाए जाते हैं। जिससे कई बड़े बिजनेस अपने ग्राहक खो देते हैं।
  2. शुरुआती सुधारों के चलते ग्राहकों का Product या Service से भरोसा उठ जाता है। जो नुकसान का कारण बनता है।
  3. विघटनकारी प्रौद्योगिकी को अपना Marketplace ढूंढने में समय लगता है। नए सुधारों के साथ मार्केट में उत्पाद को उतारा जाता है।

निष्कर्ष-

वर्तमान में जो Disruptive Technology सबसे ज्यादा चर्चा में है। वह 5जी इंटरनेट सर्विस, ब्लॉकचेन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), 3D प्रिंटिंग, internet-of-things (IOT) है। जो आने वाले वर्षों में पूरे बिजनेस मॉडल को बदलने वाली है। पुरानी प्रौद्योगिकी को छोड़ बिजनेस और उपभोक्ता अपने हर कार्य में नई तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं। जो हर तरीके से लाभ देती है भविष्य में हम बहुत ही Disruptive Technology से परिचित होंगे।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी Disruptive Technology क्या है? विषय से संबंधित आर्टिकल पसंद आया होगा। आपकी प्रतिक्रिया हमें नीचे कमेंट के जरिए दें। अपने मित्रों को इसे शेयर करें।

मेरा नाम Abhishek है। इस ब्लॉग का संस्थापक और लेखक हूं। मै Yoabby.com पर सभी आर्टिकल को हिंदी भाषा में लिखता हूं। मुझे लिखने का बहुत पहले से ही शौक था। ब्लॉगिंग के द्वारा मैं अपने शौक को भी पूरा कर रहा हूं। और साथ ही YoAbby.com पर आए लोगों को टेक्नोलॉजी के बारे में हिंदी भाषा में आर्टिकल उपलब्ध करवा रहा हूं।

Leave a Comment